सीएम योगी ने बताया- पहली बार मिली विधायक निधि तो किया था ये काम

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 4, 2019, 7:17 PM IST
सीएम योगी ने बताया- पहली बार मिली विधायक निधि तो किया था ये काम
सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यूपी के 49 शिक्षकों को सम्मानित किया.

दरअसल उत्तर प्रदेश की राजधानी में बुधवार को शिक्षक सम्मान समारोह एवं प्रेरणा ऐप का लोकार्पण कार्यक्रम आयोजित हुआ. इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) प्रदेश के 49 शिक्षकों को सम्मानित करने पहुंचे थे.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी में बुधवार को शिक्षक सम्मान समारोह एवं प्रेरणा ऐप का लोकार्पण कार्यक्रम आयोजित हुआ. इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश के 49 शिक्षकों को सम्मानित किया. सीएम ने इस दौरान 49 शिक्षकों को अंगवस्त्र और 25,000 की राशि के साथ सम्मानित किया. सभी शिक्षकों को मां सरस्वती की प्रतिमा भी भेंट की गई. समारोह के दौरान सीएम ने प्रेरणा ऐप और मानव संपदा पोर्टल का उद्घाटन भी किया.

इस दौरान समारोह में सीएम योगी ने कहा कि सभी गुरुजनों का हृदय से अभिनंदन, समाज के संपर्क में बच्चा सबसे पहले शिक्षक के संपर्क में आता है. प्राथमिक शिक्षा सबसे पहले तराशती है. सीएम ने कहा कि पिछले ढाई वर्ष के दौरान जो काम हुआ है, उसके चलते भारत सरकार ने उत्तर प्रदेश को अवार्ड दिया है. एक शिक्षक के रूप में समाज के प्रति योगदान देने का सौभाग्य प्राप्त होता है तो अपना जीवन धन्य मानना चाहिए. प्राथमिक शिक्षा देने वाले शिक्षकों को छात्र कभी भूलते नहीं है. इस दौरान सीएम ने ऐलान किया कि अगली बार हम 75 जिलों से एक-एक शिक्षक को सम्मानित करेंगे.

उन्होंने कहा कि शिक्षिकाएं अच्छी शिक्षक साबित हो सकती हैं. अगर वे नियमित स्कूल जाएं तो मुझे बेहद खुशी होगी. महिला शिक्षकों की बहुत बड़ी भूमिका हो सकती है. इस बार 49 में मात्र 20 शिक्षिकाएं थीं. अगली बार महिला शिक्षकों की संख्या बढ़े. सम्मान देने के लिए मेरिट तय किया गया था. एक करोड़ 80 लाख बच्चे बेसिक शिक्षा से जुड़े हैं.

CM Yogi adi
सीएम योगी आदित्यनाथ यूपी के शिक्षकों को सम्मानित करते हुए.


एक घंटे पहले स्कूल पहुंचे शिक्षक- सीएम योगी

इस दौरान सीएम योगी ने बताया कि पहली विधायक निधि से उन्होंने प्राइमरी स्कूलों में बच्चों के लिए फर्नीचर उपलब्ध कराए थे. उन्होंने कहा कि कोई बच्चा निरक्षर रह जाता है तो समाज पर असर पड़ता है. शिक्षा को समग्रता के साथ जनांदोलन बनाया जाय. बच्चों को व्यावहारिक ज्ञान भी दिया जाय, जिससे बच्चा चुनौतियों से जूझ सके. सीएम ने कहा कि परिश्रम और पुरुषार्थ का कोई विकल्प नहीं हो सकता. एक घंटे पहले विद्यालय पहुंचें और बच्चों के भविष्य के लिए रणनीति तैयार करें. बच्चों के घर-घर जाएं और इसकी शुरुआत करें. सरकार द्वारा दी जाने वाली राशि पर केवल निर्भर न रहें बल्कि समाज से जुड़ कर काम करें.

'जनगणना कार्य से भागें नहीं शिक्षक'
Loading...

कार्यक्रम में सीएम योगी ने बेसिक शिक्षा के अधिकारियों की तारीफ की. उन्होंने कहा कि प्रेरणा ऐप पर शिक्षक शासन से जुड़ेगा और पारदर्शिता आएगी. शिक्षक बच्चों को सफाई के लिए प्रेरित करें और खुद भी सफाई करें. शिक्षक जनगणना कार्य से भागें नहीं, घर और समाज से जुड़ने का मौका मिलता है. सोच को बदलें. सीएम ने कहा कि शिक्षक घर-घर जाकर संवाद और संपर्क करें. शासन की योजनाएं लोगों को बताएं और शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ाएं.

ये भी पढ़ें:

वक्फ संपत्ति हड़पने के मामले में आजम के साथी वसीम रिजवी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

यूपी में कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में ये नाम चल रहे हैं सबसे आगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 6:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...