लाइव टीवी

COVID-19: यूपी की जेलों से कैदियों को छोड़ेने की प्रक्रिया शुरू, सोनभद्र से 27 व लखनऊ से 50 बंदी रिहा
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 28, 2020, 10:51 PM IST
COVID-19: यूपी की जेलों से कैदियों को छोड़ेने की प्रक्रिया शुरू, सोनभद्र से 27 व लखनऊ से 50 बंदी रिहा
लखनऊ जेल से छोड़े गए 50 बंदी

सात साल से कम सज़ा वाले अपराध में जेल में बंद 8500 विचाराधीन बंदियों को अंतरिम जमानत (Interim bail) और निजी मुचलके (personal bond) पर 8 हफ्ते के लिए छोड़ा जाएगा तो वहीं सात साल से कम की सज़ा पाए 2500 सजायाफ्ता कैदियों को 8 हफ्ते की पैरोल (parole) पर छोड़ा जाएगा.

  • Share this:
लखनऊ. सोनभद्र जेल से 27 और लखनऊ जेल से 50 बंदियों को छोड़ने के साथ यूपी की जेलों से बंदियों को छोड़ने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. बता दें कि जेलों में कोरोना संक्रमण के चलते सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक रिट याचिका का सुप्रीम कोर्ट ने 23 मार्च को स्वतः संज्ञान (Suo Moto cognizance) लिया था और जेलों में भीड़-भाड़ कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सभी राज्यों को एक कमेटी बनाकर 7 साल से कम सजा वाले कैदियों, बंदियों को ज़मानत और पैरोल पर छोड़ने के निर्देश दिए थे.

फिलहाल 8 हफ्ते के लिए छोड़े जाएंगे बंदी
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने राज्यों को एक अहम निर्देश दिया था कि सात साल से कम की सज़ा पाए या सात साल से कम की सज़ा के आरोपों में जेल में बंद अंडर ट्रायल (Under Trial) कैदी (Prisoner) व 65 साल से ऊपर की उम्र के कैदियों को नियमों व शर्तों के दायरे में रहते हुए छोड़ दिया जाए. निर्देश के मुताबिक सभी राज्य सरकारों को एक उच्च शक्ति समिति का गठन करने को कहा गया था जो यह निर्धारित करेगी कि किन कैदियों/अपराधियों को इन हालातों में सशर्त जमानत (Conditional bail) दी जा सकती है.

सुप्रीम कोर्ट के इसी निर्देश के बाद उत्तर प्रदेश शासन ने एक समिति का गठन किया था. 27 मार्च को हाईकोर्ट के जस्टिस पंकज कुमार जायसवाल की अध्यक्षता में इस समिति की बैठक संपन्न हुई जिसमें उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी और डीजी जेल आनंद कुमार शामिल हुए. समिति ने विचार के बाद यूपी की 71 जेलों में बंद 8500 विचाराधीन बंदी और 2500 सज़ायाफ्ता कैदियों को 8 हफ्तों के लिए तत्काल छोड़ने का निर्देश दिया गया. जिसके अनुपालन में आज लखनऊ व सोनभद्र जेल से कैदियों को रिहा करने का काम शुरू किया गया.



गौरतलब है कि सात साल से कम सज़ा वाले अपराध में जेल में बंद 8500 विचाराधीन बंदियों को अंतरिम जमानत और निजी मुचलके पर 8 हफ्ते के लिए छोड़ा जाएगा तो वहीं सात साल से कम की सज़ा पाए 2500 सजायाफ्ता कैदियों को 8 हफ्ते की पैरोल पर छोड़ा जाएगा. आपको बताते चलें कि यूपी की 71 जेलों में 1.1 लाख कैदी फिलहाल बंद है. डीजी जेल आनंद कुमार के मुताबिक अब प्रभावी रूप से  11 हजार बंदियों को छोड़े जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.



ये भी पढ़ें- COVID-19: खतरे के मद्देनजर जेलों से रिहा किए जाएंगे कैदी, सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बन रही लिस्ट...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 10:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading