उत्तर प्रदेश के इन 11 जिलों में अब तक Coronavirus ने नहीं दी है दस्तक
Lucknow News in Hindi

उत्तर प्रदेश के इन 11 जिलों में अब तक Coronavirus ने नहीं दी है दस्तक
देश में कोरोना से अब तक 1900 लोगों की जान जा चुकी है.

उत्तर प्रदेश के 11 जिलों कुशीनगर, बलिया, चन्दौली, सोनभद्र, चित्रकूट, ललितपुर, हमीरपुर, फतेहपुर, फर्रूखाबाद, अमेठी और अम्बेडकरनगर में कोरोना (Coronavirus) ने दस्तक नहीं दी है. यही वजह है कि यहां के लोग राहत महसूस कर रहे हैं.

  • Share this:
लखनऊ. कोरोना के इस संकट काल (Corona Crises) में यूपी के 11 जिलों से थोड़ी राहत की खबर है. इन 11 जिलों के बाशिन्दों के साथ-साथ जिला प्रशासन को भी इस खबर से ऑक्सीजन मिल रही है. इसके पीछे वजह ये है कि इन 11 जिलों में अभी तक कोरोना का कोई केस सामने नहीं आया है. ऐसा नहीं है कि इन जिलों में टेस्टिंग नहीं हो रही है लेकिन, फिर भी यहां कोरोना की घुसपैठ नहीं हो पाई है. ये 11 जिले हैं- कुशीनगर (Kushinagar), बलिया, चन्दौली, सोनभद्र, चित्रकूट, ललितपुर, हमीरपुर, फतेहपुर, फर्रूखाबाद, अमेठी और अम्बेडकरनगर.

इन 6 जिलों में भी नहीं आया कोई केस सामने

इन सभी 11 जिलों में से पहले 6 जिले तो बेहद चौकाने वाली स्थिति में हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इन सभी 6 जिलों ( कुशीनगर, बलिया, चन्दौली, सोनभद्र, चित्रकूट ललितपुर ) की सीमा दूसरे राज्यों से लगती है. बलिया और चंदौली की सीमा बिहार से जबकि सोनभद्र, चित्रकूट, ललितपुर और हमीरपुर की सीमा मध्य प्रदेश से लगती हैं. लेकिन, अभी तक इन जिलों में कोरोना का कोई केस सामने नहीं आया है.



कानपुर से सटे इन जिलों में कोई केस नहीं
कोरोना से बचे वे जिले जिनकी सीमा किसी दूसरे राज्य से नहीं लगती वहां भी कम चौंकाने वाली बात नहीं है. हमीरपुर, फतेहपुर, फर्रूखाबाद, अमेठी और अम्बेडकरनगर की सीमा भले ही किसी दूसरे राज्य से नहीं लगती लेकिन, इन जिलों की सीमा यूपी के जिन जिलों से लगती है वहां कोरोना के केस अच्छे खासे मिले हैं. फतेहपुर जिला कानपुर के नजदीक हैं, जहां कोरोना के 256 मामले अभी तक सामने आ चुके हैं.

यहां के निवासी मसूस कर रहे हैं राहत

हमीरपुर की सीमा भी कानपुर से लगती है फिर भी ये जिला अभी तक बचा हुआ है. इसी तरह अम्बेडकरनगर की सीमा जिन जिलों से लगती है उन सभी जिलों में कोरोना के केस आ चुके हैं. फर्रूखाबाद और अमेठी की भी यही कहानी है. इन जिलों के बाशिन्दों के लिए इस संकट काल में ये किसी संजीवनी से कम नहीं है. हालांकि अभी तक कोरोना के केस सामने न आने का ये कतई मतलब नहीं है कि मामले सामने नहीं आयेंगे. हमने देखा है कि किस तरह दो महीने में यूपी के एक एक करके जिले वायरस की चपेट में आते चले गये.

ये भी पढ़ें: UP की महिला ने MP के डायल-100 से कहा-मेरे भाई को टीबी है,मदद कीजिए प्लीज

Lockdown 3.0: नोएडा में आज से खुलेंगे दफ्तर, धार्मिक सभाओं और रैलियों पर बैन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज