COVID 19 Vaccination: यूपी के 225 केंद्रों पर बुजुर्गों व 45 साल के ऊपर वाले लोगों को टीका लगाने के ल‍िए ऐसे होगा रजिस्ट्रेशन

सरकारी अस्पतालों में टीका फ्री लगाया जा रहा है जबकि निजी अस्पतालों में वैक्सीन के लिए 250 रुपये प्रति डोज देना होगा.(सांकेतिक तस्वीर)

सरकारी अस्पतालों में टीका फ्री लगाया जा रहा है जबकि निजी अस्पतालों में वैक्सीन के लिए 250 रुपये प्रति डोज देना होगा.(सांकेतिक तस्वीर)

Corona Vaccination: राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ अशोक कुमार घई ने बताया कि बुजुर्गों व बीमारों को टीका लगवाने के लिए कोविन एप पर पंजीकरण करवाना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 1, 2021, 12:05 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) का दूसरा चरण सोमवार से शुरू हो रहा है. उत्तर प्रदेश के सभी 75 जिलों के 225 केंद्रों पर आज से बुजुर्ग व 45 वर्ष से ऊपर  बिमारियों से ग्रस्त मरीजों का टीकाकरण शुरू होगा. दूसरे चरण में 23 हजार लाभार्थियों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है. दूसरे चरण में प्राइवेट अस्पतालों में भी कीमत अदा कर टीका लगवाया जा सकता है. इसके लिए एक खुराक कीमत 250 रुपए है. यानी दोनों खुराक के लिए 500 रुपए चुकाने होंगे।केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने प्राइवेट अस्पतालों की लिस्ट भी जारी कर दी है. प्राइवेट अस्पतालों में 4 मार्च से टीकाकरण शुरू होगा.

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ अशोक कुमार घई ने बताया कि बुजुर्गों व बीमारों को टीका लगवाने के लिए कोविन एप पर पंजीकरण करवाना होगा. पंजीकरण के लिए मोबाइल नंबर व पहचान पत्र अनिवार्य होगा। उन्होंने बताया कि 59 साल कुछ माह करने वाले ऐसे लोग जो 2021 में 60 साल की उम्र पूरा कर रहे हों उन्हें भी लाभ मिलेगा. शहरी क्षेत्र में लोग स्वयं पंजीकरण करवा सकते हैं. लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में आशा-एएनएम व अन्य कार्यकर्ताओं की मदद ली जाएगी. सरकारी अस्पतालों में टीका मुफ्त होगा, लेकिन निजी अस्पतालों में एक खुराक के लिए 250 रुपए देने होंगे.

सुबह 9 बजे से होगा पंजीकरण

वैक्सीन लेने वालों के लिए कोविन पोर्टल 2.0 भी बनाया गया है. जहां ऑनलाइन पंजीकरण किया जा सकता है. सोमवार सुबह 9 बजे से पोर्टल पर पंजीकरण भी शुरू हो जाएगा. अगर कोई पंजीकरण के बाद उसे रद्द करवाना चाहता है तो यह सुविधा भी मौजूद है.
बीमारों के लिए मेडिकल सर्टिफिकेट जरुरी

45 साल से अधिक उम्र वाले ऐसे लोग जिन्हें गंभीर पुरानी बीमारियां हैं, उन्हें अस्पताल से इलाज का चिकित्सा प्रमाण पत्र लाना होगा. तभी उनका पंजीकरण व टीकाकरण हो सकेगा. केंद्र सरकार ने ऐसे  लोगों के लिए 20 बीमारियों की सूची तैयार की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज