सीएम योगी ने संत परमहंस दास को जूस पिलाकर तुड़वाया अनशन

बता दें कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर करीब एक सप्ताह तक अनशन पर थे संत परमहंस दास. अन्न जल का त्याग करने से उनकी तबीयत बिगड़ने लगी जिसके बाद उन्हें 7 अक्टूबर को उन्हें लखनऊ के पीजीआई में भर्ती कराया गया था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 13, 2018, 9:12 AM IST
सीएम योगी ने संत परमहंस दास को जूस पिलाकर तुड़वाया अनशन
परमहंस को जूस पिलाते सीएम योगी
News18 Uttar Pradesh
Updated: October 13, 2018, 9:12 AM IST
लखनऊ में शुक्रवार शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अनशन करने वाले स्वामी परमहंस के महंत परमहंस दास को जूस पिलाकर औपचारिक रूप से उनका आमरण अनशन समाप्त कराया. इस अवसर पर अयोध्या के विधायक वेद प्रकाश गुप्ता भी मौजूद थे. सीएम योगी ने परमहंस दास की मांग को गरिमामय व न्यायसंगत बताया और उनकी अन्य मांगों के अनुरूप प्रधानमंत्री से वार्ता कराने का वादा करके अनशन समाप्त कराया.

बता दें कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर करीब एक सप्ताह तक अनशन पर थे संत परमहंस दास. अन्न जल का त्याग करने से उनकी तबीयत बिगड़ने लगी जिसके बाद उन्हें 7 अक्टूबर को उन्हें लखनऊ के पीजीआई में भर्ती कराया गया था. यहां पहले इलाज कराने से मना करने के बाद बहुत समझाने से वह इलाज कराने के लिए तैयार हुए.

इससे पहले पीजीआई के निदेशक प्रो. राकेश कपूर ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि डाॅक्टरों की निगरानी में उनका इलाज चल रहा था. प्रोफेसर राकेश कपूर ने बताया कि परमहंस जी बीते 7 दिनों से उपवास पर रहे जिसके कारण उनका कीटोन बढ़ गया था. वहीं शरीर में पानी की कमी हो गई थी. शरीर का भार कम हो गया है. ग्लूकोज का स्तर कम हो गया था. फिलहाल अभी उन्हें पानी पीने को दिया गया है. खतरे की कोई बात नहीं है.

गौरतलब है कि मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या के संत परमहंस ने 1 तारीख से आमरण अनशन का ऐलान करके, शासन प्रशासन की नींद उड़ा रखी थी. प्रशासन उनको मनाने की लगातार कोशिश करता रहा है, लेकिन वे अपनी मांग से टस से मस नहीं हुए थे.

ये भी पढ़ें:

मायावती के बंगले के बाद योगी आदित्यनाथ ने शिवपाल यादव को दी जेड-प्लस सुरक्षा

सीएम ऑफिस के सामने सिरफिरा मौलाना पढ़ने लगा नमाज, गिरफ्तार
Loading...
आखिर योगी सरकार ने शिवपाल को क्यों दिया मायावती का 'शाही बंगला'!

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर