अपना शहर चुनें

States

कांग्रेस के दावे में कितना दम: किसान आंदोलन के समर्थन में यूपी में कराए 50 लाख लोगों के हस्‍ताक्षर

युवक कांग्रेस शामिल नहीं हुई. उनका कहना था कि कांग्रेस की मुख्य इकाई ने अभियान चलाया होगा..  (PTI Photo/Vijay Verma)
युवक कांग्रेस शामिल नहीं हुई. उनका कहना था कि कांग्रेस की मुख्य इकाई ने अभियान चलाया होगा.. (PTI Photo/Vijay Verma)

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) ने भी तंज कसा था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस के पास इतने लोग ही नहीं हैं तो हस्ताक्षर कैसे हो गए?

  • Share this:
लखनऊ. नए कृषि कानूनों (New Agricultural Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन पिछले एक महीने से जारी है. पंजाब और हरियाणा के साथ-साथ अन्य राज्यों के भी कृषक दिल्ली की सामाओं पर डटे हुए हैं. वहीं, कांग्रेस के युवा नेता और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने राष्ट्रपति को नए कृषि कानूनों के खिलाफ दो करोड़ हस्ताक्षर (Two crore signatures) सौंपे हैं. इन 2 करोड़ हस्ताक्षरों में से उत्तर प्रदेश कांग्रेस की भागीदारी एक चौथाई है. दिलचस्‍प है कि प्रदेश में इन 50 लाख किसानों से हस्ताक्षर कराने के लिए कांग्रेस को कोई जद्दोजहद नहीं करनी पड़ी. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इन हस्ताक्षरों के बारे में किसान कांग्रेस और युवक कांग्रेस को पता भी नहीं था.

इसी बीच गुरुवार को यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी तंज कसा था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस के पास इतने लोग ही नहीं हैं तो हस्ताक्षर कैसे हो गए? वहीं, यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ललितपुर में गिरफ्तार किए गए थे. तब प्रदेश प्रवक्ता बृजेंद्र कुमार सिंह से सवाल किया गया था कि दो करोड़ हस्ताक्षर में उत्तर प्रदेश की भागीदारी कितनी है? इसका वजाब देते हुए उन्होंने कहा था कि युवक कांग्रेस ने हस्ताक्षर अभियान चलाया था. अभी इसके बारे में पुष्ट जानकारी लेनी होगी. फिर, युवक कांग्रेस पूर्वी जोन के अध्यक्ष कनिष्क पांडेय ने पूछने पर कहा था कि ऐसे किसी अभियान में युवक कांग्रेस शामिल नहीं हुई. उनका कहना था कि कांग्रेस की मुख्य इकाई ने अभियान चलाया होगा.





युवक कांग्रेस सहित सभी की भागीदारी थी
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वहीं, प्रदेश प्रवक्ता डॉ.उमाशंकर पांडेय से जब हस्ताक्षर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कुछ समय मांगा. करीब एक-डेढ़ घंटे बाद उन्होंने बताया कि अगस्त से लेकर सात नवंबर तक प्रदेश अध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारियों ने गांव-गांव में चौपाल लगाया था. इस दौरान मांग-पत्र भी भरवाए गए थे. तभी किसानों से हस्ताक्षर भी कराए थे. इस तरह यूपी से कुल 50 लाख हस्ताक्षर हुए, जिसमें किसान कांग्रेस, युवक कांग्रेस सहित सभी की भागीदारी थी.

हो सकता है इसमें पश्चिम इकाई शामिल रही हो
इसके बाद जब 29 जिलों की किसान महापंचायत कराने वाले किसान कांग्रेस मध्य जोन के अध्यक्ष तरुण पटेल से भी बात की तो उन्होंने कहा कि हमें ऐसे किसी अभियान की जानकारी नहीं है. मुख्य कांग्रेस ने चलाया होगा. हो सकता है इसमें पश्चिम इकाई शामिल रही हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज