चित्रकूट जेल गोलीकांड: सीएम योगी ने दिए सख्त निर्देश, 6 घंटे में DG जेल से तलब की जांच रिपोर्ट

सीएम योगी ने दिए सख्त निर्देश (File photo)

सीएम योगी ने दिए सख्त निर्देश (File photo)

जानकारी के अनुसार मुकीम काला (Mukim Kala) वही अपराधी है, जिसने एनआईए (NIA) के अफसर तंजील अहमद को दिन दहाड़े मौत के घाट उतार दिया था.

  • Share this:

लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश की चित्रकूट जिला जेल (Chitrakoot District Jail) में अपराधी मेराजुद्दीन और मुकीम उर्फ काला को गोली मारकर हत्‍या किए जाने के बाद यूपी की जेलों की सुरक्षा व्‍यवस्‍था को लेकर एक बार फिर गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं. उधर, चित्रकूट जेल से इससे बड़ी वारदात से लखनऊ तक हड़कंप मच गया है. घटना सामने आने के बाद सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सख्त निर्देश देते हुए डीजी जेल से 6 घंटे के अंदर जांच रिपोर्ट तलब की हैं. घटना की जांच तथा स्थिति का जायजा लेने हेतु प्रभारी उप महानिरीक्षक कारागार प्रयागराज रेंज,

पीएन पांडे रवाना हो चुके हैं.

पुलिस से मिली जानकरी के अनुसार जेल में निरुद्ध अंशुल दीक्षित नामक बंदी को कहीं से पिस्टल मिल गया. इसके बाद उसने यहां बंद मेराजुद्दीन उर्फ मेराज अली और मुकीम उर्फ काला पर गोली चला दी. हमले में दोनों की मौत हो गई. मुकीम काला पश्चिम यूपी का बड़ा बदमाश बताया जा रहा है. जानकारी के अनुसार मुकीम काला वही अपराधी है, जिसने एनआईए के अफसर तंजील अहमद को दिन दहाड़े मौत के घाट उतार दिया था. वहीं जवाबी कार्रवाई में अंशुल दीक्षित को पुलिस ने मार गिराया है. घटना की सूचना के बाद प्रशासन और पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है. डीएम और एसपी मौके पर मौजूद हैं.

जांच रिपोर्ट तलब
जांच रिपोर्ट तलब

Youtube Video

मुख्तार का करीबी था मेराजुद्दीन

पता चला है कि मारा गया मेराजुद्दीन बांदा जेल में बंद माफिया मुख़्तार अंसारी का करीबी था. 20 मार्च 2021 को वाराणसी जेल से चित्रकूट जेल उसका ट्रांसफर हुआ था. मुकीम काला 7 मई 2021 को चित्रकूट जेल आया था. वहीं अंशू दीक्षित 8 दिसंबर 2019 से चित्रकूट जेल में था. वारदात आज सुबह 10 बजे की है.



शूटर अंशुल भी ढेर

पुलिस ने अंशुल दीक्षित को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन उसने पुलिस पर गोलीबारी की, जिसके बाद ओपन फायर में दीक्षित मारा गया. घटना के दौरान जेल के अंदर कई राउंड फायर किए गए. अंशुल ने मुकीम काला को मारने के लिए देसी हथियार का इस्तेमाल किया था. बता दें कि यह दूसरी बार है जब किसी गैंगस्टर ने जेल के अंदर दूसरे गैंगस्टर की हत्या की है. इससे पहले, जुलाई 2018 में गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी को एक अन्य कैदी सुनील राठी ने बागपत जेल के अंदर गोली मार दी थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज