• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • NOIDA ट्विन टावर प्रकरण में नपेंगे दोषी अफसर, CM योगी ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश

NOIDA ट्विन टावर प्रकरण में नपेंगे दोषी अफसर, CM योगी ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश

UP: नोएडा स्थित सुपरटेक कंपनी के ट्विन टावर गिराने का आदेश हो गया है.

UP: नोएडा स्थित सुपरटेक कंपनी के ट्विन टावर गिराने का आदेश हो गया है.

Lucknow News: सीएम योगी ने कहा कि नोएडा के सुपरटेक एमरल्ड कोर्ट बिल्डर के मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए. विशेष जांच समिति गठित कर एक-एक दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने रियल स्टेट कंपनी सुपरटेक को बड़ा झटका देते हुए नोएडा स्थित एमरल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट को अवैध ठहराया और दोनों 40 मंजिला टावरों को ढहाने का आदेश दिया है. मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा है कि ये योजना 2004 से चल रही थी. शासन स्तर से विशेष जांच समिति गठित होगी. पूरे मामले की गंभीरता से जांच होगी और दोषी अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

    सीएम योगी ने कहा कि नोएडा के सुपरटेक एमरल्ड कोर्ट बिल्डर के मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए. अनियमितताओं का यह प्रकरण 2004 से लगातार चलता रहा है. शासन स्तर से विशेष जांच समिति गठित कर उक्त प्रकरण की गहन जांच कराई जानी चाहिए. एक-एक दोषी अधिकारी के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी. आवश्यकतानुसार आपराधिक केस भी दर्ज किया जाए. इस संबंध में तत्काल कार्यवाही की जाए.

    सुपरटेक कंपनी को बड़ा झटका
    दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को रियल स्टेट कंपनी सुपरटेक को बड़ा झटका देते हुए कंपनी के नोएडा स्थित एमरल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के अपैक्स एंड स्यान यावे-16 और 17 को अवैध ठहराया और दोनों 40 मंजिला टावरों को ढहाने का आदेश दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कंपनी को फ्लैट खरीदारों को ब्याज के साथ पैसे वापस करने का आदेश दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि लगभग 1,000 फ्लैटों वाले ट्विन टावरों (Twin Tower) के निर्माण में नियमों का उल्लंघन किया गया. कंपनी को अपनी लागत से ही 2 महीने की अवधि में इन्हें तोड़ना होगा. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय भवन अनुसंधान संस्थान (सीबीआरआई) को टावरों को गिराने का आदेश दिया है, ताकि सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा सके.

    SC के फैसले के खिलाफ सुपरटेक दाखिल करेगा पुनर्विचार याचिका, जानिए क्या है पूरा मामला?

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नोएडा में ट्विन टावरों के सभी फ्लैट मालिकों को 12 फीसदी ब्याज के साथ पैसे वापस किए जाएं. कोर्ट ने बिल्डर को रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन को 2 करोड़ रुपए का भुगतान करने का भी निर्देश दिया है.
    बोले फ्लैट बॉयर्स- बिल्डर घर बैठकर नियम बनाते थे, अथॉरिटी शिकायत नहीं सुनती थी, लेकिन आज कोर्ट ने सुन ली
    पीठ ने पाया कि मानदंडों के उल्लंघन में नोएडा अथॉरिटी और बिल्डर में मिलीगत थी. सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस एमआर शाह ने इस मामले की सुनवाई की. बता दें कि वर्ष 2014 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी इन टावर्स को गिराने का निर्देश दिया था, जिसे अब सुप्रीम कोर्ट ने भी सही माना है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज