उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस का कहर, KGMU में 4 मरीजों की इलाज के दौरान मौत

यूपी में ब्लैक फंगस से चार मरीजों की मौत.

यूपी में ब्लैक फंगस से चार मरीजों की मौत.

Black Fungus Case in UP: राजधानी लखनऊ के KGMU में इलाज के दौरान चार ब्लैक फंगस मरीजों की मौत हो गई है. KGMU ने मरीजों की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस (Black Fungus) का संक्रमण बढ़ता जा रहा है. राजधानी लखनऊ के KGMU में चार ब्लैक फंगस रोगियों की इलाज के दौरान मौत हो गई है. KGMU ने 4 मरीजों की मौत की पुष्टि भी कर दी है. KGMU ने मरीजों को मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. बता दें कि KGMU में अभी तक mucormycosis अर्थात black fungus के 34 रोगी भर्ती हुए हैं. 3 नए मरीज आज भर्ती किए गए हैं. 6 रोगियों की शल्य चिकित्सा (surgery) की जा चुकी है. एक मरीज का सफलतापूर्ण उपचार कर उसे डिसचार्ज भी किया गया है.

इधऱ, राज्य सरकार की ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ की नीति कोरोना संक्रमण की रोकथाम में अत्यन्त उपयोगी सिद्ध हो रही है. कोविड-19 से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को प्रभावी ढंग से जारी रखने के निर्देश दिए गए है. सरकार का कहना है कि 30 अप्रैल के के मुकाबले वर्तमान में एक्टिव मामलों की संख्या में 56 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है. प्रदेश में अब तक 4.52 करोड़ से अधिक कोरोना टेस्ट किए जा चुके है.

सरकार ने जारी किए अहम निर्देश

सरकार ने निगरानी समितियों द्वारा प्रत्येक लक्षणयुक्त तथा संदिग्ध संक्रमित व्यक्ति
को मेडिकल किट उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए है. रैपिड रिस्पाॅन्स टीम द्वारा

24 घण्टे के अन्दर ऐसे व्यक्तियों का एण्टीजन टेस्ट किया किया जाएगा. कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को पोस्ट कोविड अवस्था में भी बेहतर उपचार उपलब्ध कराने के लिए सभी जनपदों में पोस्ट कोविड-19 वाॅर्ड बनाए जाएंगे. सभी जनपदों में ब्लैक फंगस की दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी.

ये भी पढ़ें: UP Corona Guidelines: सिर्फ 25 लोगों की मौजूदगी में होगी शादी, प्रोटोकॉल का पालन जरूरी



सभी राजकीय मेडिकल कॉलेजों में 100 बेड का पीकू स्थापित किये जाने के निर्देश दिए गए है. प्रत्येक जनपद में भी 25 बेड का पीकू स्थापित किया जाएंगे. जीरो वेस्टेज को ध्यान में रखकर कोविड वैक्सीनेशन कार्यवाही का संचालन करने के निर्देश दिए गए है. मरीजों से निर्धारित दर से अधिक धनराशि लेने वाले

निजी अस्पतालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी. सभी जनपदों में ऑक्सीजन की पर्याप्त बैकअप के साथ उपलब्धता रहेगी. सभी शिक्षण संस्थाओं में 20 मई से ऑनलाइन क्लास का संचालन प्रारम्भ किये जाने के निर्देश दिए गए है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज