केंद्र सरकार ने अब उदित राज, राम शंकर कठेरिया सहित इन नेताओं की हटाई सुरक्षा

बता दें, राम शंकर कठेरिया को CISF की सुरक्षा मिली हुई थी, जिसे केंद्र सरकार ने वापस ले लिया है. वहीं पूर्व बसपा विधायक जयवीर सिंह का नाम भी केंद्र की लिस्ट से हटा दिया गया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 24, 2019, 6:04 PM IST
केंद्र सरकार ने अब उदित राज, राम शंकर कठेरिया सहित इन नेताओं की हटाई सुरक्षा
उदित राज और राम शंकर कठेरिया (File Photo)
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 24, 2019, 6:04 PM IST
केंद्र सरकार ने बुधवार को भी कई हाई प्रोफाइल नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली है. इसमें भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष राम शंकर कठेरिया (Ram Shankar Katheria) का नाम भी शामिल है. बता दें, राम शंकर कठेरिया इटावा लोकसभा सीट से बीजेपी के सांसद हैं.

बुधवार को बीजेपी और दूसरी पार्टियों के जिन नेताओं की सुरक्षा हटाई गई है, उनमें यूपी सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक, बसपा सरकार में मंत्री रहे जयवीर सिंह, लोकसभा के पूर्व सांसद उदित राज, पूर्व सांसद कंवर सिंह तंवर, पूर्व सांसद केपी सिंह का नाम शामिल हैं.

बता दें, राम शंकर कठेरिया को CISF की सुरक्षा मिली हुई थी, जिसे केंद्र सरकार ने वापस ले लिया है. वहीं पूर्व बसपा विधायक जयवीर सिंह का नाम भी केंद्र की लिस्ट से हटा दिया गया है.


गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने दूसरी पार्टियों के भी कई बड़े नेताओं की सुरक्षा वापस ली है, जिनमें लालू प्रसाद यादव और पप्पू यादव के नाम भी शामिल हैं. मंगलवार को यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के साथ संगीत सोम, सुरेश राणा और साक्षी महाराज से भी सुरक्षा वापल ले ली थी.. इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी के दिग्गज नेता सतीश चंद्र मिश्रा की सुरक्षा भी हटाए जाने के आदेश दिए गए थे.

अखिलेश यादव की सुरक्षा व्यवस्था पर भी अटकलें
इससे पहले यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की सुरक्षा व्यवस्था पर भी खबर आई थी. अखिलेश यादव को जेड प्लस श्रेणी के तहत मिली ब्लैक कैट सुरक्षा वापस ली जाएगी. सूत्रों के हवाले से मिल रही खबर के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हाल ही में सीआरपीएफ के तहत सुरक्षा प्राप्त वीआईपी लोगों की सुरक्षा की व्यापक समीक्षा की. इसके बाद सपा अध्यक्ष को दी गई एनएसजी कवर वापस लेने का फैसला किया गया.

अखिलेश की सुरक्षा में 22 कमांडो तैनात
Loading...

गौरतलब है कि केंद्र की तत्कालीन संप्रग सरकार ने 2012 में अखिलेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें यह सुरक्षा मुहैया कराई थी. वर्तमान में अत्याधुनिक हथियारों से लैस 22 एनएसजी कमांडो का एक दल अखिलेश के साथ तैनात रहता है.

ये भी पढ़ें--

जमुई में गोली मारकर भाग रहे युवक की लोगों ने की पीट पीटकर हत्या

दिल्ली: निठल्ले, लापरवाह और भ्रष्ट पुलिसवालों को जबरन किया जाएगा रिटायर

जानिए कौन है यह बच्चा, जिसके साथ संसद में खेल रहे हैं पीएम नरेंद्र मोदी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 5:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...