लाइव टीवी

मायावती ने दिखाई दरियादिली, गेस्ट हाउस कांड में मुलायम के खिलाफ केस लिया वापस!

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 8, 2019, 12:05 PM IST
मायावती ने दिखाई दरियादिली, गेस्ट हाउस कांड में मुलायम के खिलाफ केस लिया वापस!
अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के साथ मायावती

सूत्रों के अनुसार मायावती ने केस वापसी के लिए इसी साल फरवरी में ये शपथ पत्र दिया था. हालांकि बीएसपी की तरफ से इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.

  • Share this:
लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती (BSP Supremo Mayawati) ने दरियादिली दिखाते हुए समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के खिलाफ गेस्ट हाउस कांड (Guest House Case) में दर्ज मुकदमा वापस लेने के लिए शपथ पत्र दिया है. सूत्रों के अनुसार मायावती ने केस वापसी के लिए बीते फरवरी में ही शपथ पत्र दिया था. हालांकि बीएसपी की तरफ से इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. सूत्रों के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले हुए गठबंधन के दौरान एसपी और बीएसपी के बीच इस बात पर फैसला हुआ था. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने मायावती से गेस्ट हाउस केस में मुलायम के खिलाफ केस वापस लेने की बात कही थी. जिसके बाद फरवरी में ही मायावती ने मुलायम के खिलाफ केस वापस लेने का शपथ पत्र दे दिया था. लेकिन इस बात को मीडिया में लीक नहीं किया गया.

अखिलेश ने मायावती से मुकदमा वापस लेने का आग्रह किया था

सूत्रों के मुताबिक इसी साल जनवरी में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच हुए गठबंधन के बाद अखिलेश यादव ने मुलायम सिंह यादव के खिलाफ गेस्ट हाउस कांड में मुकदमा वापस लेने का आग्रह किया था. जिसके बाद फरवरी में केस वापस लेने का शपथ पत्र दे दिया गया, लेकिन इसे गोपनीय रखा गया. इस मामले में जब एक सीनियर बीएसपी नेता से बात की गई तो उन्होंने कुछ भी बोलने से इनकार किया.

why uttar pradesh by election result 2019 is alarming for bahujan samaj party and mayawati
लोकसभा चुनाव 2019 में एसपी और बीएसपी ने गठबंधन कर उत्तर प्रदेश में साथ मिलकर चुनाव प्रचार किया था (फाइल फोटो)


बता दें लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में एसपी-बीएसपी की साझा रैली में मायावती ने कहा था कि वो गेस्ट हाउस कांड को भुलाने और माफ करने के लिए तैयार हैं.

बता दें वर्ष 1995 में मुलायम सिंह सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद लखनऊ के गेस्ट हाउस में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मायावती पर जानलेवा हमला किया था. इस घटना के बाद दोनों पार्टियों के बीच पुरानी अदावत चल रही थी. लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले दोनों दल अपनी इस दुश्मनी को भुलाते हुए एक साथ आए थे. लेकिन लोकसभा चुनाव में मनमुताबिक परिणाम न आने पर मायावती ने अखिलेश के साथ गठबंधन तोड़ दिया था. लेकिन गठबंधन टूटने के बाद मुकदमा वापसी की अटकलों से सियासी गलियारों में सुगबुगाहट तेज हो गई है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

मायावती बोलीं- बसपा का मनोबल गिराने के लिए बीजेपी और सपा ने उपचुनाव में हराया

मायावती ने सपा को बताया मुस्लिम विरोधी, दानिश अली को बनाया संसदीय दल का नेता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 10:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...