लाइव टीवी

'डॉ. बम' गिरफ्तार, पैरोल खत्म होने से पहले हुआ था गायब
Lucknow News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 17, 2020, 5:16 PM IST
'डॉ. बम' गिरफ्तार, पैरोल खत्म होने से पहले हुआ था गायब
मुंबई सीरियल ब्लास्ट का दोषी आतंकी जलीस अंसारी.

देश भर में कई सीरियल ब्लास्ट को अंजाम देने वाला आतंकी जलीस अंसारी अजमेर की जेल में सजा काट रहा था. पुलिस के मुताबिक वो पैरोल पर बाहर था और अपने परिवारवालों से मिलने के लिए मुंबई गया था, लेकिन पैरोल खत्म होने से ठीक एक दिन पहले घरवालों ने पुलिस को बताया कि वो लापता हो गया है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2020, 5:16 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह (OP Singh) ने बताया कि डॉ बम (Dr Bomb) के नाम से कुख्यात जलीस अंसारी (Jalees Ansari) गिरफ्तार कर लिया गया है. आजीवन कारावास पाए जलीस अंसारी 21 दिन के परोल से गायब हो गया था. मुंबई एटीएस (Mumbai STF) की जानकारी पर एसटीएफ ने उसे कानपुर (Kanpur) की एक मस्जिद से निकलते समय गिरफ्तार किया.

बता दें कि 1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट समेत कई ब्लास्ट में वह शामिल था. 26 दिसंबर को 21 दिन की परोल पर अजमेर जेल से छूटा था. 17 जनवरी को जेल पहुंचना था लेकिन नहीं पहुंचा.

कौन है 50 से ज्यादा ब्लास्ट को अंजाम देने वाला आतंकी 'डॉक्टर बम'?
देश भर में कई सीरियल ब्लास्ट को अंजाम देने वाला आतंकी जलीस अंसारी अजमेर की जेल में सजा काट रहा था. पुलिस के मुताबिक वो पैरोल पर बाहर था और अपने परिवारवालों से मिलने के लिए मुंबई गया था, लेकिन पैरोल खत्म होने से ठीक एक दिन पहले घरवालों ने पुलिस को बताया कि वो लापता हो गया है. अंसारी ने देश भर में 50 से ज्यादा बम धमाकों को अंजाम दिया था. आइए जानते हैं कि क्यों जलीस अंसारी को लोग 'डॉक्टर बम कहते थे और उस पर क्या-क्या आरोप थे.

>>आतंकी जलीस अंसारी को लोग डॉक्टर बम के नाम से जानते थे. दरअसल, अंसारी एक क्वालिफाइड एमबीबीएस डॉक्टर था, लेकिन मरीज का इलाज करने के बजाय उसे बम धमाके में महारत हासिल थी. देश भर में उसने 50 से ज्यादा सीरियल ब्लास्ट को अंजाम दिए, जिसमें सैकड़ों निर्दोष लोगों की जानें गई. लिहाजा लोग उसे 'डॉक्टर बम' कहने लगे

>> अंसारी इन दिनों अजमेर की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है. 5 और 6 दिसंबर को उसने राजस्थान में 6 अलग-अलग जगहों पर बम ब्लास्ट करवाया था, जहां कई लोगों की मौत हो गई थी.

>> साल 1994 में पहली बार सीबीआई ने अंसारी को राजधानी एक्सप्रेस में बम रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था.


ये भी पढ़ें-

RSS स्वयंसेवकों से बोले भागवत- काशी-मथुरा मंदिर एजेंडे में न था, न है : सूत्र

मुजफ्फरनगर में प्रदर्शन और हिंसा में गिरफ्तार 54 लोगों को नहीं मिली राहत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 4:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर