लाइव टीवी

सीएम योगी बोले- एयर स्ट्राइक के बाद बदल गई पाकिस्तान की भाषा, PoK जाने का खतरा

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 7:18 PM IST
सीएम योगी बोले- एयर स्ट्राइक के बाद बदल गई पाकिस्तान की भाषा, PoK जाने का खतरा
एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की बदल गई भाषा

जागरुकता रैली को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि CAA नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं. उन्होंने कहा कि यह कानून किसी भाषा, जाति या मजहब का विरोधी नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 7:18 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) मंगलवार को बिहार के गया में जागरुकता रैली को जनसभा को संबोधित किया. इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि पाकिस्तान (Pakistan) के बालाकोट (Balakot) में भारतीय वायुसेना के वीर जवानों द्वारा एयर स्ट्राइक के बाद अब पाकिस्तान की भाषा ही बदल गई है. योगी ने कहा कि आज पाकिस्तान डर रहा है और वहां की सरकार को डर है कि भारत PoK को वापस ले सकता है. उन्होंने कहा कि अब उसे डर है कि कही पाकिस्तान का विभाजन ना हो जाए.

जागरुकता रैली को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि CAA नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं. उन्होंने कहा कि यह कानून किसी भाषा, जाति या मजहब का विरोधी नहीं है. वहीं कुछ मुट्टी भर लोग नागरिकता संसोधन अधिनियम के बारे में गलत भ्रम फला रहे है. मुख्यमंत्री योगी ने कांग्रेस पर ज़ोरदार हमला करते हुए कहा कि 1947 में हुए देश के विभाजन की जिम्मेदार कांग्रेस है. कांग्रेस की सत्ता पाने की लालसा देश के विभाजन का कारण बनी. 1947 से लेकर आज तक बढ़ती मुस्लिम आबादी से किसी को आपत्ति नहीं हुई और आबादी इसलिए बढ़ पाई क्योंकि उन्हें भारत में विशेषाधिकार और सुविधाएं दी गईं.

दूसरी तरफ पाकिस्तान में आज़ादी के समय 23 प्रतिशत हिंदू आबादी थी और आज वहां हिंदुओं की आबादी मात्र 1 प्रतिशत रह गई है. यह हिंदू मार दिए गए, भगा दिेए गए या इनका धर्मांतरण कर दिया गया। यही पाकिस्तान की सच्चाई है. उन्होंने कहा कि दोनों देश में अल्पसंख्यकों की रक्षा करने के लिए समझौता भी किया गया. भारत ने समझौते का पालन किया लेकिन पाकिस्तान ने नहीं निभाया.


पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न के कारण वहां से विस्थापित हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और इसाई धर्म के लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी. जिन्होंने 31 दिसंबर 2014 की निर्णायक तारीख तक भारत में प्रवेश कर लिया था, वे सभी भारत की नागरिकता के पात्र होंगे.

रैली में यूपी सीएम बोले कि 1950 में हुए नेहरु-लियाकत समझौते के अनुसार दोनों देश अपने यहां रहने वाले अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करेंगे और उन्हें अपने धर्म के सम्मान और रक्षा की पूरी छूट दी जाएगी. लेकिन पाकिस्तान में ये समझौता पूरी तरह फेल हो गया. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आतंकवादियों द्वारा हमला हुआ था तब कांग्रेस ने कहा था कि पाकिस्तान पर हमला नहीं कर सकते क्योंकि पाकिस्तान के पास परमाणु बम हैं.

फरवरी 2019 में जम्मू कश्मीर में एक आतंकी घटना के बाद देश के जवानों ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकी ठिकानों का सफाया किया था उसके बाद पाकिस्तान की भाषा ही बदल गई थी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को यह डर था कि कहीं भारत हम पर हमला न कर दे। यह है देश की ताकत जिसका एहसास मोदी जी ने पूरी दुनिया को कराया है.मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि नागरिकता कानून भारत की उस परम्परा का हिस्सा है जिसमें हम शरण में आए हुए की रक्षा करते हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने मकान, रसोई गैस के कनेक्शन, किसान सम्मान निधि, विद्युत कनेक्शन आयुष्मान भारत के तहत 5 लाख तक का इलाज देते समय किसी से जाति, मजहब, क्षेत्र या भाषा नहीं पूछी तो किस बात का आरोप उन पर लग रहा है.

ये भी पढे़ं:

ICC महिला T20 वर्ल्ड कप में अपना जलवा बिखेरेंगी जौनपुर की दो बेटियां राधा यादव और शिखा पांडे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 3:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर