अपना शहर चुनें

States

Lucknow News: बर्ड फ्लू की आहट से अंडा-चिकन का कारोबार धड़ाम! कीमत में आई बड़ी गिरावट

देश के 6 राज्‍य बर्ड फ्लू से प्रभावित हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
देश के 6 राज्‍य बर्ड फ्लू से प्रभावित हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

बर्ड फ्लू (Bird Flu) की खबरों के बीच चिकन (Chicken) और अंडे (Egg) का कारोबार चौपट होने लगा है. यही नहीं, चिकन की कीमत 40 रुपये प्रति किलो की गिरावट आई है, तो अंडे के रेट भी कम हुए हैं.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में बर्ड फ्लू (Bird Flu) की खबरों के बीच चिकन (Chicken) के कारोबार और अंडों के कारोबार पर बड़ा असर पड़ा है. चिकन कारोबारी बर्ड फ्लू की खबरों से बेहद परेशान हैं. लखनऊ के चिकन मीट कारोबारी कबीर कहते हैं कि बर्ड फ्लू की आशंकाओं के चलते कारोबार बुरी तरह चौपट होने लगा है. कारोबारी ने दावा किया बर्ड फ्लू कभी भी मुर्गे से या फिर अंडे (Egg) से नहीं फैलता बल्कि विदेशी पक्षियों और कौवों से फैलता है. हालांकि दहशत का आलम यह है कि लोगों ने चिकन खाने से परहेज करना शुरू कर दिया है.

कारोबारी कबीर ने कहा कि जो चिकन का मीट 3 दिन पहले तक 180 से 190 रुपये प्रति किलो फुटकर में बिक रहा था, वह अब सीधे 40 रुपये के नुकसान के साथ 130 से 140 रुपये प्रति किलो बिक रहा है. जबकि ऐसा ही कुछ हाल अंडों का भी है. पहले अंडे की एक ट्रे 190 से 200 तक बिक रही थी और अब वह अब 130 से 140 में बिक रही है.

कोरोना से उबरे नहीं थे कि...
कारोबारी कबीर के मुताबिक, बर्ड फ्लू खबरों का असर इतनी तेजी से हुआ है कि अब दुकानों पर सन्नाटा पसरने लगा है. उन्होंने कहा कि अभी हम कोरोना की महामारी से उबर भी नहीं पाए थे, लेकिन जैसे ही बाजार नॉर्मल होने लगा अब बर्ड फ्लू की खबरों से हमारा धंधा चौपट हो रहा है. कारोबारी कहते हैं कि फिलहाल सरकार की गाइडलाइन का पूरा पालन कराया जा रहा है. दुकानों पर हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं. जबकि पोल्ट्री फॉर्म में भी जानवरों को दवाई खिलाई जा रही है, लेकिन फिर भी व्यापार तेज़ी से चौपट हो रहा है. चिकन खरीदने आए खरीददार भी इस बीमारी के डर से चिकन कम खा रहे हैं.
बहरहाल, चिकन हो या अंडा बाजार में दोनों की ही डिमांड कम हो गई है, लेकिन होलसेलर से ज़्यादा पोल्ट्री फर्म मालिक परेशान हैं. देश में 20 करोड़ रुपये से ज़्यादा का यह कारोबार एक सरकारी आदेश पर टिका होता है. साल 2006 से तो कुछ ऐसा ही हुआ था जब पहली बार बर्ड फ्लू ने दस्तक दी थी. बर्ड फ्लू घोषित होते ही सरकार सभी मुर्गियों और अंडों को जमीन में दबाने के आदेश जारी कर देती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज