यूपी के इन 56 जिलों में बेहद कम बारिश से हालात चिंताजनक, सरकार हुई अलर्ट
Lucknow News in Hindi

यूपी के इन 56 जिलों में बेहद कम बारिश से हालात चिंताजनक, सरकार हुई अलर्ट
सांकेतिक तस्वीर Image: (Reuters)

पिछले साल 40 फीसदी से कम बारिश वाले सिर्फ 6 जिले थे, लेकिन इस बार ये संख्या 30 तक पहुंच गई है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश में मॉनसून की बेरुखी के चलते कई जिले भयंकर सूखे की चपेट में आते दिख रहे हैं. जुलाई का महीना खत्म होने को आया है, लेकिन अब तक कई जिले ऐसे हैं, जहां 5 फीसदी भी बारिश नहीं हुई है. स्थिति ये है कि उत्तर प्रदेश खरीफ की बोआई व रोपाई के मामले में देश के दूसरे राज्यों से​ पिछड़ गया है. उधर बेहद कम बारिश को देखते हुए यूपी सरकार भी अलर्ट हो गई है. कृषि निदेशालय ने हालात पर नजर रखने के लिए अधिकारियों को अलर्ट जारी कर दिया है.

मौसम विभाग के अनुसार बुंदेलखंड में चित्रकूट से लेकर पूर्वांचल में चंदौली, कुशीनगर और पश्चिम उत्तर प्रदेश में मैनपुरी, कासगंज, गाजियाबाद तक किसान बारिश की एक-एक बूंद के लिए तरस रहे हैं. कई जिले तो ऐसे हैं जहां, 20 प्रतिशत तक बारिश नहीं हुई है. बता दें पिछले साल 40 फीसदी से कम बारिश वाले सिर्फ 6 जिले थे, लेकिन इस बार ये संख्या 30 तक पहुंच गई है. वहीं सामान्य से 40 से 60 फीसदी कम बारिश की बात करें तो करीब 26 जिले इस श्रेणी में हैं.

इस साल सूखे की स्थिति के कारण यूपी में अभी तक करीब 37 फीसदी खेती योग्य जमीन पर ही बोआई हो सकी है. कृषि विभाग इस संबंध में जिलास्तरीय अधिकारियों से बोआई संबंधी रिपोर्ट मंगवा रहा है.
कृषि निदेशक सोराज सिंह भी कम बोआई के पीछे कम बारिश को कारण मानते हैं. उन्होंने कहा कि विभाग 31 जुलाई तक इंतजार करेगा, उसके बाद अंतिम रिपोर्ट बनेगी. उसमें बोआई की जो भी स्थिति होगी, उसे शासन को भेजा जाएगा.
सामान्य से 40 फीसदी कम बारिश से जूझ रहे 30 जिले



चित्रकूट, मऊ, चंदौली, वाराणसी, पीलीभीत, महराजगंज, संतकबीरनगर, रायबरेली, जालौन, रामपुर, बस्ती, कुशीनगर, ललितपुर, गाजीपुर, बदायूं, इटावा, देवरिया, आजमगढ़, जौनपुर, अमरोहा, कानपुर देहात, महोबा, बलिया, गौतमबुद्धनगर, फतेहपुर, औरेया, कौशांबी, गाजियाबाद, कासगंज, मैनपुरी.

सामान्य से 40-60 फीसदी कम बारिश से जूझ रहे 26 जिले

मिर्जापुर, इलाहाबाद, हमीरपुर, सीतापुर, अमेठी, अलीगढ़, संत रविदासनगर, सोनभद्र, बांदा, झांसी, बरेली, गोंडा, फिरोजाबाद, हापुड़, बिजनौर, संभल, फैजाबाद, लखनऊ, हरदोई, मेरठ, मुरादाबाद, शामली बुलंदशहर, उन्नाव, कानपुर नगर, प्रतापगढ़.

ये भी पढ़ें:

यूपी में कांग्रेस अकेले लड़ेगी लोकसभा चुनाव, गठबंधन के लिए निभाएगी 'वोट कटवा' की भूमिका!

निदा खान को दिए गए तीन तलाक को बरेली कोर्ट ने ठहराया अवैध
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज