अपना शहर चुनें

States

नए यूपी में माफियाओं को संरक्षण नहीं, केवल मानमर्दन: CM योगी आदित्यनाथ

नए यूपी में माफियाओं को संरक्षण नहीं
नए यूपी में माफियाओं को संरक्षण नहीं

मुख्यमंत्री (CM) ने कहा कि कुछ लोग जिनकी सोच में ही विकास नहीं है. जिनकी सोच जाति, मजहब, धर्म और क्षेत्र तक सीमित है. जो पार्टी को परिवार की तरह चलाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2020, 8:32 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा है कि भाजपा और अन्य दलों की सरकार में जमीन-आसमान का फर्क है. उत्तर प्रदेश ने वह दौर भी देखा है जब अपराधी-माफिया राजनीतिक दलों की नीतियां तय करते थे. सत्ता इन्हें सिर-आंखों पर रखती थी, जिसकी बदौलत यह लोग खूब फले-फूले. गरीबों की जमीनों पर काबिज कर महल खड़ा कर लिए, पर अब यह सब नहीं चलेगा. यह नया यूपी है, जो अपराधियों का मानमर्दन करता है.

विकास का कोई विकल्प नहीं

मुख्यमंत्री शुक्रवार को लखनऊ स्थित अपने आवास पर मल्हनी (जौनपुर) विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के मद्देनजर वहां के बूथ, मंडल और सेक्टर के प्रमुख पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि विकास का कोई विकल्प नहीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबका साथ, सबका विकास का जाे नारा दिया था उसके अनुसार केंद्र में और प्रदेश में काम हो रहे हैं.



बीजेपी सरकार की बताई उपलब्धियां
कोरोना के अभूतपूर्व संकट के दौरान भी 87 लाख पात्रों बुजुर्गों, विधवाओं और विकलांगों को एडवांस पेंशन, चार करोड़ घरों को बिजली, 41 लाख लोगों को रसोई गैस के कनेक्शन, गरीबों के बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए अटल आवासीय विद्यालय, विश्वस्तरीय बुनियादी संरचना के लिए पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसव, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे और गंगा एक्स्प्रेस-वे का निर्माण, देश और दुनिया को बेहतर कनेक्टिविटी देने के लिए जेवर, कुशीनगर,अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय स्तर के हवाई अड्डे के साथ अन्य जगहों पर एयरपोर्ट का निर्माण इसका सबूत है.



सीमित सोच वालों को रास नहीं आ रहा विकास

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग जिनकी सोच में ही विकास नहीं है. जिनकी सोच जाति, मजहब, धर्म और क्षेत्र तक सीमित है. जो पार्टी को परिवार की तरह चलाते हैं. अराजकता और भ्रष्टाचार जिनकी पहचान है. जिनके जमाने में विकास के 90 फीसद पैसे का बंदरबाट हो जाता था, उनको बिना भेदभाव के पूरी पारदर्शी के साथ हो रहे विकास के कार्य और गरीबों की खुशहाली रास नहीं आ रही है. लिहाजा वह समाज को बांटने का जाति और संप्रदाय का वही पुराना हथकंडा अपना रहे हैं. सीएम योगी ने कहा कि पर अब ऐसे लोगों की दाल अब गलने वाली नहीं, जनता सब जान चुकी है. लगातार उनको बता भी रही है, उपचुनाव में भी बताएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज