BSP सुप्रीमो मायावती ने 3 जून को दिल्ली में बुलाई बैठक, गठबंधन का भविष्य होगा तय!

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 31, 2019, 6:43 PM IST

बसपा प्रमुख मायावती ने 3 जून को दिल्ली में बैठक बुलाई है. इस बैठक में नवनिर्वाचित सांसद, लोकसभा प्रत्याशी, जोन इंचार्ज सहित सभी जिलाध्यक्ष बुलाये गये हैं. बताया जा रहा है कि मायावती की बैठक में चुनाव की समीक्षा के साथ ही गठबंधन का भविष्य तय करेगा.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने 3 जून को दिल्ली में बैठक बुलाई है. इस बैठक में नवनिर्वाचित सांसद, लोकसभा प्रत्याशी, जोन इंचार्ज सहित सभी जिलाध्यक्ष बुलाये गये हैं. बताया जा रहा है कि मायावती की बैठक में चुनाव की समीक्षा के साथ ही गठबंधन का भविष्य तय करेगा. साथ ही यूपी में होने वाले उपचुनाव की रणनीति बनाई जाएगी.

उधर लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी काम करने वालों के खिलाफ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) एक्शन मोड में आ गई है. बसपा सुप्रीमो मायावती ने ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. मायावती ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई सीटों पर पार्टी विरोधी काम करने और विपक्षी उम्मीदवारों के पक्ष में माहौल बनाने के आरोप में पार्टी के पूर्व विधायक इकबाल अहमद ठेकेदार को पार्टी से निष्कासित कर दिया है. कहा जा रहा है कि इकबाल अहमद ने चुनाव के दौरान बिजनौर में बीएसपी प्रत्याशी मलूक नागर के बजाए कांग्रेस प्रत्याशी नसीमुद्दीन सिद्दीकी का समर्थन किया था. मालूम हो कि इससे पहले पार्टी ने विधायक रामबीर उपाध्याय को निलंबित कर दिया था.

चुनावी प्रदर्शन से मायावती खुश नहीं

सूत्रों का कहना है कि 10 सीट पर जीत मिलने के बाद भी मायावती चुनाव परिणाम से खुश नहीं हैं. मायावती के अनुसार, सपा और आरएलडी से गठबंधन करने के बाद भी आशा के अनुरूप परिणाम नहीं आए. इससे वो बहुत नाराज हैं. यही वजह है कि वो पार्टी के विरोध काम करने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही हैं.

2007 और 2012 में बीएसपी के टिकट बने थे विधायक

दरअसल, इकबाल ठेकेदार 2007 और 2012 में बीएसपी के टिकट पर चांदपुर के विधायक बने थे. हालांकि, 2017 में वह हार गए थे. इस बार वह लोकसभा चुनाव में बिजनौर लोकसभा सीट से बीएसपी से टिकट मांग रहे थे लेकिन उनकी मांग को दरकिनार कर पार्टी हाईकमान ने एसपी से आईं पूर्व विधायक रुचिवीरा को बिजनौर लोकसभा सीट का प्रभारी घोषित कर दिया.

ये भी पढ़ें:
Loading...

टीम मोदी 2.0 में फिर यूपी का दबदबा, लेकिन इन्हें नहीं मिल पाई जगह

यूपी को-ऑपरेटिव भर्ती में फर्जीवाड़ा: अखिलेश सरकार में नियुक्त किए गए 50 सहायक प्रबंधक बर्खास्त

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 31, 2019, 10:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...