2 दिन में दिखने लगी सीएम योगी की सख्ती, पैदल लौट रहे प्रवासी मज़दूरों को मिली बड़ी राहत
Lucknow News in Hindi

2 दिन में दिखने लगी सीएम योगी की सख्ती, पैदल लौट रहे प्रवासी मज़दूरों को मिली बड़ी राहत
प्रवासी मजदूरों से भरा दिखने वाला आगरा एक्सप्रेस वे अब ऐसा दिख रहा है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की सख्ती का 2 दिन में ही असर नजर आने लगा. पैदल आने वाले मजदूरों को आगरा एक्सप्रेसवे के बाहर ही रोक दिया जा रहा है. इन्हें लखनऊ की सीमा में दाखिल होने से पहले सिटी बसों के जरिए शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय के कैंप कार्यालय में भेजा जा रहा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
लखनऊ. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दूसरे राज्यों से अपने घरों की वापसी कर रहे प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) का मुद्दा इन दिनों काफी गरमाया हुआ है. मामले में सरकार और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. उधर यूपी में कई जगह श्रमिकों के साथ सड़क हादसे हुए, जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सख्ती दिखाते हुए अफसरों को हिदायत दी कि कोई भी मजदूर अब पैदल सड़कों पर नजर न आए. उन्होंने कहा कि इस मामले में कठोर कार्रवाई की जाएगी. इसके बाद आनन-फानन में सभी जिलों की सीमाओं को सील कर दिया गया.

आगरा एक्सप्रेस वे से सीधे सिटी बसों से कैंप कार्यालय

राजधानी लखनऊ में आगरा एक्सप्रेसवे से तमाम मजदूर पैदल शहर की सीमा में दाखिल हो रहे थे. शहर में आने के बाद ये मज़दूर इधर-उधर भटकते नजर आते थे लेकिन मुख्यमंत्री की सख्ती का 2 दिन में ही असर नजर आने लगा. शहर की सीमा सील होने के बाद जो मजदूर पैदल पलायन कर रहे थे उन्हें आगरा एक्सप्रेसवे के बाहर ही रोक दिया जा रहा है. इन मजदूरों को लखनऊ की सीमा में दाखिल होने से पहले सिटी बसों के जरिए आगरा एक्सप्रेसवे के पास बने शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय के कैंप कार्यालय में भेजा जा रहा है. जहां पर इन मजदूरों को नगर निगम की तरफ से भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है. इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की टीम भी वहां पर इन मजदूरों का हेल्थ चेकअप कर रही है. जिसके बाद इन मजदूरों को यहां से उनके गंतव्य पर भेजने की कवायद की जा रही है.



कैंप कार्यालय से जांच के बाद घर हो रहे रवाना



यहां यूपीएसआरटीसी ने अपनी दर्जनों बसें खड़ी रखी हैं, जिसमें बैठाकर इन मजदूरों को उनके घरों तक भेजा जा रहा है. शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय में पैदल आ रहे श्रमिकों के अलावा दूसरे वाहनों से आ रहे मजदूरों को भी लाया जा रहा है. इसके अलावा जो श्रमिक, श्रमिक एक्सप्रेस के जरिए ट्रेनों से लखनऊ पहुंच रहे हैं, उन्हें भी शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय कैंप कार्यालय में रखा जा रहा है.

व्यवस्था से संतुष्ट दिखे मजदूर

मजदूर भी यहां पर काफी संतुष्ट नजर आते हैं. वह कहते हैं अब उन्हें भटकना नहीं पड़ रहा है. बस से उनको यहां तक लाया जा रहा है. यहां पर खाने को मिल रहा है. बसों में बैठा कर उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है. जिस रूट पर यात्रियों की संख्या कम होती है तो यात्रियों के ठहरने के लिए भी अंदर कमरों में व्यवस्थाएं की गई है. यह मजदूर अंदर कमरों में बैठ जाते हैं और अपने रूट पर मजदूरों की संख्या बढ़ने का इंतजार करते हैं. इसी तरह दर्जनों बसों के जरिए आज भी इन मजदूरों को उनके गंतव्य तक भेजा जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

बस्ती COVID-19 update: 50 प्रवासी श्रमिक पाए गए कोरोना पॉजिटिव

COVID-19 Update: UP में सामने आए 237 और नए मामले, अब तक 2783 लोग हुए डिस्चार्ज
First published: May 19, 2020, 6:16 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading