सोनभद्र नरसंहार: CM योगी बोले- कांग्रेस की सरकारों में हुई थी गड़बड़ी

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, '' दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. सोनभद्र में हुई हत्या की जांच कमिटी करेगी. जो भी दोषी हैं उनको छोड़ा नहीं जाएगा.'' उन्होंने कहा कि 1952 से लेकर कमेठी जांच करेगी.

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:46 PM IST
सोनभद्र नरसंहार: CM योगी बोले- कांग्रेस की सरकारों में हुई थी गड़बड़ी
कांग्रेस की सरकार में हुई थी गड़बड़ी
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:46 PM IST
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सोनभद्र हत्याकांड के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया. विधानसभा सत्र के दौरान सदन में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि इस घटना की नींव 1955 में ही पड़ गई थी, जब कांग्रेस की सरकार थी. सोनभद्र के विवाद के लिए 1955 और 1989 की कांग्रेस सरकार दोषी है. सीएम ने कहा कि सोनभद्र में जो घटना घटी है, उसकी नींव 1955  में रखी गई थी. इस पूरे प्रकरण में ग्राम पंचायत की जमीन को 1955 में आदर्श सोसाइटी के नाम पर दर्ज कर किया गया था. इस जमीन पर वनवासी समुदाय के लोग खेती बाड़ी करते थे. बाद में इस जमीन को किसी व्यक्ति के नाम 1989 में कर दिया गया था. 1955 में कांग्रेस की सरकार थी.

सोनभद्र नरसंहार के मामले में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैंने खुद डीजीपी को निर्देश दिया कि वो व्यक्तिगत रूप से मामले की निगरानी करें. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस जमीन पर काफी समय से विवाद था. इस दौरान सीएम ने कहा कि एसडीएम घोरावल, सीओ घोरावल, एसओ घोरावल सहित हल्का और बीट के सभी सिपाही निंलबित कर दिए गए हैं. साथ ही इस जमीनी विवाद की जांच अपर मुख्य सचिव राजस्व को सौंप दी है. उन्होंने कहा, '' इम मामले में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है. अब तक मामले में मुख्य आरोपी प्रधान समेत 25 लोगों को हिरासत में ले लिया गया है.

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, '' दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. सोनभद्र में हुई हत्या की जांच कमिटी करेगी. जो भी दोषी हैं उनको छोड़ा नहीं जाएगा.'' उन्होंने कहा कि 1952 से लेकर कमेठी जांच करेगी. नरसंहार के बोलते हुए कहा कि मुख्य आरोपी सहित 27 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. सीएम ने कहा कि जांच के बाद जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

बता दें कि बुधवार को प्रधान यज्ञदत्त ट्रैक्टर ट्राली में भरकर करीब 200 लोगों को लेकर घोरावल थाना इलाके के उम्भा गांव पहुंचा. उन लोगों के पास गंड़ासे और अवैध तमंचे थे. प्रधान ट्रैक्टरों से खेत की जबरन जुताई करवाने लगा. इस पर ग्रामीणों ने विरोध किया तो प्रधान के समर्थकों ने उन पर हमला कर दिया.

ग्रामीणों ने मुताबिक, इस दौरान हमलावरों ने सामने आने वाले लोगों को गंड़ासे से काट डाला. फायरिंग में गोली लगने और गंड़ासे से घायल ग्रामीणों की लाशें खेत में चारों तरफ गिरती चली गईं. लोगों का कहना है कि गोंड आदिवासी बहुल इस जनपद में सदियों से आदिवासियों के जोत को तमाम नियमों के आधार पर नजरअंदाज किया जाता रहा है. इलाके में रसूखदार लोग इस तरह की काफी जमीनों पर अवैध तरीके से काबिज हैं.

ये भी पढ़ें:

सोनभद्र जा रहीं प्रियंका गांधी का रोका गया, जिले में धारा 144 लागू
Loading...

यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह आज आएंगे लखनऊ, होर्डिंग से पटा शहर

इनकम टैक्स की रेड पर भड़कीं मायावती, कहा- पहले अपने 2 हजार करोड़ रुपये का हिसाब दे BJP

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2019, 1:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...