लाइव टीवी

सपा ज्वाइन करने जा रहे पूर्व सांसद रमाकांत यादव को कांग्रेस ने 6 साल के लिए निकाला

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 3, 2019, 4:56 PM IST
सपा ज्वाइन करने जा रहे पूर्व सांसद रमाकांत यादव को कांग्रेस ने 6 साल के लिए निकाला
बीजेपी छोड़ कांग्रेस पहुंचे बाहुबली पूर्व सांसद रमाकांत यादव अब सपा जा रहे हैं. उधर कांग्रेस ने उनके ऐलान के बाद उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया है.

कांग्रेस (Congress) ने गुरुवार को रमाकांत यादव को पार्टी की सदस्यता से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया. बताया जा रहा है कि 6 अक्टूबर को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की मौजूदगी में रमाकांत समाजवादी पार्टी ज्वाइन करेंगे.

  • Share this:
आजमगढ़. बाहुबली पूर्व सांसद रमाकांत यादव (Ramakant Yadav) एक बार फिर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) में घर वापसी करेंगे. वह 6 अक्टूबर को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की मौजूदगी में पार्टी ज्वाइन करेंगे. कहा जा रहा है कि दल-बदल में माहिर रमाकांत ने राजनीतिक करियर डूबता देख समाजवादी पार्टी में वापसी का फैसला लिया है. उधर कांग्रेस ने गुरुवार को रमाकांत यादव को पार्टी की सदस्यता से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया.

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अशोक सिंह ने बताया कि पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्तता के चलते रमाकान्त यादव, पूर्व सांसद, जनपद आजमगढ़ को अनुशासनहीनता के आरोप में यूपी कांग्रेस कमेटी की सदस्यता से 6 वर्ष के लिए निष्कासित किया गया है. उन्होंने बताया कि पार्टी की अनुशासन समिति के सदस्य अनुग्रह नारायण सिंह, पूर्व विधायक, राम जियावन पूर्व विधायक और विनोद चौधरी, पूर्व विधायक ने तत्काल प्रभाव से रमाकांत यादव के खिलाफ एक्शन लिया है.

बता दें कि वर्ष 2019 में बीजेपी से टिकट न मिलने से नाराज रमाकांत ने कांग्रेस का हाथ पकड़ा था. कांग्रेस ने उन्हें भदोही से मैदान में उतारा था, लेकिन उन्हें बीजेपी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. इतना ही नहीं उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी. निर्दलीय राजनीति की शुरुआत करने वाले रमाकांत यादव मुलायम सिंह के करीबी हुआ करते थे.

लाश भी सपा में न जाने की कही थी बात

बता दें आजमगढ़ में बाहुबली छवि वाले रमाकांत ने वर्ष 2004 में सपा से बाहर होने के बाद कहा था कि अब वे तो क्या उनकी लाश भी सपा में नहीं जाएगी. लेकिन, अब उनका कहना है कि अभी वह जीवित हैं. उधर, बीजेपी ने रमाकांत को राजनीति में मृतक बताया है.

निरहुआ को टिकट मिलने पर छोड़ी थी पार्टी
वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने आजमगढ़ सीट से भोजपुरी स्टार निरहुआ को टिकट दे दिया. इससे नाराज होकर रमाकांत ने कांग्रेस का दामन थम लिया. उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर भी हमला बोला था. पूर्व सांसद ने कहा था कि आजमगढ़ में गठबंधन के चलते उनके समर्थक अखिलेश यादव को वोट करेंगे. वहीं, जनता तय करेगी कि नाचने-गाने वाले को जिताना है या अखिलेश को. बता दें साल 2014 में उन्होंने बीजेपी के टिकट पर आजमगढ़ से सपा के मुलायम सिंह यादव के खिलाफ चुनाव लड़ा था. हालांकि, उन्हें करीब 30 हजार मतों से हार का सामना करना पड़ा था. इस बार रमाकांत को उम्मीद थी कि उन्हें फिर से टिकट मिलेगा, लेकिन बीजेपी ने भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव उर्फ़ निरहुआ को दे दिया. इसी वजह से वे नाराज हो गए.चार बार विधायक व सांसद रह चुके हैं रमाकांत
गौरतलब है कि रमाकांत यादव वर्ष 1985 में आजमगढ़ से पहली बार निर्दलीय विधायक चुने गए थे. इसके बाद 1989 में बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे, फिर 1991 में समाजवादी जनता पार्टी और 1993 में सपा के टिकट से विधायक बने. 1996 और 1999 में वे आजमगढ़ से सपा के टिकट पर लोकसभा पहुंचे. इसके बाद 2004 में बसपा और 2009 में फिर सपा के टिकट पर चुनाव जीतकर लोकसभा का सफ़र तय किया. रमाकांत यादव चार बार विधायक और चार बार सांसद रह चुके हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आजमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 3, 2019, 4:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर