अपना शहर चुनें

States

UP: सड़क सुरक्षा जागरूकता का होगा पहला हफ्ता, उसके बाद ट्रैफिक नियम तोड़ा तो एक्शन: CM योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

लखनऊ न्यूज: सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि यूपी में हर दिन करीब 65 मौतें सड़क दुर्घटना में होती हैं. एक हफ्ते के जागरूकता के बाद नियमों के उल्लंघन करने के बाद MV एक्ट के तहत कड़ी कार्रवाई करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 6:06 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में गुरुवार को सड़क सुरक्षा जागरूकता माह (Road Safety Awareness Drive) और परिवहन विभाग की परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास कार्यक्रम आयोजित किया गया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सड़क सुरक्षा माह का शुभारंभ किया. इस दौरान सीएम योगी ने सड़क सुरक्षा के लिए शपथ दिलाई. सीएम न  सड़क सुरक्षा से जुड़े वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इसमें यातायात टोली, पिंक स्कूटी, एनएचआई बाइक, विंटेज कार को रवाना किय गया.

सीएम योगी ने अपने संबोधन में कहा कि सड़क सुरक्षा हमारे लिए कितनी महत्वपूर्ण है? इसी से पता चलता है कि सड़क दुर्घटना की इतनी घटनाएं होती हैं, ये मौतें रोकी जा सकती हैं. बस थोड़ी सी सावधानी बरतने की आवश्यकता है. 20 फरवरी तक हर जिले में अनवरत प्रदेश में कार्यक्रम आयोजित होंगे. इसमें परिवहन, स्वास्थ्य, स्कूल, कॉलेज सभी शामिल होंगे. इसके लिए जागरूकता कार्यक्रम करना होंगे.

3 साल में सड़क दुर्घटनाएं कम हुईं लेकिन अभी बहुत काम बाकी



सीएम ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं के लिए जो कारक हैं, उसके लिए हमने पिछले साढ़े 3 वर्षों में कई कदम उठाए हैं. 2018, 2019, 2020 के आंकड़ों में काफी अंतर दिखाई पड़ा है, लेकिन काफी काम करने हैं. इसके लिए सड़क निर्माण से जुड़ी संस्थाएं हैं, चाहे लोक निर्माण विभाग या राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण हों सभी को इसके कारण चिन्हित करने की आवश्यकता है.


यूपी में सड़क दुर्घटना में रोज 65 मौतें होती हैं 

सीएम ने कहा कि यूपी में हर दिन करीब 65 मौतें सड़क दुर्घटना में होती हैं. साल भर में बड़े स्तर पर सड़क दुर्घटनाओं में मौत होती है. थोड़ा प्रयास कर सैकड़ों परिवारों को उजड़ने और बच्चो को अनाथ होने से बचाया जा सकता है. सड़क सुरक्षा का काम सिर्फ ट्रैफिक पुलिस या परिवहन विभाग जिम्मेदार नहीं है. सड़क निर्माण, स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग की भी बड़ी भूमिका है. सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कई ठोस कदम उठाए गए. यूपी में सड़क दुर्घनाओं के आकड़ों में कमी आई है लेकिन अभी भी सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कई कदम उठाने की जरूरत है.

सड़क निर्माण की कमियों को दूर कर दुर्घनाओं को रोकना होगा. ट्रैफिक नियमों को तोड़ने से भी बड़ी दुर्घटनाएं हो रही है. तेज स्पीड, शराब पीकर गाड़ी-मोबाइल चलाना भी दुर्घटना का बड़ा कारण है. छोटे से कारण से होने वाली बडी दुर्घटना की परिवार को कीमत चुकानी पड़ती है. सड़क सुरक्षा के लिए जागरूकता के साथ भारी जुर्माने की व्यवस्था हुई है.

दुर्घटनाओं की कीमत चुकाते हैं परिवार, समाज

हाई स्पीड भी इस दुर्घटना का कारण बनता है. इसी तरह हाइवे पर अवैध अवरोध इसके कारण बनते हैं. इसके अलावा शराब पीकर गाड़ी चलाना या अनावश्यक रास्ते मे मोबाइल चेक करना आदि. यानी कारण छोटा सा होता है लेकिन दुर्घटनाओं से परिवारों, समाज को बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है. आज का कार्यक्रम इन्ही सब के लिए आयोजित है.

सीएम ने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि शराब पीकर लोग गाड़ी चलाते हैं. इसके लिए परिवहन विभाग अभियान चलाता है. गाड़ी चलाने योग्य लाइसेंस को देखने की जिम्मेदारी परिवहन विभाग की है.

एक महीने बाद होगी अभियान की समीक्षा

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार दुर्घटनाओं को रोकने के लिए काफी सक्रिय है. माननीय उच्चतम न्यायालय भी सड़क दुर्घटनाओं के लिए काफी जागरूक है. अक्सर सवाल पूछते हैं कि क्या उपाय कर रहे हैं. इस अवसर पर कहना चाहता हूं कि अगले एक माह तक इस कार्यक्रम को करने की जिम्मेदारी जिन-जिन विभागों का दायित्व है, वो पूरी ईमानदारी निष्ठा से करें. एक माह बाद 20 फरवरी को कार्यक्रम पूरा होगा तो इसके बाद हम विभागों की समीक्षा करेंगे.

ड्राइवरों का नियमित हेल्थ चेकअप जरूरी

सीएम ने कहा कि ड्राइवरों के नियमित हेल्थ चेकअप कराने की जरूरत है. ड्राइविंग टेस्ट के बाद ही ड्राइविंग लाइसेंस जारी होना चाहिए. यूपी के हर जिले में सड़क सुरक्षा का अभियान चलाया जाएगा. हर जिले का डीएम सड़क सुरक्षा माह का नोडल अधिकारी होगा. पहले सड़क सुरक्षा के लिए चले अभियानों में शिथिलता आई है. सड़क सुरक्षा के लिए सभी विभाग ईमानदारी से अपनी जिम्मेदारी निभाएं. पहला एक सप्ताह सड़क सुरक्षा के लिए व्यापक जागरूकता का होना चाहिए. एक सप्ताह के बाद ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो. आम लोगों को भी सड़क सुरक्षा के लिए जागरूक होना होगा. आज परिवहन विभाग की 55 करोड़ से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण/शिलान्यास हुआ है.

हफ्ते भर बाद शुरू होंगे 'चालान'

सीएम योगी ने कहा कि एक हफ्ते के जागरूकता के बाद नियमों के उल्लंघन करने के बाद MV एक्ट के तहत कड़ी कार्रवाई करेंगे. आज इस कार्यक्रम के माध्यम से ही परिवहन विभाग के भी 55 करोड़ से अधिक परियोजनाओं के लोकार्पण/शिलान्यास का कार्यक्रम हो रहा है. सीएम ने उम्मीद जताई कि परिवहन विभाग की जो योजनाएं है, उनका जनता इस्तेमाल करेगी. उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग लगातार अच्छा कार्य कर रहा है. परिवहन विभाग कोरोना, लॉक डाउन के समय चाहे अप्रवासियों को गन्तव्य तक पहुंचाना हो या कोटा या अन्य जगहों से विद्यार्थियों को लाना हो, अभूतपूर्व कार्य किया है. आशा करता हूं हम इस एक माह के कार्यक्रम को सफलतापूर्वक पूरा करेंगे. इसकी सफलता के लिए आशा करते हुए धन्यवाद देता हूं.

इसके बाद सीएम ने सड़क सुरक्षा के लिए शपथ दिलाई.

सड़क सुरक्षा शपथ

"हम प्रतिज्ञा करते हैं कि हम सड़क सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए अपनी ओर से पूरा प्रयास करेंगे तथा दोपहिया वाहन चलाते समय हमेशा हेलमेट पहनेंगे. कभी भी शराब पीकर गाड़ी नहीं चलाएंगे. कार चलाते समय हमेशा सीट बेल्ट पहनेंगे. वाहन चलाते समय कभी भी मोबाइल फोन पर बात नहीं करेंगे तथा न कोई मैसेज भेजेंगे और न ही देखेंगे. हमेशा ट्रैफिक नियमो का पालन करेंगे तथा अपने परिजनों से पालन कराएंगे. सड़क दुर्घटना पीड़ितों की मदद करने हेतु सदैव तत्पर रहेंगे."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज