लाइव टीवी

अजय माकन ने किया ऐलान- मोदी सरकार के खिलाफ 15 नवंबर को देशव्यापी स्तर पर खोलेंगे मोर्चा

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 1, 2019, 10:20 PM IST
अजय माकन ने किया ऐलान- मोदी सरकार के खिलाफ 15 नवंबर को देशव्यापी स्तर पर खोलेंगे मोर्चा
कांग्रेस नेता अजय माकन ने लखनऊ में प्रेसवार्ता कर केंद्र सरकार पर साधा निशाना

देश में सत्ता की वापसी के लिये संघर्ष कर रही कांग्रेस (Congress) ने मोदी सरकार (Modi Government) को घेरने के लिए एक नई रणनीति (The Strategy) बनाई है.

  • Share this:
लखनऊ. देश में सत्ता की वापसी के लिये संघर्ष कर रही कांग्रेस (Congress) ने मोदी सरकार (Modi Government) को घेरने के लिए एक नई रणनीति (The Strategy) बनाई है. कांग्रेस एक ओर आज 1 नवंबर से 8 नवंबर तक देश के 35 शहरो में 35 प्रेसवार्ता कर न सिर्फ आर्थिक मंदी, बेरोजगारी और मंहगाई जैसे मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधती नजर आ रही है. वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने इन मुद्दों को लेकर 5 से 15 नवंबर तक बूथ से लेकर देश की राजधानी तक केंद्र सरकार के खिलाफ एक बड़ा आंदोलन किए जाने का भी ऐलान कर दिया है. कांग्रेस की इस रणनीति के तहत ही आज राजधानी लखनऊ पहुंचे कांग्रेस के पूर्व मंत्री अजय माकन (Ajay Maken) ने कांग्रेस मुख्यालय पर प्रेसवार्ता की.

देश में बेरोजगारी
प्रेस वार्ता के दौरान अजय माकन ने सबसे पहले बेरोजगारी, बेहाल अर्थव्यवस्था, कृषि संकट और रीजनल फ्री ट्रेड एग्रीमेंट के खिलाफ 5 से 15 नवंबर के बीच यूपी के हर बूथ, ब्लॉक, तहसील, जिला और प्रदेश स्तर पर मोदी सरकार के खिलाफ प्रर्दशन किए जाने की जानकारी दी. वहीं 15 नवबंर को इन्ही मुद्दों को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ भी मोर्चा खोले जाने का ऐलान कर दिया.

कांग्रेस नेता अजय माकन ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब से बीजेपी की सरकार केंद्र में आई है, तब से देश की अर्थव्यवस्था निरंतर गिरती जा रही है. जिसके चलते देश में बेरोजगारी फैल रही है. कृषि में अव्यवस्था फैल रही है और इसका हर स्तर पर असर दिख रहा है. उन्होंने मनमोहन सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि उनके समय में देश विश्व की 5वीं सबसे बड़ी आर्थिक महाशक्ति बन गया था. लेकिन इस सरकार में दो पायदान बढ़ने के बजाय हमारा देश फिसलकर सातवें पायदान पर पहुच गया.

बीते 16 सालो में सबसे कम प्राइवेट इंवेस्टमेंट 
अजय माकन ने आगे बोलते हुए कहा कि विकास के लिए इस सरकार में बीते 16 सालो में सबसे कम प्राइवेट इंवेस्टमेंट हुआ. अपने देश के लोगों की जिस बचत की आदत पर हम गर्व करते थे, इस सरकार में 20 साल में सबसे कम घरेलू बचत होने के चलते इसका सीधा असर हमारी अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है. आज देश में करीब 9 लाख 38 हजार करोड़ की लागत से करीब 13 लाख 19 हजार मकान बनकर तैयार हैं, लेकिन कोई खरीदने वाला नही है. ऐसे में मकानों की खरीद में इतना बड़ा ठहराव और मंदी इस सरकार से पहले कभी नहीं रही. इसके चलते बिल्डिंग इंडस्ट्री में 8 लाख करोड़ के बैंक एनपीए होने के साथ ही बीते 5 वर्षों में 25 हजार से भी ज्यादा लोग डिफॉल्टर हो गए हैं.

केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक से लिए रिजर्व रुपये!
Loading...

अजय माकन यहां नहीं रुके बल्कि मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस सरकार में निर्धारित राजस्व की वसूली में 2 लाख करोड़ की कमी के बावजूद बड़े-बड़े पूंजीपतियो को राहत देने के लिए कॉर्पोरेट टैक्स को 30 फीसदी से कमकर 12 से 15 फीसदी तक कर दिए जाने से गरीबों पर असर पड़ने का दावा किया. अजय माकन ने आगे बोलते हुए कहा कि विपदा के समय प्रयोग किए जाने वाली रिजर्व बैंक की रकम में से भी इस सरकार नें बीते 5 वर्षो में करीब 3.89 लाख करोड़ रुपये वापस ले लिए हैं. जबकि आज के इतिहास में ऐसा पहले कभी नही हुआ.

अजय माकन ने इस दौरान एक ओर मोदी सरकार द्वारा एलआईसी पर दबाव बनाकर करीब 25 हजार करोड़ का इन्वेस्टमेंट आईडीबीआई बैंक में कराए जाने के बावजूद कोई फायदा न होने का दावा किया, तो वहीं दूसरी ओर इस सरकार की विफल नीतियों के चलते उद्योगों के चरमराने के साथ ही बीते 45 वर्षो में पूरी दुनिया की दोगुनी सर्वाधिक 8.50 फीसदी बेराजगारी की दर मौजूदा दौर में होने की बात कही. उन्होंने कहा पिछले 3 वर्षो में करीब 91 लाख लोगों की नौकरी छूट गई.

ये भी पढ़ें - राजीव गांधी पेट्रोलियम संस्थान के फर्नीचर स्मृति ईरानी ने आधा दर्जन विद्यालयों में बांटे!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 8:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...