Home /News /uttar-pradesh /

Chopper Crash: जिंदगी और मौत की जंग से जूझ रहे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की बहादुरी की शौर्य गाथा, पढ़िए कैसे तेजस को क्रैश होने से था बचाया

Chopper Crash: जिंदगी और मौत की जंग से जूझ रहे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की बहादुरी की शौर्य गाथा, पढ़िए कैसे तेजस को क्रैश होने से था बचाया

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की शीघ्र स्वस्थ होने के लिए देश भर में हो रही दुआएं

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की शीघ्र स्वस्थ होने के लिए देश भर में हो रही दुआएं

Group Captain Varun Singh Medical Condition: वरुण सिंह देवरिया जिले के रुद्रपुर के कंहौली गांव के रहने वाले हैं. जैसे ही हेलीकाप्टर क्रैश की खबर आई परिवार समेत गांव में सन्नाटा पसर गया. देर रात तक इलाके के लोग मंदिरों में उनके जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थना करते रहे. आज रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया कि इस दुखद हादसे में एकमात्र जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वेलिंगटन के आर्मी हॉस्पिटल में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. उन्हें बचाने की हरसंभव कोशिश की जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

    लखनऊ. तमिलनाडु (Tamilnadu) के कुन्नूर में क्रैश हुए हेलिकॉप्टर (Coonoor Helicopter Crash) में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) और उनकी पत्नी समेत 13 सैन्य अधिकारियों की मौत हो गई. हेलिकॉप्टर में कुल 14 लोग सवार थे और जो एक जीवित बचे हैं उनमें देवरिया (Deoria) के रहने वाले वरुण सिंह (Group Captain Varun Singh) हैं. वह गंभीर रूप से घायल हैं और जिंदगी और मौत से जंग लड़ रहे हैं. वरुण सिंह को इसी साल उनके अदम्य साहस और बहादुरी के लिए शौर्य चक्र से नवाजा गया है. उन्होंने पिछले साल तेजस लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट को बीच हवा में तकनीकि खराबी आने काबड़ क्रैश होने से बचाया था.

    वरुण सिंह देवरिया जिले के रुद्रपुर के कंहौली गांव के रहने वाले हैं. जैसे ही हेलीकाप्टर क्रैश की खबर आई परिवार समेत गांव में सन्नाटा पसर गया. देर रात तक इलाके के लोग मंदिरों में उनके जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थना करते रहे. आज रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया कि इस दुखद हादसे में एकमात्र जीवित बचे ग्रुप कैप्टन  वेलिंगटन के आर्मी हॉस्पिटल में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. उन्हें  बचाने की हरसंभव कोशिश की जा रही है.

    2020 में तेजस को क्रैश होने से था बचाया
    ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने 12 अक्टूबर 2020  को उस समय अदम्य साहस और शौर्य का परिचय दिया था जब बीच आसमान में उनके तेजस एयरक्राफ्ट में तकनीकि गड़बड़ी आ गई. अपने जीवन की परवाह न करते हुए उन्होंने क खुद को बचाया बल्कि एयरक्राफ्ट को क्रैश होने भी बचाया. इसके लिए उन्हें इसी साल शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया.

    ना विमान गिरने दिया, ना खुद हुए एग्जिट
    ग्रुप कैप्टन को जैसे ही दिक्कत पता चली तो उन्होंने लैंडिंग के लिए कम ऊंचाई पर उतरने का फैसला किया लेकिन उनकी दिक्कत यहीं खत्म नहीं हुई. इस दौरान उड़ान नियंत्रण प्रणाली भी फेल हो गई जिससे विमान पर उनका नियंत्रण नहीं रहा. विमान तेजी से नीचे गिरता रहा और इस दौरान जहाज में झटके भी लग रहे थे. इन सब खामियों के बीच ग्रुप कैप्टन ने विमान पर नियंत्रण हासिल कर लिया.

     पिता भी सेना से रिटायर्ड
    बता दें कि देवरिया में रुद्रपुर कोतवाली क्षेत्र के कन्हौली गांव के रहने वाले वरुण सिंह वायुसेना में ग्रुप कैप्टन हैं. उनकी तैनाती तमिलनाडु के वेलिंग्टन में है. वहीं पर उनके साथ में उनकी पत्नी और एक बेटा व बेटी भी रहते हैं. उनके पिता कर्नल केपी सिंह सेना से रिटायर्ड हैं. मध्यप्रदेश के भोपाल में उनका अपना मकान भी है. वह पत्नी उमा सिंह के साथ वहीं पर रहते हैं, जबकि वरुण सिंह के भाई तनुज सिंह नेवी में हैं. हादसे के बाद से वरुण की पत्नी उनके साथ अस्पताल में हैं.

    Tags: Deoria Group Captain Varun Singh, Lucknow news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर