Home /News /uttar-pradesh /

COVID 19: कहीं UP की अर्थव्यवस्‍था चौपट न कर दे Corona, पटरी पर लाना होगा मुश्किल

COVID 19: कहीं UP की अर्थव्यवस्‍था चौपट न कर दे Corona, पटरी पर लाना होगा मुश्किल

जब तक स्थितियां सामान्य होंगी तब तक प्रदेश की अर्थव्यवस्‍था चौपट हो चुकी होगी और उसे फिर एक बार सामान्य करने में काफी परेशानियों का सामना करना होगा. (सांकेतिक फोटो)

जब तक स्थितियां सामान्य होंगी तब तक प्रदेश की अर्थव्यवस्‍था चौपट हो चुकी होगी और उसे फिर एक बार सामान्य करने में काफी परेशानियों का सामना करना होगा. (सांकेतिक फोटो)

सूबे की कुल अर्थव्यवस्‍था का 42 प्रतिशत हिस्सा जिन 18 जिलों पर निर्भर करता है वे कोरोना (Corona) संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित हैं.

    लखनऊ. कोरोना संक्रमण से जहां एक और पूरे विश्व की अर्थव्यवस्‍था (Economy) को झटका लगा है वहीं उत्तर प्रदेश में भी इसका असर कम देखने को नहीं मिलेगा. वर्तमान के हालात देखते हुए विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के बाद यूपी की अर्थव्यवस्‍था को काफी तेज झटका लगेगा, साथ ही इसे दोबारा पटरी पर लाना आसान नहीं होगा. चौंकाने वाली बात ये है कि सूबे की कुल अर्थव्यवस्‍था का 42 प्रतिशत हिस्सा जिन 18 जिलों पर निर्भर करता है वे कोरोना संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित हैं. अब इन जिलों में जब तक स्थितियां सामान्य होंगी तब तक प्रदेश की अर्थव्यवस्‍था चौपट हो चुकी होगी और उसे फिर एक बार सामान्य करने में काफी परेशानियों का सामना करना होगा.

    16.68 लाख करोड़ की जीएसडीपी
    अमर उजाला की एक रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश सरकार ने साल 2018-19 के प्रचलित भावों पर राज्य की अर्थव्यवस्‍था का अनुमानित आकलन करवाया था. इसमें सामने आया कि प्रदेश की जीएसडीपी 1668229.24 करोड़ रुपये हैं. इसमें लखनऊ, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, मेरठ, आगरा, कानपुर, बुलंदशहर, मुरादाबाद, बिजनौर, सहारनपुर, फिरोजाबाद, अमरोहा, शामली, रायबरेली, सीतापुर, संभाल, औरेया और बस्ती की 700033.2 कारोड़ रुपये की हिस्सेदारी थी. और ये वही जिले हैं जो कोरोना संक्रमण की मार झेल रहे हैं. इनकी हिस्सेदारी कुछ अर्थव्यवस्‍था का करीब 42 प्रतिशत है.

    नोएडा की 9 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सेदारी
    वहीं कानपुर की बात की जाए तो यहां पर नगर और देहात दोनों इलाकों को शामिल किया गया है. इसका कारण है कि देहात में औद्योगिक क्षेत्रों के कर्मचारी और व्यापारी नगर में रहते हैं. इसमें चौंकाने वाली बात ये है कि सूबे की कुल अर्थव्यवस्‍था का 9.19 प्रतिशत हिस्सा अकेले नोएडा का है.

    किस जिले की कितनी GDP

    • गौतमबुद्धनगर 153262.92

    • कानपुर             66200.72

    • लखनऊ            62035.69

    • आगरा               57175.42

    • मेरठ                 53097.86

    • गाजियाबाद       46191.15

    • बुलंदशहर         36462

    • बिजनौर            31630.10

    • सहारनपुर         30992.22

    • मुरादाबाद         30130.32

    • सीतापुर            27076.43

    • अमरोहा           22902.70

    • फिरोजाबाद      17928.49

    • रायबरेली         16164.14
      (करोड़ रुपये में)


    सूबे में बढ़ी मरीजों की संख्या
    उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या रविवार को 1873 हो गई. राज्य के स्वास्थ्य सेवा निदेशालय की ओर से देर शाम जारी बुलेटिन में बताया गया कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या रविवार को 1873 हो गई. बुलेटिन में कहा गया कि इनमें से 327 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं जबकि 30 लोगों की मौत हो गई है. राज्य में अब सक्रिय मामलों की संख्या 1516 है.

    ये भी पढ़ेंः गाजियाबाद: वसुंधरा में डॉक्टर दंपती समेत 5 नए Corona Positive

    Tags: Corona epidemic, Delhi-ncr, Lucknow news, Noida news, Rural economy, Uttar pradesh news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर