योगी सरकार का फरमान: खांसी, जुकाम, बुखार की दवा लेने वालों की रोज डिटेल देंगे मेडिकल स्टोर
Aligarh News in Hindi

योगी सरकार का फरमान: खांसी, जुकाम, बुखार की दवा लेने वालों की रोज डिटेल देंगे मेडिकल स्टोर
यूपी सरकार की तरफ से प्रदेश के मेडिकल स्टोर्स के लिए नया फरमान जारी किया गया है.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अब आप किसी भी मेडिकल स्टोर और संचालक के पास बुखार, जुकाम और खांसी की दवा खरीदने जाएंगे तो वो आपसे पूछेगा कि आपका नाम क्या है? आप कहां रहते हैं? और आपका मोबाइल नंबर क्या है? इस जानकारी के बाद बुखार, जुकाम और खांसी की दवा के बारे में भी मेडिकल स्टोर संचालक आपसे जानकारी लेगा.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सभी मेडिकल स्टोर्स (Medical Stores) को अब खांसी, जुकाम, बुखार की दवा लेने वालों का ब्योरा राज्य सरकार को देना होगा. राज्य सरकार के औषधि प्रशासन विभाग ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इसमें सभी मेडिकल स्टोरों को कहा गया है कि जो कोई भी मेडिकल स्टोर पर बुखार, जुकाम और खांसी की दवा मांगने के लिए आए तो उसकी जानकारी सरकार को जरूर दी जाए. सरकार का इन तमाम चीजों के पीछे तर्क है कि कोविड-19 को लेकर इस कदम से ज्यादा जागरूकता फैलाई जा सकेगी. साथ ही सरकार के पास इन तमाम लोगों का डाटा भी उपलब्ध होगा और इससे स्कैन करके कोविड-19 के लोगों को लोगों की पहचान की जा सकेगी.

उत्तर प्रदेश के ड्रग कंट्रोलर एके जैन ने इस संबंध में सभी जिला औषधि प्रशासन अधिकारी को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. अब जब भी आप किसी भी मेडिकल स्टोर और संचालक के पास बुखार, जुकाम और खांसी की दवा खरीदने जाएंगे तो वो आपसे पूछेगा कि आपका नाम क्या है? आप कहां रहते हैं? और आपका मोबाइल नंबर क्या है? इस जानकारी के बाद बुखार, जुकाम और खांसी की दवा के बारे में भी मेडिकल स्टोर संचालक आपसे जानकारी लेगा.





रोज शाम 5 बजे तक मेडिकल स्टोर संचालक अपलोड करेंगे डेटा
शासन ने सभी मेडिकल स्टोर संचालकों को साफ तौर से कहा है कि तमाम डेटा रोज शाम 5 बजे तक सरकार द्वारा उपलब्ध गए पोर्टल पर अपलोड कर दें. यह डेटा सीधे राज्य सरकार को प्राप्त हो जाएगा. मेडिकल स्टोर को पोर्टल से सीधे डेटा डालने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. यानी बीच में किसी को भी डाटा को छेड़छाड़ या बदलने की इजाजत नहीं होगी. सभी मेडिकल स्टोर संचालकों को शासन के लिंक पर हर दिन शाम 5 बजे तक जानकारी देनी ही होगी.

डिटेल मिलने के बाद सरकार का ये होगा एक्शन

सरकार उम्मीद कर रही है कि इस डेटा के माध्यम से जिन लोगों में खांसी, जुकाम, बुखार के लक्षण होंगे उनसे सीधे मोबाइल पर बातचीत करके संबंधित जिले में उनको इलाज के लिए भेजा जाएगा. साथ ही कोविड-19 पर क्वारेंटाइन भी कराया जाएगा. कम संसाधन के आधार पर इस सुविधा के जरिए से ज्यादा से ज्यादा कोविड-19 की पहचान की जा सकेगी.

ये भी पढ़ें:

देश के लगभग 13 लाख प्रवासी लौटे UP, हफ्तेभर में ट्रेन से 4.3 लाख लोग आए

शोभन सरकार के अंतिम संस्कार में भीड़ पर FIR, गिरफ्तारी देने पहुंचे सपा विधायक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading