अपना शहर चुनें

States

UP Panchayat Election 2021: मार्च के आखिरी हफ्ते में लग सकती है आचार संहिता

 मार्च के आखिरी हफ्ते में लग सकती है आचार संहिता (File photo)
मार्च के आखिरी हफ्ते में लग सकती है आचार संहिता (File photo)

हाईकोर्ट (High Court) के दिए इसी डेडलाइन की वजह से पंचायत चुनाव (Panchayat Election) कराये जाने को लेकर सरकारी तैयारी तेजी से चल रही है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election 2021) को लेकर मार्च के आखिरी हफ्ते में आचार संहिता (Code of Conduct) लग सकती है. अगले महीने के आखिरी हफ्ते में राज्य निर्वाचन आयोग चुनाव की घोषणा कर सकता है. पंचायती राज विभाग के सूत्रों का कहना है कि 26 मार्च को चुनाव की अधिसूचना जारी हो सकती है. हालांकि इसमें एक दो दिन इधर-उधर हो सकता है. आचार संहिता के लागू होने के साथ ही नये विकास कार्यों की घोषणा पर रोक लग जायेगी. नगरीय क्षेत्रों को छोड़कर प्रदेश के बाकी सभी इलाके में ये प्रभावी हो जाएगी.

ऐसे इलाकों के लिए कोई नई घोषणा नहीं की जा सकेगी. साथ ही सरकारी सुविधा का लाभ भी ऐसे इलाकों में मंत्रियों को नहीं मिल पायेगा. सरकार की जगह अफसरों पर राज्य निर्वाचन आयोग का नियंत्रण हो जाएगा. अफसरों के तबादले से पहले सरकार को राज्य निर्वाचन आयोग से परमिशन लेनी होगी.
पंचायत चुनाव कराये जाने की हाईकोर्ट की डेडलाइन को देखकर इसे आसानी से समझा भी जा सकता है. हाईकोर्ट ने 30 अप्रैल तक चुनाव कराने के निर्देश दिये हैं. ऐसे में न तो सरकार के पास और ना ही राज्य निर्वाचन आयोग के पास ही बिल्कुल भी समय है.


BJP प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह बोले- गांधी परिवार के स्विस बैंक खातों में जाता था कृषि कल्याण का पैसा!



चुनाव कराने में 40 से 45 दिन का समय लग जाता है. ऐसे में 30 अप्रैल से पहले चुनाव खत्म कराने हैं तो मार्च के आखिरी हफ्ते में इसकी घोषणा करनी ही पड़ेगी. हाईकोर्ट के दिए इसी डेडलाइन की वजह से पंचायत चुनाव कराये जाने को लेकर सरकारी तैयारी तेजी से चल रही है. सरकार के स्तर पर बस आरक्षण का काम बाकी है. इसके लिए शासनादेश जारी कर दिया गया है. पदों का आवंटन भी पंचायती राज विभाग ने कर दिया है. यानी विभाग ने ये बता दिया है कि किस कैटेगरी की कितनी सीटें आरक्षित होंगी और कितनी सामान्य. अब से एक महीने बाद यानी आरक्षण की सूची जारी हो जायेगी. शासनादेश में सरकार ने 15 मार्च तक सभी जिलाधिकारियों को आरक्षण की सूचना भेजने के निर्देश दिये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज