प्रवासी कामगारों के लिए योगी सरकार का एक और तोहफा, अब रोजगार के साथ घर देने की तैयारी
Lucknow News in Hindi

प्रवासी कामगारों के लिए योगी सरकार का एक और तोहफा, अब रोजगार के साथ घर देने की तैयारी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी लौट रहे आवासहीन कामगारों के लिए आवास प्लस योजना के तहत घर मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं. यह योजना ग्रामीण क्षेत्र के प्रवासी कामगारों के लिए होगी.

  • Share this:
लखनऊ. लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से अन्य प्रदेशों से यूपी लौटे प्रवासी श्रमिकों व कामगारों (Migrant workers) के लिए सूबे की योगी सरकार (Yogi Adityanath Government) एक और तोहफा देने जा रही है. अपने गांव लौट रहे आवासहीन प्रवासी कामगारों को आवास प्लस योजना (Awas Plus Scheme) के तहत प्राथमिकता के तौर पर घर उपलब्ध करवाया जाएगा. हालांकि प्रतिमाह की जगह अब प्रवासी कामगारों और श्रमिकों को एक बार ही 1000 रुपए की सहायता दी जाएगी.

आवास प्लस योजना के तहत मिलेगा घर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी लौट रहे आवासहीन कामगारों के लिए आवास प्लस योजना के तहत घर मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं. यह योजना ग्रामीण क्षेत्र के प्रवासी कामगारों के लिए होगी. इसके तहत गांवों में पंजीकरण भी शुरू हो गया है. बता दें अब तक अलग-अलग राज्यों से प्रदेश में करीब 25 लाख से ज्यादा प्रवासी कामगार यूपी लौटे हैं. इनमें ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों के रहने वाले हैं. वापस लौटे इन परिवारों में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जिनके पास रहने को अपना घर नहीं है. ऐसे में इन लोगों के सामने रहने की एक बड़ी समस्या है.



अब तक इतनों ने कराया पंजीकरण
ग्राम्य विकास आयुक्त रवीन्द्र नाईक ने बताया कि जिन आवासहीन प्रवासियों का आवास प्लस योजना के तहत पंजीकरण कराया गया है, उन्हें आवास उपलब्ध कराया जाएगा. उन्होंने उम्मीद जताई है कि जल्द ही केंद्र सरकार से इस योजना के लिए चालू वर्ष का लक्ष्य प्राप्त हो जाएगा.उन्होंने बताया कि प्रवासियों के अलावा अब तक 54 लाख 31 हजार लोगों ने आवास प्लस योजना के तहत पंजीकरण करवाया है.

प्रवासी श्रमिकों को अब सिर्फ एक बार 1000 रुपए की सहायता

इतना ही नहीं योगी सरकार प्रवासी श्रमिकों व कामगारों को एक बार 1000 रुपए का भुगतान करेगी. जिन्हें अभी तक भुगतान नहीं मिला है उनका ब्यौरा तैयार करने के निर्देश दिए हैं. बता दें इससे पहले सरकार ने प्रतिमाह 1000 रुपए मानदेय देने का ऐलान किया था.

ये भी पढ़ें:

KGMU में एड्स पीड़ित ने 6 दिनों में दी कोरोना को मात, अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज

यूपी में बढ़ सकती पंचायत चुनाव की तारीख, प्रधानों को मिल सकता है एक्सटेंशन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज