COVID-19: जरूरतमंद बच्चों की मदद को आगे आई UP सरकार, इन नंबरों पर दे सकते हैं सूचना

कोरोना काल में कई बच्चों के माता-पिता नहीं बचे हैं, ऐसे में यूपी सरकार ने उनकी सहायता के लिए हाथ बढ़ाए हैं.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

कोरोना काल में कई बच्चों के माता-पिता नहीं बचे हैं, ऐसे में यूपी सरकार ने उनकी सहायता के लिए हाथ बढ़ाए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

Lucknow News: यूपी सरकार की चाइल्ड वेलफेयर कमेटी हर ज़िले में ऐसे बच्चों तक पहुंचकर उनके खाने पीने से लेकर इलाज और शिक्षा की व्यवस्था करेगी. स्कॉलरशिप स्कीम के तहत हर परिवार को 2000 रुपये प्रतिमाह की मदद भी की जाएगी.

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कोरोना काल (COVID-19) में मौतों से बिखर रहे परिवारों को संभालने के लिए नई पहल शुरू की है. सरकार ने ऐलान किया है कि उत्तर प्रदेश में अगर किसी बच्चे के माता-पिता दोनों या दोनों में से किसी एक की मौत हुई हो या वो अस्पताल में भर्ती हों तो ऐसे बच्चों की मदद यूपी सरकार करेगी. यूपी सरकार में निदेशक महिला एवं बाल कल्याण मनोज राय ने बताया कि अगर किसी को ऐसे बच्चों की जानकारी हो तो वो महिला हेल्पलाइन नम्बर-181 या चाइल्ड हेल्पलाइन-1098 पर सूचना दे.

उन्होंने बताया कि चाइल्ड वेलफेयर कमेटी हर ज़िले में ऐसे बच्चों तक पहुंचकर उनके खाने पीने से लेकर इलाज और शिक्षा की व्यवस्था करेगी. इसके अलावा स्कॉलरशिप स्कीम के तहत प्रत्येक परिवार को 2000 रुपये प्रतिमाह की मदद भी की जाएगी.

प्रदेश में ऑक्सीजन की रिकॉर्ड उपलब्धतता

उधर दूसरी तरफ कोरोना के खिलाफ जंग में योगी सरकार पूरी ताकत झोंके हुए है. प्रदेश में ऑक्सीजन की किल्लत दूर करने के लिए रिकॉर्ड उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा रही है. अपर मुख्य सचिव, गृह  अवनीश कुमार अवस्थी ने गुरुवार को बताया कि आज की तारीख में उत्तर प्रदेश ऑक्सीजन की 1000 मीट्रिक टन की रिकॉर्ड उपलब्धता वाला प्रदेश बन गया है. प्रदेश में ऑक्सीजन की किल्लत जल्द दूर होगी. उत्तर प्रदेश की सरकार पूरी तरह ऑक्सीजन की प्रचुर उपलब्धता के लिए कटिबद्ध है. वह चाहे अस्पतालों के लिए हो या होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों के लिए हो.

Youtube Video

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री का स्पष्ट आदेश है कि किसी भी हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी ना आए और सभी जरूरतमंदों तक ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा पहुंचे. जिसके तहत हमने युद्ध स्तर पर ऑक्सीजन के लिए प्रयास किया और ऑक्सीजन की प्रचुर आपूर्ति को सुनिश्चित जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज