लाइव टीवी

COVID-19: यूपी 112 सेवा की इस महिला कांस्टेबल के जज्बे को ADG ने किया सलाम, जानिए क्या है पूरा मामला
Kanpur News in Hindi

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 25, 2020, 4:34 PM IST
COVID-19: यूपी 112 सेवा की इस महिला कांस्टेबल के जज्बे को ADG ने किया सलाम, जानिए क्या है पूरा मामला
यूपी 112 की पुलिस रिस्पांस व्हीकल पर तैनात महिला सिपाही मनीषा पवार

एडीजी असीम अरुण (ADGP Aseem Arun) के मुताबिक हालातों और महिला सिपाही के कर्तव्यों के प्रति सजगता को देखते हुए उसे हापुड़ में संबद्ध किया गया है. एडीजी ने कहा कि उसकी बात सुनकर इस कठिन समय में मुझे सूरज की किरण दिखी, अपने युवाओं पर विश्वास बढ़ा.

  • Share this:
लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार रात 8 बजे देश में 21 दिन के लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की. इसी के साथ सभी देशवासियों से लॉकडाउन में सहयोग की अपेक्षा भी की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि रात 12 बजे जो जहां है, वहीं पर रुक जाए और लॉकडाउन से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें. लेकिन लॉकडाउन के समय आकस्मिक सेवाओं में शामिल पुलिस पर जिम्मेदारी और बढ़ जाती है. इसी लॉक डाउन के समय कर्तव्य निभाने का ऐसा ही एक मामला सामने आया है.

दरअसल यूपी पुलिस (UP Police) की इमरजेंसी सेवा यूपी 112 के एडीजी असीम अरुण और कानपुर नगर में यूपी 112 की पुलिस रिस्पांस व्हीकल पर तैनात महिला सिपाही मनीषा पवार ने संकट की इस घड़ी में कर्तव्य की मिसाल पेश की है. मनीषा पवार 18 मार्च को 7 दिन के आकस्मिक अवकाश पर कानपुर से अपने गृह जनपद हापुड़ गई थीं.

एडीजी असीम अरुण ने बताया कि कल रात प्रधानमंत्री जी के 21 दिन के लॉक डाउन घोषणा सुनने के बाद मनीषा पवार ने व्हाट्सएप के माध्यम से एक प्रार्थना पत्र दिया, जिसमें 21 दिनों के लिए जो जहां हैं वहीं रुक जाने का ज़िक्र था. मनीषा ने लिखा था कि उसको कानपुर पहुंचने में दिक्कत होगी, लिहाजा मनीषा ने एडीजी से गुजारिश की कि संकट के इस दौर में उसे हापुड़ जिले में ही सेवा का मौका दिया जाए. मनीषा के प्रार्थना पत्र पर असीम अरुण ने फौरन उसे हापुड़ संबद्ध करने का आदेश जारी कर दिया. लॉक डाउन ख़त्म होते ही मनीषा स्वतः अपने तैनाती के जिले कानपुर चली जाएगी.

ADG Aseem Arun
यूपी 112 सेवा के अपर पुलिस महानिदेशक असीम अरुण




एडीजी ने किया जज्बे को सलाम

असीम अरुण के मुताबिक हालातों को ध्यान में रखते हुए और महिला सिपाही के कर्तव्यों के प्रति सजगता को देखते हुए उसे हापुड़ में संबद्ध किया गया है. एडीजी ने कहा कि उसकी बात सुनकर इस कठिन समय में मुझे सूरज की किरण दिखी, अपने युवाओं पर विश्वास बढ़ा. मैंने उसे हापुड़ में लॉकडाउन तक के लिए सम्बद्ध कर दिया है. मुझे पूरा विश्वास है कि मनीषा और उस जैसे युवा कोरोना की लड़ाई डट कर लड़ेंगे. मनीषा को मेरा– जय हिन्द.

ये भी पढ़ें:

COVID-19: शिया बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी अस्पताल में भर्ती, लिया गया सैंपल

COVID-19: यूपी की जेलों ने बनाया रिकॉर्ड, 10 दिन में बनाए सवा लाख Mask

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 4:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर