सीएम योगी ने पिछली सरकारों पर जोरदार हमला कर किया अपनी सरकार की उपलब्धियों का बखान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछली सरकारों से अपनी सरकार की तुलना करते हुए उपलब्धियां बताईं. (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछली सरकारों से अपनी सरकार की तुलना करते हुए उपलब्धियां बताईं. (फाइल फोटो)

योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने परिवर्तन के लिए रुचि नहीं ली. अगर उन्होंने योजनाएं समयबद्ध ढंग से और ईमानदारी के साथ लागू की होतीं, तो बहुत बड़ा परिवर्तन किया जा सकता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 7:46 PM IST
  • Share this:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने पिछली सरकारों पर बड़ा हमला किया. उन्होंने पिछली सरकार और अपनी सरकार के कार्यों की तुलना करते हुए कहा कि यह वही उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) है, जिसमें आज से चार वर्ष पहले तक केंद्र सरकार (central government) की किसी भी योजना का स्थान नहीं होता था. ये सभी योजनाएं आम आदमी के जीवन में व्यापक परिवर्तन का कारक बनी हैं. उस समय भी बन सकती थीं. उन योजनाओं को समयबद्ध ढंग से तत्कालीन सरकार ईमानदारी के साथ लागू करती, तो बहुत बड़ा परिवर्तन किया जा सकता था. सरकारों ने रुचि नहीं ली या उससे पहले उस प्रकार की सोच नहीं थी.

विपक्ष की नाकामियां कीं रेखांकित

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार के चार साल पूरे होने पर अपने चिर-परिचित अंदाज में अपनी उपलब्धियां बताने के साथ विपक्ष की नाकामियां भी गिनाईं. उन्होंने कहा कि आज उत्तर प्रदेश बीमारू राज्य की श्रेणी से उभरकर देश की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में उभरा है. जिस उत्तर प्रदेश की आबादी सर्वाधिक थी, लेकिन जब अर्थव्यवस्था की बात आती थी, प्रदेश में निवेश की संभावनाओं की बात आती थी, निवेश अनुकूल वातावरण से जुड़े हुए मुद्दों की बात आती थी या उत्तर प्रदेश के प्रति व्यक्ति आय की बात आती थी, तो इसमें हमलोग प्रथम तीन स्थानों में कहीं नहीं टिकते थे.

व्यापक प्रयास के सार्थक परिणाम : सीएम योगी
उन्होंने कहा कि प्रदेश में आबादी अधिक होने के कारण बेरोजगारी की दर भी उतनी ही अधिक होती थी, लेकिन मुझे बताते हुए प्रसन्नता की अनुभूति है कि निवेश अनुकूल वातावरण बनाने में पूरी तरह सफल रहा. ईज ऑफ डूइंग बिजनेस यानी व्यवसाय की सुगमता में देश में 2015-16 में जो रैंकिंग हमारी 14वें स्थान पर थी, आज वह दूसरे स्थान पर है. देश की 2015-16 में उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था जो पांचवीं-छठी स्थान पर थी, आज वह देश में दूसरे अर्थव्यवस्था के रूप में उभरी है. हमने जो व्यापक प्रयास किए, रोजगार की व्यापक संभावनाओं को आगे बढ़ाया, प्रदेश में हर सेक्टर के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर, लोक कल्याण, एमएसएमई या कृषि क्षेत्र में जो कार्य हुए हैं, उसके बहुत सार्थक परिणाम आए हैं. आज उसका परिणाम है कि प्रति व्यक्ति आय भी दुगुने से अधिक मात्र चार वर्ष में देखने को मिला है.

केंद्र की योजनाओं में यूपी पहले स्थान पर : सीएम योगी

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के साथ मिलकर राज्य ने जो उपलब्धियां हासिल कीं, उसका परिणाम है कि आज हम लोग प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण और शहरी में नंबर एक स्थान पर हैं. स्वच्छ भारत मिशन दुनिया का सबसे बड़ा अभियान था, जिसमें प्रत्येक नागरिक के जीवन में परिवर्तन करने के साथ नारी गरिमा का प्रतीक बना. सबसे बड़ी चुनौती इस मार्ग में उत्तर प्रदेश थी. उत्तर प्रदेश ने 2017 से जो कार्य शुरू किया, दो करोड़ 61 लाख से अधिक शौचालयों का निर्माण कर देश में प्रथम स्थान भी प्राप्त किया. केंद्र सरकार की सभी योजनाएं प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री उजाला योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना सहित जितनी भी योजनाएं थीं, इन सभी योजनाओं में उत्तर प्रदेश जहां पहले बहुत पीछे हुआ करता था, किसी में 23वें नंबर पर किसी में 27वें स्थान पर, आज उन सब में उत्तर प्रदेश अपनी एक बेहतर कार्य पद्धति के कारण पहले स्थान पर है. खाद्यान्न उत्पादन में भी उत्तर प्रदेश ने बेहतर प्रदर्शन किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज