लाइव टीवी

यूपी सरकार का खाली खजाना भरने के लिए अब हेलीकॉप्टर से फील्ड विजिट करेंगे अधिकारी, सीएम योगी ने दिए निर्देश
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 2, 2020, 3:05 PM IST
यूपी सरकार का खाली खजाना भरने के लिए अब हेलीकॉप्टर से फील्ड विजिट करेंगे अधिकारी, सीएम योगी ने दिए निर्देश
सीएम योगी ने मीटिंग में अधिकारियों को रेवेन्यू बढ़ाने के दिए निर्देश

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि उत्तर प्रदेश एक बड़ा कंज़्यूमर स्टेट है. यहां GST और VAT के जरिये राजस्व संग्रह की अपार सम्भावनाएं हैं उन्होंने कहा कि राज्य में वर्तमान में लगभग 14 लाख व्यापारी पंजीकृत हैं जिन्हें 50 लाख तक किया जा सकता है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार के खाली खजाने को भरने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) के अफसर अब हेलीकॉप्टर से फील्ड विजिट करके सरकार का राजस्व (Revenue) बढ़ाएंगे. दरअसल सीएम योगी ने राजस्व से जुड़े विभागों की समीक्षा बैठक में आधिकारियों को रेवेन्यू बढ़ाने के निर्देश दिये हैं और इसके लिए उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को फील्ड विजिट (Field visit) करने को कहा है और विजिट के लिए हेलीकाप्टर (Helicopter) का उपयोग करने की भी सलाह दी है.

प्रदेश के 18 मंडलों की विजिट करेंगे वरिष्ठ अधिकारी
सीएम योगी ने राजस्व (Revenue) प्राप्तियों से जुड़े विभागों में सभी स्तरों पर सक्रियता लाने के लिए उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को फील्ड विज़िट करने के निर्देश देते हुए कहा कि अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर, प्रमुख सचिव आबकारी, प्रमुख सचिव स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन, प्रमुख सचिव ऊर्जा सभी प्रदेश के 18 मण्डलों की विजिट करें. सीएम ने कहा एक दिन में दो मंडलों का भ्रमण कर विभागीय समीक्षा करके हर स्तर पर अधिकारियों की जवाबदेही तय करें. सीएम ने कहा है कि मण्डलीय समीक्षा का कार्यक्रम 15 जनवरी 2020 तक शुरू कर दें. सरकार के खाली खजाने को भरने के लिए मुख्यमंत्री ने लंबित मामलों के लिए ‘वन टाइम सेटेलमेंट’ (One time settlement) जैसी कोई व्यवस्था करें जिससे लम्बित मामलों के निस्तारण के साथ-साथ शासन को राजस्व प्राप्ति भी हो सके.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश एक बड़ा कंज़्यूमर स्टेट है. यहां GST और VAT के जरिये राजस्व संग्रह की अपार सम्भावनाएं हैं उन्होंने कहा कि राज्य में वर्तमान में लगभग 14 लाख व्यापारी पंजीकृत हैं जिन्हें 50 लाख तक किया जा सकता है. सीएम की बैठक में राजस्व बढ़ाने के विषय में और भी चर्चाएं हुईं. गौरतलब है कि 2022 में राज्य में विधानसभा के चुनाव भी होने हैं और सरकार का खजाना खाली है ऐसे में राजस्व बढ़ाने के हर संभव उपाय सरकार आजमा लेना चाहती है. मीटिंग में मुख्य सचिव आर के तिवारी, अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल, प्रमुख सचिव ऊर्जा अरविन्द कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव आबकारी संजय भूसरेड्डी, प्रमुख सचिव परिवहन आरके सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे.

ये भी पढ़ें- कोटा में मासूमों की मौत पर सीएम योगी ने सोनिया, प्रियंका पर साधा निशाना, कही ये बात...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 3:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर