अब सपा-बसपा को कायदे से ‘निपटाने’ में मिलेगी मदद: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा के गठबंधन पर कहा कि अब भाजपा को इन्हें कायदे से ‘निपटाने‘ में मदद मिलेगी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 13, 2019, 8:43 PM IST
अब सपा-बसपा को कायदे से ‘निपटाने’ में मिलेगी मदद: CM योगी आदित्यनाथ
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: January 13, 2019, 8:43 PM IST
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा के गठबंधन को लेकर दावा किया कि राज्य की राजनीति पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'अच्छा है कि दोनों दल एक हो गये हैं, अब भाजपा को इन्हें कायदे से ‘निपटाने‘ में मदद मिलेगी.' मुख्यमंत्री ने तो यहां तक कहा कि 'सपा और बसपा अलग-अलग पार्टी क्यों हैं, दोनों का विलय कर दीजिए.'

योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, 'सपा-बसपा के गठबंधन का मतलब, भ्रष्टाचारी, जातिवादी मानसिकता वाले अराजक और गुंडों को सीधे-सीधे सत्ता देकर जनता को उसके भाग्य पर छोड़ देने जैसा है. मैं कह सकता हूं कि इस गठबंधन का प्रदेश की राजनीति पर कोई असर नहीं होने वाला है. अच्छा हुआ दोनों एक हो गए हैं. हमें मदद मिलेगी कायदे से इनको निपटाने के लिए.'

दिल्ली में आयोजित भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में महागठबंधन का बार-बार जिक्र किए जाने के औचित्य के बारे में योगी ने कहा, 'गठबंधन कोई चुनौती नहीं है. मैं सपा मुखिया अखिलेश यादव से पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री के रूप में पिछली बार वह (सपा संस्थापक) मुलायम सिंह यादव को आगे कर रहे थे. वह स्पष्ट करें कि इस बार प्रधानमंत्री पद के लिए उनकी नजर में मुलायम हैं या बसपा प्रमुख मायावती. चुनाव के पहले नेता भी स्पष्ट होने चाहिये. नेतृत्वविहीन गठबंधन को जनता खारिज करेगी.'

यूपी की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा और बसपा ने वर्ष 1993 से लेकर 1995 तक उत्तर प्रदेश में मिलकर सरकार चलायी. दूसरा, सपा और बसपा को प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार चलाने का अवसर भी मिला. उनकी कार्यपद्धति को सबने देखा. इन्होंने समाज में जातिवाद का जहर घोला, भ्रष्टाचार और दंगों की आग में प्रदेश को झोंका.

गठबंधन से BJP को लगा झटका, कार्यकर्ता सपा-बसपा में आने को बेचैन हैं: अखिलेश

योगी ने अयोध्या विवाद के बारे में कहा कि भाजपा ने पहले ही कहा था कि वह संवैधानिक दायरे में रहकर इस समस्या का समाधान करेगी. हम फिर कह रहे हैं कि मामला उच्चतम न्यायालय में है. हम उससे बार-बार अपील कर रहे हैं कि इस मामले को देश के सौहार्द के विकास के लिये अविलम्ब इसका निपटारा होना चाहिये. इसका समाधान भी कोई करेगा तो भाजपा ही करेगी. जिन लोगों ने समस्या पैदा की है वह इसका समाधान नहीं कर सकते.
Loading...

(एजेंसी इनपुट के साथ)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2019, 7:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...