सीएम योगी के बाल भिक्षु अभियान का दिखा असर, लखनऊ की सड़कों पर पकड़े गए कई बच्चे और महिलाएं

लखनऊ में सड़क पर भीख मांगने वाले बच्चों को पकड़ने का अभियान चलाया गया.

लखनऊ में सड़क पर भीख मांगने वाले बच्चों को पकड़ने का अभियान चलाया गया.

Lucknow: राजधानी लखनऊ की सड़कों पर मंगलवार को बाल भिक्षु अभियान के तहत छापेमारी की गई. इस दौरान भीख मांगते कई बच्चे और महिलाओं को पकड़ा गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 7:47 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग (State Child Rights Protection Commission) की सदस्य डॉ. प्रीति वर्मा ने शहर में कई सड़कों पर बाल भिक्षु अभियान के छापेमारी की और कई बच्चों को पकड़ा. इस दौरान बापू भवन-विधानसभा के आसपास चौराहे, आईटी चौराहा आदि स्थानों पर ये छापेमारी की गई. अभियान के दौरान भीख मांग रहे कई बच्चों और 6 महिलायें जो इनसे भीख मंगवा रही थीं को पकड़ा गया. इसके बाद प्राथमिक कार्रवाई और पुनर्वास के लिए प्रयाग नारायण रोड स्थित राजकीय बाल गृह (शिशु) भिजवाया गया. इस दौरान डॉ. प्रीति वर्मा ने बच्चों को खाने के लिए फूड पैकेट वितरित किए.

डॉ. प्रीति वर्मा ने कहा कि ये पूरी तरह बाल श्रम की तरह ही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशा-निर्देश और उनके बाल भिक्षु अभियान के तहत बाल आयोग की टीम तेजी से कार्य कर रही हैं. ताकि  बाल भिक्षुओं को बेहतर शिक्षा और जीवन मिल सके और भिखारियों के माफियाओं (जिनका पेशा ही भीख मांगना है) पर लगाम लगाई जा सके. इसी कड़ी में आज टीम ने बच्चों को पकड़ा है.

Youtube Video


उन्होंने बताया कि भीख मांगने वालों में से ही कुछ ने 2 से तीन माह के बच्चों की स्थिति को बहुत ही दायनीय बना रखा थी. बच्चों के सिर के नाज़ुक हिस्से को लेप से कवर किया हुआ था और गले में अनगिनत कसे हुए धागे से बच्चे की स्थिति को बद से बदतर बनाकर रखा हुआ था.
'छोड़ दीजिए-अब नहीं मांगेंगे भीख'

इस दौरान इन बच्चों का अभिभावक बताने वाले भिखारियों का समूह एकत्रित हो गया. ये बच्चों को छोड़ने और दोबारा भीख ना मांगने की बात करने लगे. दूसरी तरफ निरीक्षण के दौरान भीख मांगने वालों पर दहशत का माहौल बन गया. सभी इधर-उधर भागते दिखाई दिए. इन बच्चों में ढाई साल से लेकर 15 साल तक के लड़के और लड़कियां भीख मांगते दिखाई दिए.

child labour2
लखनऊ में सड़क पर भीख मांगने वाले बच्चों को पकड़ने का अभियान चलाया गया.




बाल भिक्षावृत्ति पर लगे अंकुश

बता दें पूरे यूपी में बाल भिक्षावृत्ति पर अंकुश लगाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाल भिक्षु अभियान की शुरूआत की है. डॉ प्रीति इससे पहले भी कई बार बाल भिक्षुओं को भीख मांगने के पेशे से मुक्ति दिलाने के लिए अन्य जिलों के चौक-चौराहों पर दल-बल के साथ जा चुकी हैं. डॉ. प्रीति वर्मा का साफ कहना है कि इनके माफिया, जो बच्चों को भीख मांगने पर विवश कर रहे हैं, उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने बताया कि पकड़े गए बच्चों से पूछताछ कर, उनके गांव-घर का पता लगाया जाएगा कि वो कहां से और कैसे आएं हैं? बच्चों को उनके घर भिजवाया जाएगा और माता-पिता को सरकारी योजनाओं से जोड़ा जाएगा. इसके साथ ही संबंधित गृह क्षेत्र के जिम्मेदार जन प्रतिनिधि जैसे प्रधान या सभासद आदि को सूचित कर उनकी जिम्मेदारी तय की जाएगी कि भविष्य में ये बच्चे भीख ना मांगें.

राहगीरों ने की सराहना

बच्चों को पकड़ने के क्रम में कई बच्चे चीख-चीखकर रोने लगे. डॉ. प्रीति वर्मा ने बच्चों को गोद में उठाकर उन्हें प्यार से समझाया. ये नजारा देख आने-जाने वाले राहगीरों ने उनकी सराहना की. इस कार्रवाई के दौरान सीडब्लूसी (चाइल्ड वेलफेयर कमेटी) की सदस्या डॉ. संगीता शर्मा व चाइल्ड लाइन की टीम से विजय, नवीन और काजल मौजूद रहे. सभी ने दृढ़ता व साहस के साथ बच्चों को पकड़ा.

जनजागरूकता और सहभागिता की अपील

डॉ प्रीति वर्मा ने उस मौके पर अपील की कि जनजागरूकता और जन सहभागिता से ही बाल भिक्षावृत्ति पर लगाम लगाना संभव है इसलिए बच्चों को पैसे नहीं, आपके समय और प्यार की जरूरत है. जब भी किसी बच्चे को ऐसी हालत में देखें तो उसे वहीं रोके और 1098 चाइल्ड लाइन नंबर या जिले की बाल कल्याण समिति को सूचित करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज