लाइव टीवी

COVID-19: ये हैं कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे लखनऊ के अज्ञात योद्धा
Lucknow News in Hindi

Alauddin | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 26, 2020, 2:41 PM IST
COVID-19: ये हैं कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे लखनऊ के अज्ञात योद्धा
कोरोना संकट से लगातार लोहा ले रहे हैं ये लखनऊ के डॉक्टर्स

लखनऊ (Lucknow) में कई सारे ऐसे चिकित्सक हैं, जो अपनी निजी जिंदगी को त्याग कर लगातार मानव सेवा और राष्ट्र सेवा में लगे हुए हैं.

  • Share this:
लखनऊ. कोरोना (COVID-19) के भारत में बढ़ते प्रकोप के बीच में स्वास्थ्य कर्मी राष्ट्र रक्षक के रूप में नजर आ रहे हैं. न सिर्फ पूरे देश में बल्कि उत्तर प्रदेश के भी स्वास्थ्य कर्मी अपनी निजी जिंदगी को सामने न रखते हुए लगातार इस बात की कोशिश कर रहे हैं कि इस महामारी में वह अपना कोई न कोई योगदान दें. बता दें उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में कोरोना के कुल 8 केस मिले हैं, जबकि बॉलीवुड किसिंग कनिका कपूर (Kanika Kapoor) के आने के बाद से सैकड़ों लोग स्कैनर पर चल रहे हैं. कई सारे ऐसे चिकित्सक हैं, जो अपनी निजी जिंदगी को त्याग कर लगातार मानव सेवा और राष्ट्र सेवा में लगे हुए हैं. ऐसे ही कुछ लोगों की कहानी न्यूज़18 आम जनता को बताना चाहता है.

24 घंटे में सिर्फ 3 घंटे की नींद, न बच्चों से बातचीत न पत्नी से मुलाकात

lko Dr negi
लोकबंधु अस्पताल के निदेशक डॉ (मेजर) देवेंद्र सिंह नेगी




उत्तराखंड में नैनीताल के मूल निवासी डॉ देवेंद्र सिंह नेगी उत्तर प्रदेश में चिकित्सा सेवा संवर्ग में वरिष्ठ पद पर कार्यरत हैं. उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग में दो दशक से ज्यादा को अपनी सेवाएं दे चुके हैं. उन्होंने सेना में भी अपनी सेवाएं दी हैं. मौजूदा वक्त में वह लोकबंधु अस्पताल के निदेशक हैं, साथ ही डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल में भी निदेशक पद को संभाल रहे हैं. डॉ नेगी की पत्नी भी जानी मानी चिकित्सक हैं. डॉक्टर नेगी लगातार कोरोना से जंग लड़ रहे लोगों की मदद कर रहे हैं. लोकबंधु अस्पताल में बनाए गए 300 बेड के क्वॉरेंटाइन सेंटर के इंचार्ज भी हैं. विदेश से आने वाले जितने भी लोग हैं वह लोकबंधु अस्पताल में ही रखे गए हैं.



डॉ नेगी से न्यूज़18 ने जब पूछा कि आप कोरोना से चल रही जंग के बीच में निजी जिंदगी में तालमेल कैसे बिठा रहे हैं? तो उन्होंने कहा कि "हम चिकित्सकों के लिए मानव जीवन को बचाना ही सर्वोपरि है और शायद ही वह 24 घंटे में 3 से 4 घंटे की नींद ही ले पाते हैं. बच्चों से भी इस दौरान बातचीत नहीं हो पाती है. यहां तक की अपनी चिकित्सक पत्नी से भी कम ही मुलाकात कर पा रहे हैं."

'अभी कुछ भी निजी नहीं, सब इस समाज के लिए'

lko Dr Narendra Agarwal
लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ नरेंद्र अग्रवाल


डॉ नरेंद्र अग्रवाल उत्तर प्रदेश चिकित्सा एवं स्वास्थ्य संवर्ग के अधिकारी हैं और मौजूदा वक्त में लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) का पद संभाल रहे हैं. कोरोना वायरस के प्रकोप की शुरुआत के साथ ही लखनऊ के सीएमओ के ऊपर सबसे ज्यादा जिम्मेदारियां आन पड़ी हैं. काम के बीच मे दिन और रात कब बीत जाता है डॉ नरेंद्र अग्रवाल को पता ही नहीं चलता है. दिन और तारीख इतने तेज़ी से बढ़ रहे हैं कि कुछ पता ही नहीं चलता है.
न्यूज़18 से बातचीत में उन्होंने कहा कि "ऐसी ही परिस्थितियों के लिए हमें तैयार किया जाता है. उन्हें खुशी है कि इस जंग में मैं अपना कुछ सहयोग दे पा रहा हूं. जबसे कोरोना का प्रकोप आया है, तब से दोनों फोन दिन-रात बजते हैं. वह लगातार लोगों से संपर्क में हैं साथ ही शासन की प्राथमिकताओं को भी जमीन पर लागू करवाना उनके सबसे बड़ी जिम्मेदारी है. देर रात में सोना और सुबह 4 बजे से ही काम पर लग जाना उनकी पिछले कुछ हफ्तों से दिनचर्या बन गई है." निजी जिंदगी के सवाल पर वो कहते हैं "अभी कुछ भी निजी नहीं, सब कुछ इस समाज के लिए है."

'ये वक़्त इम्तिहान का, हम मिलकर हर हाल में कामयाब होंगे'

lko dr ashutosh
सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षकडॉ आशुतोष कुमार दुबे


उत्तर प्रदेश में सरकारी डॉक्टरों के संगठन पीएमएस संघ में भी जिम्मेदारी संभालने के साथ डॉ आशुतोष कुमार दुबे सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक भी हैं. डॉ आशुतोष दुबे स्वभाव से सरल और मृदुल हैं. कोरोना वायरस का प्रकोप की खबर के बीच सिविल हॉस्पिटल में सबसे पहले 25 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया था. डॉ आशुतोष कुमार दुबे की पत्नी भी पेशे से चिकित्सक हैं. डॉ आशुतोष दुबे इन दिनों 24 घंटे में से 20 घंटे का समय अस्पताल को दे रहे हैं. लगातार फोन पर लोगों की परेशानियों को हल करना, देर रात में सोना और सुबह 4 बजे से उठकर फिर से इस महामारी से लड़ने की रणनीति और जद्दोजहद तैयार करना इन दिनों उनका काम है. सरकार के दिशानिर्देशों को जमीन पर उतारने से लेकर नया रोडमैप तैयार करना और सरकारी अधिकारियों को इस बारे में सूचित करने का भी काम आशुतोष करते हैं.

डॉ आशुतोष न्यूज़18 से कहते हैं कि " ये वक़्त इम्तिहान का है और हम मिलकर हर हाल में कामयाब होंगे. हम चिकित्सक, पैरामेडिकल और सभी स्वास्थ्य कर्मी मिलकर कोरोना को हराने में निश्चित तौर पर सफल होंगे. अगर हमें अभी और कठोर मेहनत करना पड़े तो हम तैयार हैं."

ये भी पढ़ें:

जमाखोरों, कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ जरूरत पड़ने पर लगेगा NSA: सीएम योगी

Lockdown: लखनऊ में उतरी 8000 डिलिवरी ब्वाॅय की 'फौज', कॉल कर मंगायें सामान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 2:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading