मुन्ना बजरंगी मर्डर केस: DIG आगरा जेल करेंगे घटना की जांच

उपमहानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) प्रवीन कुमार

उपमहानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) प्रवीन कुमार

उधर घटना के फौरन बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, 'जेल में हुई हत्या बहुत गंभीर मामला है. मामले की गहराई से जांच होगी. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.'

  • Share this:

बागपत जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गई. जेल परिसर में हत्या के बाद हड़कंप मच गया. घटना के बाद लखनऊ में गृह विभाग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए राज्य के पुलिस उपमहानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) प्रवीन कुमार ने बताया कि मुन्ना बजरंगी मर्डर केस की जांच आगरा जेल के डीआईजी को सौंपी गई है. इस मामले में जेल बागपत जेल प्रशासन ने आरोपी सुनील राठी के खिलाफ केस दर्ज करवाया है. जेल में मौजूद चश्मदीदों के आधार पर सुनील ने ही मुन्ना बजरंगी को गोली मारी है. मौके से 10 कारतूस बरामद किए गए है. पुलिस और फॉरेंसिक टीम जांच कर रही है. 24 घंटे बाद कुछ तथ्य निकलकर सामने आ पाएगा.

मामले में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. एडीजी जेल चंद्र प्रकाश ने कहा कि सुबह 6 बजे बागपत जेल के अंदर झगड़े के दौरान मुन्ना बजरंगी को गोली मारी गई. गोली सुनील राठी ने मारी है. इसके बाद उसने हथियार को गटर में फेंक दिया. एडीजी जेल ने कहा कि ये घटना जेल की सुरक्षा में गंभीर चूक है. मामले में जेलर उदय प्रताप सिंह, डिप्टी जेलर शिवाजी यादव, हेड वार्डन अरजिन्दर सिंह, वार्डन माधव कुमार को निलंबित कर दिया गया है. पूरी घटना की न्यायिक जांच होगी. वहीं पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल के साथ वीडियो रिकॉर्डिंग में होगा.

उन्होंने कहा कि मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को सूचित कर दिया गया है. पोस्टमॉर्टम एनएचआरसी के दिशा-निर्देशाें के आधार पर भी किया जाएगा. वहीं पूरे मामले की जांच के लिए टीमें पहुंच चुकी हैं. दरअसल सोमवार को मुन्ना बजरंगी की पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में बागपत कोर्ट में पेशी होनी थी. उसे रविवार को झांसी से बागपत लाया गया था. पेशी से पहले ही जेल में उसे गोली मार दी गई. 7 लाख का इनामी बदमाश रह चुका सुपारी किलर मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या से हड़कंप मचा है.



उधर घटना के फौरन बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, 'जेल में हुई हत्या बहुत गंभीर मामला है. मामले की गहराई से जांच होगी. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.'
बता दें मुन्ना बजरंगी पर 40 हत्याओं, लूट, रंगदारी की घटनाओं में शामिल होने का केस दर्ज है. मुन्ना बजरंगी पूरे यूपी की पुलिस और एसटीएफ के लिए सिरदर्द बना हुआ था. वह लखनऊ, कानपुर और मुंबई में क्राइम करता था. सरकारी ठेकेदारों से रंगदारी और हफ्ता वसूलने का भी आरोप था.

यह भी पढ़ें:

अखिलेश का बीजेपी पर निशाना, कहा- ये है कैंची वाली सरकार, हमारे कामों का काट रही फीता

नोएडा में सैमसंग की मोबाइल फैक्ट्री से मिलेगा 70 हजार रोजगार

मुन्ना बजरंगी मर्डर: डाॅन से माननीय बनने का सपना रह गया अधूरा

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज