लखनऊ में कोविड-19 गाइडलाइन उल्लंघन पर CMS की स्टेशन रोड ब्रांच और एलपीएस सील

कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन पर लखनऊ में सीएमएस की स्टेशन रोड शाखा सील

कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन पर लखनऊ में सीएमएस की स्टेशन रोड शाखा सील

Lucknow News: यह पहली बार है, जब लखनऊ में सिटी मॉन्टेसरी स्कूल (CMS) के खिलाफ इतनी बड़ी कार्रवाई की गई. जिलाधिकारी के आदेश पर जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने यह कार्रवाई की.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में कोरोना (COVID-19) के बढ़ते मामलों के बीच मनमानी निजी स्कूलों को महंगी पड़ गई. जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने लखनऊ के सिटी मॉन्टेसरी स्कूल (CMS) की स्टेशन रोड शाखा की शुक्रवार देर रात सील कर दिया है. स्कूल परिसर में कोविड प्रोटोकॉल का पालन न किए जाने के चलते यह कार्रवाई की गई है. यह पहली बार है, जब इस स्कूल के खिलाफ इतनी बड़ी कार्रवाई की गई. यह कार्रवाई शहर के दूसरे निजी स्कूलों के लिए एक सबक भी है. जिलाधिकारी के आदेश पर जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने यह कार्रवाई की.

इसके अलावा कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर गोमतीनगर स्थित लखनऊ पब्लिक स्कूल एंड कॉलेजेस को शुक्रवार को सील कर दिया गया. एसडीएम सदर ने महामारी अधिनियम के तहत स्कूल के प्रबंधक को नोटिस भी जारी किया है. स्कूल प्रबंधन को 2 दिनों के अंदर अपना जवाब देना होगा. इस बीच विद्यालय में होने वाली प्रैक्टिकल की परीक्षा डीआईओएस लखनऊ की निगरानी में होगी. परीक्षाओं पर किसी प्रकार का प्रभाव नहीं पड़ेगा.

दूसरे निजी स्कूलों के लिए सबक

सीएमएस प्रशासन के खिलाफ की गई यह कार्रवाई राजधानी के दूसरे निजी स्कूलों के लिए एक सबक है. असल में, यह शहर का सबसे बड़ा निजी स्कूल है. सीएमएस के संस्थापक डॉ. जगदीश गांधी को निजी स्कूलों में पितामह कहा जाता है. शहर के बड़े से बड़े नेता से लेकर अधिकारी तक सीधे तौर पर इस स्कूल से जुड़ा है. निजी स्कूलों से जुड़े किसी भी मुद्दे पर डॉ. जगदीश गांधी के कदम को ही दूसरे प्रबंधन अपनाते हैं. जानकारों की मानें तो, यह पहली बार है कि जब किसी जिला विद्यालय निरीक्षक ने इस स्कूल परिसर में घुसकर उसे सील करने की कार्रवाई की हो.


चेकिंग करने आई पुलिस टीम पर रौब दिखाती नज़र आई CMS की प्रिंसिपल

गौरतलब है कि चेकिंग करने के लिए जब एसीपी हजरतगंज की अगुवाई में पुलिस टीम पहुंची तो सीएमएस मेन ब्रांच शाखा की प्राचार्य द्वारा उनको अर्दब में लेने का प्रयास किया गया. सीएमएस के रसूख के बारे में उनको बताया गया और इस बारे में उनको यह भी बताया गया कि अगर आप यह काम करेंगे तो आपके ऊपर भी कार्रवाई होगी. ऐसे में पुलिस टीम द्वारा मौके पर जांच कर अपने उच्च अधिकारियों को अवगत करा दिया गया. जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा देर शाम विद्यालय को सील करने की कार्यवाही की गई.



एक दिन पहले जारी किया गया था नोटिस

डीआईओएस की ओर से 24 घंटे पहले स्कूल प्रशासन को दो नोटिस भी जारी किए गए थे. इनमें, पहला नोटिस स्कूल की क्लासरूम का सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो को लेकर था. जिसमें, कोविड प्रोटोकॉल का पालन न किए जाने की जानकारी थी. इसके अलावा, दूसरा नोटिस स्कूल प्रशासन द्वारा अभिभावकों पर दबाव बनाने को लेकर था. इसी के सिलसिले में शुक्रवार सुबह पुलिस की एक टीम ने स्कूल का निरीक्षण भी किया था. सीएमएस राजधानी को सबसे बड़ा निजी स्कूल है. इसकी 17 से ज्यादा शाखाएं हैं. जहां, करीब 56 हजार बच्चे पढ़ते हैं. सिर्फ 9 से 12 तक की कक्षाओं में 10 हजार से ज्यादा बच्चे हैं. यहां लगातार कोविड प्रोटोकॉल का मजाक उड़ाने की शिकायतें आती रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज