गठबंधन में नहीं रखा तो यूपी में अकेले चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

शनिवार को सपा और बसपा अपने गठबंधन का औपचारिक रूप से ऐलान करने वाली हैं. इस ऐलान से ठीक पहले कांग्रेस ने कहा कि वो अकेले अपने दम पर भी चुनाव लड़ सकती है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 11, 2019, 8:34 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: January 11, 2019, 8:34 PM IST
शनिवार को सपा और बसपा अपने गठबंधन का औपचारिक रूप से ऐलान करने वाली हैं. इस ऐलान से ठीक पहले कांग्रेस ने कहा कि वो अकेले अपने दम पर भी चुनाव लड़ सकती है. कांग्रेस का दावा है कि उसके पास सारे विकल्प खुले हुए हैं, सपा-बसपा का रुख देखकर ही आगे का फैसला लिया जाएगा.

यूपी कांग्रेस के हेड मीडिया प्रभारी राजीव बख्शी ने न्यूज18 को बताया कि कांग्रेस ने गठबंधन के लिए सबको मौका दिया लेकिन जो दल उसे कमज़ोर समझ रहे हैं वो गलत हैं. आगे राजीव बख्शी ने कहा कि अगर सपा और बसपा उसे गठबंधन में नहीं रखते, तो पार्टी अकेले सभी सीटों पर चुनाव लड़ सकती है. वहीं ये भी खबर है कि कांग्रेस कुछ दूसरे छोटे दलों के साथ भी हाथ मिला सकती है. पार्टी लगातार इन दलों से बातचीत कर रही है. दिल्ली से लेकर लखनऊ तक कांग्रेस में बैठकों का दौर चल रहा हैं. कांग्रेस ने फिलहाल अपने सभी विकल्प खुले रखे हैं और पार्टी आने वाले दिनों में कोई बड़ा ऐलान कर सकती है.

आपको बता दें कि यूपी में सपा- बसपा गठबंधन अब तय हो गया है. बसपा सुप्रीमो मायावती व समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव 12 जनवरी यानि शनिवार को इसकी औपचारिक घोषणा करेंगे. सूत्रों के मुताबिक यूपी में गठबंधन का फार्मूला तय हो चुका है. पीएम मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर गठबंधन संयुक्त प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारेगा. सूत्रों के हवाले से खबर है कि सपा और बसपा 37-37 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े करेंगे. वहीं 2 सीटों पर राष्ट्रीय लोकदल का प्रत्याशी चुनाव लड़ेगा.

सपा-बसपा गठबंधन का 'फार्मूला' तय, PM मोदी की सीट पर होगा संयुक्त प्रत्याशी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर