लाइव टीवी

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में UP के पूर्व मंत्री पर ED का शिकंजा, 5 करोड़ की संपत्ति कुर्क
Lucknow News in Hindi

भाषा
Updated: January 18, 2020, 3:41 PM IST
मनी लॉन्ड्रिंग मामले में UP के पूर्व मंत्री पर ED का शिकंजा, 5 करोड़ की संपत्ति कुर्क
बसपा शासनकाल में माध्यमिक शिक्षामंत्री रहे रंगनाथ मिश्रा (फाइल फोटो)

ED ने बयान में कहा है कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सतर्कता विभाग की ओर से मिश्रा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को पढ़ने के बाद यह जांच शुरू की गई है.

  • Share this:
लखनऊ. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भ्रष्टाचार के एक नए मामले में बड़ी कार्रवाई की है. ईडी का शिकंजा बसपा शासनकाल में माध्यमिक शिक्षामंत्री रहे रंगनाथ मिश्रा (Rangnath Mishra) पर कसा है. दरअसल, ईडी (ED) ने धन शोधन के एक मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री रंगनाथ मिश्रा की पांच करोड़ रुपये कीमत की संपत्ति कुर्क की है.

जांच एजेंसी ने शनिवार को बताया कि उसने धन शोधन निषेध कानून (पीएमएलए) के तहत आदेश जारी कर इलाहाबाद में टैगोर टाउन के जॉर्ज टाउन एक्सटेंक्शन में आवासीय भूमि को कुर्क करने को कहा है. जांच एजेंसी के अनुसार, संपत्ति की कीमत बाजार में पांच करोड़ रुपये आंकी गई है. एजेंसी की यह जांच आय के ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति के मामले से जुड़ी हुई है.

परिवार के नाम पर ली थी संपत्ति

ईडी ने एक बयान में कहा, ‘रंगनाथ मिश्रा ने 2010 अपने और अपने परिवार के नाम पर यह संपत्ति ली थी.’ मिश्रा 2007-2011 तक माध्यमिक शिक्षा और आवास मंत्री थे. एजेंसी ने बयान में कहा है कि उत्तर प्रदेश सतर्कता विभाग की ओर से मिश्रा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को पढ़ने के बाद यह जांच शुरू की गई है.

लैकफेड घोटाले में भी हुए थे गिरफ्तार

गौरतलब है कि, रंगनाथ मिश्रा का नाम लैकफेड घोटाले में भी आया था और इस मामले में उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. बताया गया कि मंत्री पद पर रहने के दौरान उन्होंने आय से अधिक संपत्ति अर्जित की थी. फिलहाल ईडी रंगनाथ मिश्रा व उनके परिवारीजन द्वारा ट्रस्ट, समिति और संस्थानों के नाम पर खरीदी गई संपत्तियों के श्रोतों के बारे में जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें: CAA Protest: बंद रास्तों से छात्र परेशान, HC का निर्देश- जल्द एक्शन ले पुलिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 3:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर