Corona की चेन तोड़ने के लिए CM योगी सख्‍त, दिए ये खास निर्देश
Lucknow News in Hindi

Corona की चेन तोड़ने के लिए CM योगी सख्‍त, दिए ये खास निर्देश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

उत्‍तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) का कहर जारी है. इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने कोरोना की चेन तोड़ने लिए कई अहम निर्देश दिए हैं.

  • Share this:
लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने कोविड-19 के संक्रमण (Covid-19 Infection) की चेन को तोड़ने के लिए सभी सावधानियां बरतने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि सर्विलांस, डोर-टू-डोर सर्वे और मेडिकल टेस्टिंग को और प्रभावी बनाया जाए. इस व्यवस्था को जितना सुदृढ़ किया जाएगा, कोविड-19 के विरुद्ध उतनी अधिक सफलता प्राप्त होगी.

कानपुर और गोरखपुर को लेकर दिया ये निर्देश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर नगर तथा गोरखपुर में कोविड-19 के टेस्ट की संख्या को बढ़ाने के निर्देश देते हुए कहा कि राज्य सरकार जनता को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कृत संकल्पित है. मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद लखनऊ और कानपुर नगर में कोविड-19 के नियंत्रण व इसकी उपचार व्यवस्था को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस में दिए गए निर्देशों को सख्ती से लागू किया जाए. इस सम्बन्ध में शिथिलता बरतने वालों की जवाबदेही तय की जाए.

सरकारी दफ्तरों को ई-ऑफिस प्रणाली से जोड़ा जाए : मुख्यमंत्री
इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना पर काबू करने के लिए कई निर्देशों के अलावा राज्य के सभी विभागों की कार्य संस्कृति को बेहतर बनाने पर जोर देते हुए सरकारी दफ्तरों को समयबद्ध ढंग से ई-ऑफिस प्रणाली से जोड़ने के निर्देश दिए हैं. सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने ‘अनलॉक’ व्यवस्था की समीक्षा करते हुए सभी विभागों की कार्य संस्कृति को बेहतर बनाने पर जोर दिया और कहा कि सरकारी कार्यालयों को समयबद्ध ढंग से ई-आफिस प्रणाली से जोड़ा जाए. निर्धारित प्रक्रिया के तहत शासकीय कार्यों में त्वरित निर्णय लिए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि विभागीय मुख्यालय सहित अधीनस्थ कार्यालयों में पत्रावलियां सात दिन से अधिक लम्बित न रहें. किसी पटल पर तीन दिन से अधिक पत्रावली लम्बित रहने पर सभी सम्बन्धित स्तरों पर जवाबदेही तय की जाए.



आकस्मिक निरीक्षण हो
योगी ने सरकारी कार्यालयों में कर्मियों की समय से एवं नियमित उपस्थिति सुनिश्चित किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि इस कार्यवाही की नियमित समीक्षा की जाए. इसके लिए वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण करते हुए प्रभावी कार्रवाई की जाए. प्रदेश सरकार के विभागों एवं उपक्रमों में भर्ती परीक्षाओं को नियमित एवं समयबद्ध ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए भारत सरकार की भांति राज्य में भी सभी भर्ती परीक्षाओं के संचालन के लिए एक एजेंसी का गठन किया जाए.

इसके अलावा मुख्यमंत्री अगस्त, 2019 के सापेक्ष अगस्त, 2020 में प्रदेश सरकार के राजस्व में लगभग 600 करोड़ रुपए की वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत भारत सरकार द्वारा जिन गतिविधियों पर रोक लगाई गई है, उन्हें छोड़कर शेष सभी प्रकार की औद्योगिक तथा व्यवसायिक गतिविधियों को प्रदेश में संचालित किया जाए. वहीं, सीएम ने  प्रदेश में 98.5 प्रतिशत औद्योगिक/व्यावसायिक इकाइयों के पूरी क्षमता से कार्यशील रहने पर संतोष व्यक्त करते हुए क्रियाशील शेष इकाइयों को भी उनकी पूरी क्षमता से चलाए जाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक रोजगार के अवसर सृजित करने के लिए प्रभावी कार्यवाही की जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज