सीएम योगी आदित्यनाथ अपने अधिकारियों पर रखेंगे 'ऑनलाइन' नजर

सीएम योगी ने कहा है कि आईजीआरएस पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों को गंभीरता से लेकर निस्तारण किया जाए. शिकायतों के निस्तारण का सत्यापन वह खुद ऑनलाइन करेंगे.

Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:05 AM IST
सीएम योगी आदित्यनाथ अपने अधिकारियों पर रखेंगे 'ऑनलाइन' नजर
आईजीआरएस पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन की खुद समीक्षा करेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ
Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:05 AM IST
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब ऑनलाइन शिकायतों का खुद निस्तारण और सत्यापन करेंगे. यही नहीं वह शिकायतकर्ताओं से संतुष्टि का फीडबैक भी लेंगे. इसके अलावा फर्जी निस्तारण होने पर कार्यवाही भी ऑनलाइन करेंगे. दरअसल मुख्यमंत्री योगी एनेक्सी में बुलाई गई नोडल अधिकारियों की बैठक में सख्त मूड में नजर आए. बैठक में सीएम ने कहा कि सभी नोडल अधिकारी अपने-अपने जिलों का निरीक्षण गंभीरता से करें.

सीएम ने कहा कि आईजीआरएस पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों को गंभीरता से लेकर निस्तारण किया जाए. उन्होंने कहा कि शिकायतों के निस्तारण का सत्यापन मैं स्वयं ऑनलाइन करूंगा. शिकायतकर्ताओं से उनकी संतुष्टि की जानकारी करूंगा. फर्जी निस्तारण होने पर कार्यवाही भी ऑनलाइन करूंगा.

‘आम आदमी कभी झूठ नहीं बोलता है’
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि आईजीआरएस पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों पर महज औपचारिकता के तहत निस्तारण न करें. उसे गंभीरता से लेकर शिकायतकर्ता की संतुष्टि के मुताबिक निस्तारण करें. आम आदमी कभी झूठ नहीं बोलता है. उन्होंने कहा कि 75 जनपदों के निरीक्षण करने वाले नोडल अधिकारी रिपोर्ट बनाते समय कोई भी संकोच न करें. नोडल अधिकारी जनपद में निरीक्षण के साथ साथ पब्लिक और जनप्रतिनिधि से मिलें. उनसे फीडबैक लेकर प्रभावी कार्यवाही करें. वे अपने संबंधित जिले में समीक्षा बैठक के साथ ही भौतिक सत्यापन और निरीक्षण का कार्य गंभीरता से करें, इसे महज औपचारिकता न बनाएं.

केंद्रीय बजट के आधार पर बनाएं कार्ययोजना, भेजें केंद्र
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि केंद्रीय बजट को सभी विभाग के अधिकारी अध्ययन कर, उसके आधार पर राज्य की जनता के बेहतरी के लिए अपने-अपने विभाग की कार्ययोजना तैयार करें. इस कार्ययोजना के साथ अपने विभाग के मंत्री को लेकर दिल्ली में केंद्रीय अधिकारियों के साथ मीटिंग करें. उसकी एक प्रतिलिपि मुख्यमंत्री कार्यालय को मुहैया करवाएं, जिससे जरूरत पड़ने पर वे खुद केंद्रीय मंत्रियों व प्रधानमंत्री से बात कर सकें.

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि 10 से 15 दिन में अपने-अपने विभाग की कार्ययोजना बनाकर केंद्र सरकार के अधिकारियों को सौंपें. सीएम ने कहा कि सभी विभाग के अधिकारी अपने विभाग की हर महीने समीक्षा करें. उसमें ये देखें कि उनके विभाग के लिए स्वीकृति धनराशि कितनी खर्च हुई है? कितना बाकी रह गया है?
Loading...

ये अफसर सीधे सीएम को देंगे रिपोर्ट
सीएम ने जिलों का फीडबैक सही मिल पाए इसके लिए अपर मुख्य सचिव मुख्य, प्रमुख सचिव और सचिव स्तर के अधिकारियों को सीएम ने नोडल अधिकारी बनाया है, जो जिलों के कामकाज की सीधी रिपोर्ट सीएम को सौंपते हैं.

ये भी पढ़ें:

UPPSC की छवि सुधारने में जुटे नये चेयरमैन

CBI छापों पर सख्त हुए CM योगी, IAS अफसरों पर गिर सकती है गाज
First published: July 11, 2019, 11:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...