...जब सीएम योगी ने अचानक AMU के कुलपति को किया फोन, हर संभव मदद का दिया भरोसा

...जब सीएम योगी ने अचानक AMU के कुलपति को किया फोन (File photo)

...जब सीएम योगी ने अचानक AMU के कुलपति को किया फोन (File photo)

दरअसल, 18 दिनों में एएमयू (AMU) के 17 वर्किंग प्रोफेसरों (Working Professor) की कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से मौत हो गई.

  • Share this:

लखनऊ/अलीगढ़. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अलीगढ़ जिले में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona Infection) का कहर सबसे ज्यादा अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (Aligarh Muslim University) में देखने को मिल रहा है. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति से फोन पर बातचीत कर विश्वविद्यालय के मेडिकल काॅलेज में भर्ती मरीजों तथा वहां कार्यरत चिकित्सकों एवं अन्य कार्मिकों का हालचाल जाना.

सीएम योगी ने कहा कि विश्वविद्यालय के परिसर में बड़ी संख्या में लोग रहते हैं. इन्हें कोविड संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी उपाय किये जाना आवश्यक है. कोरोना संक्रमण से बचाव में टीकाकरण की महत्वपूर्ण भूमिका है. वर्तमान में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग का टीकाकरण भी प्रारम्भ हो गया है. उन्होंने कुलपति से लक्षित आयु वर्ग के लिए तत्परतापूर्वक टीकाकरण कराये जाने की अपेक्षा करते हुए कहा कि इस कार्य में प्रदेश सरकार एवं जिला प्रशासन द्वारा पूर्ण सहयोग प्रदान किया जाएगा.

UP: कोरोना के चलते मुस्लिम धर्मगुरु रशीद फिरंगी महली की अपील, कहा- घर में रहकर सादगी से मनाएं ईद

दरअसल, 18 दिनों में एएमयू के 17 वर्किंग प्रोफेसरों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई. एएमयू के लॉ फैकल्टी के डीन प्रोफेसर शकील समदानी की मौत के बाद एएमयू के हालातों को लेकर चिंताएं और भी ज्यादा बढ़ गई हैं. एएमयू के लॉ फैकल्टी के डीन का कोरोना से संक्रमित होने के बाद से अलीगढ़ के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा था. बता दें अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में कोरोना से पहली मौत पूर्व प्रॉक्टर और डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रोफेसर जमशेद अली सिद्दीकी की बीते 20 अप्रैल को हुई थी. ये सभी प्रोफेसर अलीगढ़ शहर में अलग-अलग जगह पर रहते थे.

Youtube Video

10 रिटायर्ड फैकल्टी की भी हुई मौत

वहीं, अब तक 10 रिटायर्ड फैकल्टी की भी मौत हो चुकी है. चार फैकल्टी ने कानपुर में दम तोड़ा है. प्रो. आफताब आलम ने कहा है कि यूनिवर्सिटी के लिए यह बहुत खराब दौर है. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ जब विश्वविद्यालय से जुड़े इतने लोगों की मौत हुई हो. (रिपोर्ट- रंजीत सिंह)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज