• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • प्रबुद्ध सम्मेलन के समापन कार्यक्रम में बोले CM योगी आदित्यनाथ- राहुल एक्सिडेंटल हिंदू

प्रबुद्ध सम्मेलन के समापन कार्यक्रम में बोले CM योगी आदित्यनाथ- राहुल एक्सिडेंटल हिंदू

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राहुल गांधी को बताया एक्सिडेंटल हिंदू.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राहुल गांधी को बताया एक्सिडेंटल हिंदू.

BJP's election strategy : सीएम योगी ने कहा है कि विपक्षी नेता ट्विटर पर खेल रहे हैं. बार-बार इटली भाग जाते हैं. हिन्दुतान से बाहर जाकर वे देश की निंदा करते हैं. देवी-देवताओं को नकारना उनकी प्रकृति का हिस्सा है. एक्सिडेंटल हिन्दू होने पर यही होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यानी शनिवार को प्रबुद्ध सम्मेलन के समापन के मौके पर राहुल गांधी पर बड़ा हमला बोलते हुए उन्हें एक्सिडेंटल हिंदू बताया है. सीएम ने कहा है कि विपक्षी नेता ट्विटर पर खेल रहे हैं. बार-बार इटली भाग जाते हैं. यूपी ने उनके परिवार को प्रधानमंत्री बनाया, लेकिन हिन्दुतान से बाहर जाकर वे देश की निंदा करते हैं. देवी-देवताओं को नकारना उनकी प्रकृति का हिस्सा है. एक्सिडेंटल हिन्दू होने पर यही होता है. एक्सिडेंटल हिंदू जो लोग होते हैं, वही राम और कृष्ण को नकारते हैं.

आपको बता दें कि बीजेपी की तरफ से यूपी विधानसभा चुनाव को देखते हुए 5 सितंबर से प्रदेश के सभी 403 सीटों पर प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी, दोनों डिप्टी सीएम समेत प्रदेश के सभी दिग्गज नेताओं के कार्यक्रम तय किए गए हैं. 5 सितंबर से शुरू हुआ ये सम्मेलन 20 सितंबर तक होना है. लिहाजा लखनऊ के पुरनिया चौराहा स्थित पंचायती राज विभाग के निदेशालय में आयोजित प्रबुद्ध सम्मलेन को सीएम योगी ने संबोधित किया. इस सम्मेलन में सीएम योगी ने सरकार के साढ़े 4 साल की उपलब्धियों का बखान करने के साथ ही विपक्षी दलों को भी निशाने पर रखा.

इसे भी पढ़ें : संजय सिंह ने पूछा- कौन सी मशीन है कि सबका DNA चेक कर लेते हैं योगी

‘नेतृत्व ईमानदार तो देश एकजुट’

सीएम योगी ने कहा कि नेतृत्व जब ईमानदार और चरित्रवान होता है, तो पूरा देश एकजुट होकर उसके पीछे चल पड़ता है. मोदी जी की यही ताकत है. हर जगह मोदी जी या मैं नहीं जा सकता. लेकिन हमारे जनप्रतिनिधि एक सीमित स्थानों पर जाते हैं. ऐसे में हमारे प्रबुद्धजन समाज का नेतृत्व करते हैं. यूपी में कोरोना प्रबंधन बेहतरीन रहा और प्रदेश में एक भी व्यक्ति की मौत भूख से नहीं हुई. सोचिए अगर 2017 से पहले कोरोना आ गया होता तो क्या होता. आजादी के बाद से पूर्वोत्तर अशांत था, लेकिन बीते 7 वर्षों में पूर्वोत्तर की तस्वीर बदल गई. ज्यादातर अलगाववादी संगठनों ने हथियार डाल दिए हैं. जो बचे हैं, वे भी डाल देंगे. पहले बिजली नहीं आती थी, राज्य की सीमा में घुसते ही सड़कें टूटी हुई मिलती थीं, दंगे हर जिले में होते थे, बहन-बेटियों की इज्जत पर हाथ डाला जाता था. यूपी के लोगों को बाहर हेय दृष्टि से देखा जाता था. हमारी सरकार ने एक भी दंगा होने नहीं दिया है. ये हमने कोई उपकार नहीं किया, ये सरकार का काम है.

इसे भी पढ़ें : BJP है पिछड़ा वर्ग की दुश्मन, साढ़े 4 साल में केवल हमारे काम का फीता काटा: अखिलेश यादव

‘मुझे सिर्फ 3 साल मिले’

हमारे साढ़े 4 सालों में डेढ़ साल कोरोना खा गया इसलिए मुझे सिर्फ 3 साल मिले. सरकार की योजनाएं माफिया और अपराधी बनाया करते थे. सपा सरकार में तत्कालीन कृषि मंत्री 6 महीने दफ्तर ही नहीं गए थे. उन्हें कृषि उत्पादन आयुक्त का नाम नहीं पता था. जब प्रदेश बाढ़ में डूबा रहता था, तब फिल्मी हस्तियां कार्यक्रम के लिए आया करते थे. डीजीपी के घर से थोड़ी दूर पर एक माफिया ने 5 इमारतें खड़ी कर दीं. शत्रु सम्पत्ति पर बनी सम्पत्तियों पर हमने बुलडोजर चलवाया. हमने यूपी को देश की नंबर 2 अर्थव्यवस्था बनाई है. अगले 6 महीने प्रदेश के लिए महत्वपूर्ण हैं. आपको प्रदेश के हित में सोचने वाली या माफियाओं को समर्थन करने वाली सरकार चाहिए, इसपर सोचना चाहिए. अयोध्या के लिए अगर हम बदनाम होते हैं तो हम बदनाम होने को तैयार हैं. मंदिर का निर्माण ऐसा हो रहा है कि 1000 साल तक मंदिर को कुछ नहीं हो सकता.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज