लाइव टीवी

यूपी में SMOG: पराली, कूड़ा जलाने पर लगाएं अंकुश, किसानों को करें जागरूक: सीएम योगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 2, 2019, 9:41 AM IST
यूपी में SMOG: पराली, कूड़ा जलाने पर लगाएं अंकुश, किसानों को करें जागरूक: सीएम योगी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में बढ़ रहे वायु प्रदूषण और धुंध को लेकर आपात बैठक में कई बड़े निर्देश दिए हैं.

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने वायु प्रदूषण (Air Pollution) की खराब स्थिति वाले शहरों को लेकर संबंधित कमिश्नर और डीएम को निर्देश दिए कि पराली (Stubble) जलाना, कूड़ा जलाना, निर्माण कार्यों से होने वाले वायु प्रदूषण, विद्युत आपूर्ति के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले जनरेटरों के प्रयोग अंकुश लगाएं.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) के बढ़ते स्तर और धुंध (SMOG) को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने लोक भवन में आपात बैठक बुलाई. इस बैठक में सीएम ने प्रदेश में वायु प्रदूषण की स्थिति और इससे निपटने के लिए हो रहे उपायों की समीक्षा की. इस दौरान सीएम ने वायु प्रदूषण की खराब स्थिति वाले शहरों को लेकर संबंधित कमिश्नर और डीएम को निर्देश दिए कि पराली (Stubble) जलाना, कूड़ा जलाना, निर्माण कार्यों से होने वाले वायु प्रदूषण, विद्युत आपूर्ति के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले जनरेटरों के प्रयोग अंकुश लगाएं.

सीएम ने कहा कि परिवहन, ट्रैफिक, गृह, नगर विकास, राजकीय निर्माण, खनन, फायर सेफ्टी, शिक्षा, कृषि, खाद्य एवं रसद विभागों के साथ ही आवास विकास परिषद, यूपीपीसीएल, सीएनजी आपूर्तिकर्ता कम्पनियों, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, एनएचएआई सहित जिला प्रशासन मिलकर वायु प्रदूषण नियंत्रण के सभी उपाय अपनाएं.

कूड़ा जलाने वालों पर सख्त कार्रवाई करें डीएम

मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि शहरों में कूड़े का उचित निस्तारण सुनिश्चित किया जाए और इसे जलाने पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए. ऐसी शिकायत मिलने पर सम्बन्धित लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. उन्होंने निर्माणाधीन इकाइयों द्वारा वायु प्रदूषण रोकने के लिए सभी निर्धारित मानकों का अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

पराली न जलाने को लेकर चलाएं जागरुकता अभियान

मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग को निर्देश दिए कि सुनिश्चित करें कि किसान प्रदेश में कहीं भी पराली न जलाएं. किसानों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाएं. उन्होंने पराली को कम्पोस्ट में तब्दील करने की सम्भावनाओं को तलाशने के भी निर्देश दिए. सीएम ने नगर विकास विभाग को निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी हाल में कूड़ा जलाने की घटना न हो. उन्होंने कूड़ा जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए. उन्होंने कूड़े का उचित निस्तारण करने के भी निर्देश दिए.

वायु प्रदूषण की स्थिति की रोज करें समीक्षा
Loading...

मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क निर्माण की गतिविधि को अभी कम किया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि धूल व बिटुमिन से होने वाले प्रदूषण पर पूरी तरह से लगाम लगायी जाए. उन्होंने यूपीपीसीएल को डीजी सेट के कारण होने वाले प्रदूषण को रोकने के भी निर्देश दिए. उन्होंने बागपत, हापुड़, मेरठ, बुलन्दशहर, कानपुर, लखनऊ और वाराणसी के डीएम से अपने-अपने जनपदों में वायु प्रदूषण की स्थिति के निवारण हेतु उठाए गए कदमों के विषय में जानकारी ली और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए. साथ ही सभी कमिश्नर से वायु प्रदूषण की स्थिति, पराली और कूड़ा जलाने की घटनाओं की दैनिक समीक्षा करने के निर्देश दिए.

डेंगू की राेकथाम के लिए फिर से चलाएं अभियान

सीएम ने कहा कि कई जिलों से डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं. इनकी रोकथाम के लिए लोगों को पूरी तरह से जागरूक किया जाए और प्रभावित क्षेत्रों में छिड़काव सुनिश्चित किया जाए. डेंगू से बचाव के लिए पूर्व में संचारी रोगों की रोकथाम के सम्बन्ध में चलाए गए अभियान की तर्ज पर पुनः अभियान चलाया जाए.
इस अवसर पर प्रमुख सचिव वन एवं पर्यावरण कल्पना अवस्थी ने उत्तर प्रदेश में वायु प्रदूषण की स्थिति एवं निवारण हेतु किए जा रहे उपायों के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री जी के समक्ष एक प्रस्तुतिकरण भी दिया.
बैठक में मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार, प्रमुख सचिव लोक निर्माण नितिन रमेश गोकर्ण, प्रमुख सचिव परिवहन अरविन्द कुमार, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

ये भी पढ़ें:

उपचुनाव जीत के बाद गरजे आजम खान- अरे जालिमों चुल्लू भर पानी में डूब कर मर जाओ

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 9:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...