Home /News /uttar-pradesh /

cm yogi adityanath called meeting over flood given stick directions to officers upns

यूपी में बाढ़ की तैयारियों को लेकर CM योगी ने बुलाई बैठक, अफसरों को किया अलर्ट

सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि बाढ़/अतिवृष्टि की स्थिति पर सतत नजर रखी जाए. ( फाइल फोटो)

सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि बाढ़/अतिवृष्टि की स्थिति पर सतत नजर रखी जाए. ( फाइल फोटो)

बाढ़ के दौरान जिन गांवों में जलभराव की स्थिति बनेगी, वहां आवश्यकतानुसार पशुओं को अन्यत्र सुरक्षित स्थल पर शिफ्ट कराया जाए. इसके लिए जनपदों की स्थिति को देखते हुए स्थान का चयन कर लिया जाए. इन स्थलों पर पशु चारे की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए. पशुपालन विभाग द्वारा पशुओं का टीकाकरण समय से कराया जाना सुनिश्चित किया जाए. कंट्रोल रूम क्रियाशील रहे.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. प्रदेश में मानसून के एक्टिव होते ही योगी सरकार (Yogi government) अलर्ट हो गई है. इस बीच बाढ़ की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार सुबह 11:30 बजे 5 कालिदास मार्ग मुख्यमंत्री आवास पर बैठक अफसरों की बैठक बुलाई. सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि बाढ़/अतिवृष्टि की स्थिति पर सतत नजर रखी जाए. नदियों के जलस्तर की सतत मॉनीटरिंग की जाए. उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ/पीएसी तथा आपदा प्रबंधन टीमों को 24×7 एक्टिव मोड में रहें. आपदा प्रबंधन मित्र, सिविल डिफेंस के स्वयंसेवकों की आवश्यकतानुसार सहायता ली जानी चाहिए. इन्हें विधिवत प्रशिक्षण भी दिया जाए.

नौकाएं, राहत सामग्री आदि के प्रबंध समय से कर लें. बाढ़/अतिवृष्टि से पर प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों में देर न हो. प्रभावित परिवारों को हर जरूरी मदद तत्काल उपलब्ध कराई जाए. बाढ़ के दौरान और बाद में बीमारियों के प्रसार की संभावना बढ़ जाती है. ऐसे में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेष स्वास्थ्य किट तैयार करके जिलों में पहुंचा दिया जाए. क्लोरीन, ओआरएस, बुखार आदि की दवायें जरूर हों. वहीं कुत्ता काटने/सांप काटने की स्थिति में प्रभावित लोगों को तत्काल चिकित्सकीय मदद मिलनी चाहिए. लोगों को बताया जाए कि बाढ़ का पानी कतई न पिएं, जब भी पानी पियें उबाल कर छान कर पिएं. राहत शिविरों में चिकित्सकों की टीम विजिट करे. हमें कोरोना के प्रति भी सतर्क रहना होगा.

राहत सामग्री की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं
बाढ़ के दौरान जिन गांवों में जलभराव की स्थिति बनेगी, वहां आवश्यकतानुसार पशुओं को अन्यत्र सुरक्षित स्थल पर शिफ्ट कराया जाए. इसके लिए जनपदों की स्थिति को देखते हुए स्थान का चयन कर लिया जाए. इन स्थलों पर पशु चारे की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए. पशुपालन विभाग द्वारा पशुओं का टीकाकरण समय से कराया जाना सुनिश्चित किया जाए. कंट्रोल रूम क्रियाशील रहे. बाढ़ आपदा की स्थिति में यदि जरूरत पड़ती है तो अस्थायी राशन केंद्र भी संचालित करने होंगे. खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा इनके संचालन की व्यवस्था पूर्व से ही कर लिया जाए. बाढ़ प्रभावित लोगों को दी जाने वाली राहत सामग्री की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं होना चाहिए. राहत आयुक्त स्तर से खाद्य सामग्री की गुणवत्ता सुनिश्चित की जाए. राहत सामग्री का पैकेट मजबूत हो, लोगों को कैरी करने में आसानी हो. राहत शिविरों में पेट्रोमैक्स आदि के माध्यम से रात्रि में प्रकाश की उपलब्धता बनी रहे.

महिलाओं की सुरक्षा का हो पुख्ता इंतजाम
प्रभावित क्षेत्रों में महिलाओं/बालिकाओं सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम होने चाहिए. ऐसे में पुलिस बल की सक्रियता आवश्यक है. फील्ड में तैनात कर्मियों के भोजन आदि की भी व्यवस्था रहे. बाढ़/अतिवृष्टि के कारण कृषि फसलों की क्षति की स्थिति में किसान को यथाशीघ्र राहत दिलाई जाए. क्षति का आकलन करायें तत्काल मदद पहुंचाएं. नदियों के चैनेलाइजेशन के लिए ड्रोन आदि नवीनतम तकनीक का प्रयोग करते हुए समय से कार्ययोजना बना लेनी चाहिए. स्थानीय जनप्रतिनिधियों के मार्गदर्शन लेते रहें.

Tags: CM Yogi, Flood alert, Heavy Rainfall, Lucknow News Today, UP news, UP Weather, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर