लाइव टीवी

यूपी में बेहतर हुई कानून व्यवस्था, संगठित अपराधी जेल में या मारे गए: सीएम योगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 22, 2019, 11:53 AM IST
यूपी में बेहतर हुई कानून व्यवस्था, संगठित अपराधी जेल में या मारे गए: सीएम योगी
पुलिस स्मृति दिवस परेड के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई गई है. जिसके परिणाम स्वरूप अब तक 10 हजार 252 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें से 6,759 पुरस्कार घोषित अपराधी हैं.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने लखनऊ के रिजर्व पुलिस लाइन्स (Reserve Police Lines) में ‘पुलिस स्मृति दिवस परेड’ के अवसर पर आयोजित परेड की सलामी ली और कर्तव्य की वेदी पर अपने प्राणों की आहुति देने वाले पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की. सीएम ने कहा कि देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान करने वाले इन जवानों में उत्तर प्रदेश पुलिस के 5 बहादुर कार्मिक शामिल हैं. इन जवानों ने उत्तर प्रदेश शासन एवं पुलिस विभाग का गौरव बढ़ाया है. उन्होंने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को आश्वस्त किया कि राज्य सरकार उन्हें हर सम्भव सहायता उपलब्ध करायेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पित पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने और उनका मनोबल बढ़ाने के लिए, इस वर्ष गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 100 पुलिसकर्मियों को ‘उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिन्ह’ और 400 पुलिस कर्मियों को ‘सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह’ से सम्मानित किया गया है. इसी अवसर पर 1048 राजपत्रित व अराजपत्रित पुलिस कार्मिकों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से पुलिस महानिदेशक के प्रशंसा चिन्ह से, विशिष्ट सेवाओं के लिए 08 अधिकारियों/कर्मचारियों को राष्ट्रपति के ‘पुलिस पदक’ से, 129 अराजपत्रित पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों को सराहनीय सेवाओं के लिए ‘पुलिस पदक’ और 5 राजपत्रित व अराजपत्रित अधिकारियों/कर्मचारियों को मुख्यमंत्री के ‘उत्कृष्ट पुलिस सेवा पदक’ से सम्मानित किया गया है.

169 शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार को 37 करोड़ 54 लाख की आर्थिक सहायता
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा ड्यूटी के दौरान शहीद/मृत पुलिस कर्मियों एवं उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी केन्द्रीय अर्द्धसैन्य बलों/अन्य प्रदेशों के अर्द्धसैन्य बलों अथवा भारतीय सेना में कार्यरत रहते हुए 169 शहीद/मृत कर्मियों के आश्रितों को 37 करोड़ 54 लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के जनपद/इकाइयों में नियुक्त पुलिसकर्मियों को उनकी सुख-सुविधा के लिए 3 करोड़ रुपए और उनके कल्याण हेतु 4 करोड़ रुपए का अनुदान प्रदान किया गया है. अनुकम्पा निधि के अन्तर्गत 22 पुलिसकर्मियों को 2 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की गयी है. कार्यरत व सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों एवं उनके आश्रितों को चिकित्सा प्रतिपूर्ति से सम्बन्धित प्राप्त 465 दावों का निस्तारण कर 86 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की गयी है.

CM yogi police1
इस दौरान सीएम योगी ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को सम्मानित किया.


कुल 79 हजार 972 व्यक्तियों का सेवायोजन
सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश पुलिस के मनोबल, कार्यकुशलता एवं व्यवसायिक दक्षता को बढ़ाने के उद्देश्य से ऐतिहासिक कदम उठाए हैं. पिछले एक साल में पुलिस के अराजपत्रित स्तर के विभिन्न पदों पर 28 हजार 453 कर्मियों का प्रमोशन किया गया है. ये एक रिकॉर्ड है. राज्य सरकार द्वारा पुलिस विभाग में उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस एवं उसके समकक्ष 2486 पदों के साथ-साथ 74 हजार 882 आरक्षी पुलिस/पी0ए0सी0, 206 लिपिक संवर्ग तथा 666 कम्प्यूटर ऑपरेटर के पदों पर सीधी भर्ती एवं 1732 मृतक आश्रितों को विभिन्न पदों पर सेवायोजित करते हुए कुल 79 हजार 972 व्यक्तियों को सेवायोजन प्रदान किया गया है. वर्तमान में पलिस बल में आरक्षी एवं समकक्ष तथा उपनिरीक्षक/प्लाटून कमाण्डर एवं उसके समकक्ष 61 हजार 134 पदों पर सीधी भर्ती की प्रक्रिया चल रही है.
Loading...

यूपी के 39 नए थानों एवं 15 नई चाैकियों की स्थापना

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था सुदृढ़ कर जनमानस में सुरक्षा की भावना पैदा करना और अपराधियों में कानून का भय व्याप्त करना, हमारी सरकार की प्रमुख नीति है. इसके लिए प्रदेश के विभिन्न जनपदों में 39 नए थानों एवं 15 नई चाैकियों की स्थापना की गयी है. प्रदेश पुलिस के समक्ष कानून-व्यवस्था की अनेक समस्याएं आयीं, जिन्हें एक चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए तत्काल व्यापक सुरक्षात्मक उपाय किए गए.

96 दुर्दान्त अपराधी पुलिस कार्रवाई में मारे गए
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई गई है. जिसके परिणाम स्वरूप अब तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों में 96 दुर्दान्त/पुरस्कार घोषित अपराधी, पुलिस कार्रवाई में मारे गये हैं और 1631 अपराधी घायल हुए हैं. वहीं 10 हजार 252 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें से 6,759 पुरस्कार घोषित अपराधी हैं.

हर संगठित अपराधी या तो जेल में या इनकाउंटर में मारा गया
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में कोई ऐसा संगठित अपराधी नहीं है, जो जेल के बाहर स्वच्छंद रूप से विचरण कर रहा हो. ऐसे अपराधियों को या तो जेल भेज दिया गया है या गिरफ्तारी के दौरान वे पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में मारे गए हैं. इन कार्रवाइयों के दौरान पुलिस के 5 जवान अद्भुत शौर्य का प्रदर्शन करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए तथा 752 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

CM Police
पुलिस स्मृति दिवस परेड के दौरान सीएम योगी ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को सम्मानित किया.


हर थाने में रोज एक घंटे फुट पेट्रोलिंग

पुलिस की इन कार्रवाइयों से सभी वर्गों विशेषकर व्यापारियों, महिलाओं, बालिकाओं आदि में सुरक्षा की भावना व्यापक रूप से सुदृढ़ हुई है. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा एवं उनके सशक्तिकरण हेतु ‘एण्टी रोमियो स्क्वॉड’ का गठन कर अनवरत अभियान चलाया जा रहा है. इससे पहली बार प्रदेश में महिलाओं विशेषकर छात्राओं में आत्मविश्वास एवं सुरक्षा की भावना सुदृढ़ हुई है. प्रदेश की आम जनता विशेषकर व्यापारियों के बीच सुरक्षा की भावना, पुलिस की मित्र छवि बनाने एवं अपराधियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने के उद्देश्य से प्रत्येक थाना क्षेत्र में प्रतिदिन 1 घण्टा नियमित रूप से फुट पेट्रोलिंग अभियान चलाया जा रहा है. इस कार्यवाही से अपराध में न सिर्फ कमी आयी है, बल्कि आमजन का पुलिस के प्रति भरोसा और सुदृढ़ हुआ है.

23 हजार 773 अभियुक्तों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए गैंगस्टर एक्ट के अन्तर्गत 23 हजार 773 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया एवं इनसे 200 करोड़ रुपए से अधिक की अवैध साधनों से अर्जित सम्पत्तियां जब्त की गयी हैं. अपराध व अपराधियों के विरुद्ध जीरो टाॅलरेंस नीति के तहत की जा रही प्रभावी पुलिस कार्रवाई के कारण अपराधियों में भय व्याप्त हो चुका है. इसके फलस्वरूप 16 हजार 985 अभियुक्त अपनी जमानत निरस्त कराकर न्यायालय में आत्मसमर्पण कर जेल जा चुके हैं.
मुख्यमंत्री ने कहा कि एसटीएफ द्वारा संगठित व आर्थिक अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के साथ ही, परीक्षाओं की शुचिता भी सुनिश्चित की गई है. आतंकवादी संगठनों के विरुद्ध विभिन्न एजेन्सियों के साथ निरन्तर समन्वय से एसटीएफ ने विभिन्न आतंकी संगठनों से जुड़े कुख्यात आतंकियों को गिरफ्तार किया एवं इन संगठनों के स्लीपिंग मॉड्यूल को भी ध्वस्त कर दिया. फलस्वरूप वर्तमान सरकार के कार्यकाल में राज्य में कोई भी आतंकी घटना घटित नहीं हुई है.

यूपी 100 का रिस्पांस टाइम घटर 12.12 मिनट हुआ

राज्य सरकार के निरन्तर प्रयास से यूपी-100 के रिस्पॉन्स टाइम में सुधार करते हुए इसे औसतन 12.12 मिनट कर दिया गया है. समन्वित शिकायत निस्तारण प्रणाली 112 इण्डिया मोबाइल एप का यूपी-100 से इन्टीग्रेशन किया जा चुका है. ‘1090-वुमेन पावरलाइन’ को तकनीकी रूप से समृद्ध किया गया है, जिसके परिणामस्वरूप शिकायतों के निस्तारण के प्रतिशत में वृद्धि हुई है.

महिला सशक्तिकरण हेतु ‘पावर एजेन्ट योजना’ शुरू की गयी है. इसके अन्तर्गत अब तक प्रदेश में लगभग 15 हजार पावर एन्जेल बनायी जा चुकी हैं. बालिकाओं एवं छात्राओं को सशक्त बनाने हेतु महिला सम्मान प्रकोष्ठ द्वारा 4500 छात्राओं को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण प्रदान कर, उन्हें जनपदीय वॉलंटियर प्रशिक्षक के रूप में तैयार किया गया है.

इससे पहले कार्यक्रम स्थल पहुंचने पर मुख्यमंत्री को शोक पुस्तिका सौंपी गईं. उन्होंने पुलिस स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित किया और शहीदों के परिजनों से भेंट भी की. कार्यक्रम के दौरान उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा सहित अन्य मंत्रिगण, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह और अन्य वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद थे.

ये भी पढ़ें:

दीपावली से पहले पीएम मोदी वाराणसी के BJP कार्यकर्ताओं से करेंगे संवाद

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के 10 सीनियर छात्र निलंबित, ये रही वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 11:53 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...