छुट्टा जानवरों से निपटने का योगी प्लान, बुंदेलखंड सहित 23 जगह बनेंगीं गोशाला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 23 जगहों पर गोशाला बनाने का निर्देश दिया है. इनमें से 7 बुंदेलखंड के जिलों में और 16 नगर निगमों में बनेंगी. सीएम ने एक समिति बनाकर इनमें रखे जाने वाले गोवंश के संरक्षण का भी निर्देश दिया है.

News18Hindi
Updated: August 31, 2017, 12:53 PM IST
छुट्टा जानवरों से निपटने का योगी प्लान, बुंदेलखंड सहित 23 जगह बनेंगीं गोशाला
सीएम योगी आदित्यनाथ की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: August 31, 2017, 12:53 PM IST
प्रदेश में छुट्टा जानवरों की समस्या से निपटने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 23 जगहों पर गोशाला बनाने का निर्देश दिया है. इनमें से 7 बुंदेलखंड के जिलों में और 16 नगर निगमों में बनेंगी. सीएम ने एक समिति बनाकर इनमें रखे जाने वाले गोवंश के संरक्षण का भी निर्देश दिया है.

दरअसल छुट्टा जानवरों की समस्या से प्रदेश के कई शहर जूझ रहे हैं. इसको लेकर विपक्षी दल लगातार यूपी सरकार पर हमला कर रहे हैं. इस पर बुधवार को स्टार्ट अप यात्रा कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने अपनी बेबाक राय भी व्यक्त की थी.

उन्होंने कहा कि हमारे यहां छुट्टे जानवरों की समस्या है. सड़कों पर जानवर छोड़ दिये जा रहे हैं. लोग चाहते हैं कि चारे का इंतजाम सरकार करे, गोबर सरकार उठाए. दूध आप पियें और गौवंश को छुट्टा छोड़ दें, ये सही नहीं है.

इसके बाद एनेक्सी में गोवंश के रखरखाव और छुट्टा पशुओं की समस्या के हल के लिए बुलाई गई बैठक में सीएम योगी ने कहा कि गोशालाओं के लिए डीएम की अगुआई में बनने वाली समितियों में गोसेवा आयोग लोगों और जनप्रतिनिधियों की भागीदारी होनी चाहिए.

सरकार विभिन्न योजनाओं के जरिये बुनियादी सुविधाओं के विकास में मदद करेगी पर समितियों को अपने संसाधन से ही इनको चलाना होगा.

पहले चरण में मॉडल के रूप में बनने वाली गोशालाओं की क्षमता 1000 की होगी. बाद में इसे और जिलों में भी बनाया जाएगा. लोग अपनी गायों को छुट्टा न छोड़ें, इसके लिए सरकार नस्ल विकास पर जोर दे रही है. आने वाले वर्षो में किसानों के पास अधिक दूध देने वाली नस्ल की गायें होंगीं. ऐसा होने पर छुट्टा गोवंश की समस्या काफी हद तक कम हो जाएगी.

बुंदेलखंड की अन्ना प्रथा के पीछे एक बहुत बड़ी वजह यह भी है कि वहां की गायें कम दूध देती हैं. दूध के अलावा गोवंश के अन्य उत्पादों को प्रसंस्करण के जरिये उपयोगी बनाया जाएगा. विशेषज्ञ इस संबंध में बेहतर संभावनाओं की तलाश करें. बैठक में गोसेवा आयोग के अध्यक्ष राजीव गुप्ता, मुख्य सचिव राजीव कुमार और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2017, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...