बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल की ग्लोकल यूनिवर्सिटी को अटैच करने की तैयारी में ईडी

सहारनपुर से बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल. (फाइल फोटो)
सहारनपुर से बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल. (फाइल फोटो)

प्रवर्तन निदेशालय सहारनपुर में एमएलसी की ग्लोकल यूनिवर्सिटी को अटैच करने की तैयारी कर रहा है. बताया जाता है कि यूनिवर्सिटी 700 एकड़ में बनी है. इसके अलावा ईडी के निशाने पर मसूरी में एक आलीशान होटल भी है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2020, 4:11 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. सहारनपुर (Saharanpur) से बसपा (BSP) के पूर्व एमएलसी (former MLC) रहे हाजी इकबाल (Haji Iqbal) के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) की ओर से बड़ी खबर सामने आ रही है. सूत्रों ने बताया कि पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल की संपत्ति अटैच करने की तैयारी में जुटी है ईडी. बसपा के बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल पर कई तरह के आरोप है, जिनमें अवैध खनन से नामी, बेनामी संपत्ति खरीदने का भी आरोप है.

मसूरी का आलीशान होटल भी निशाने पर

बसपा का हाजी इकबाल सहारनपुर से एमएलसी था. सूत्रों ने बताया है कि प्रवर्तन निदेशालय सहारनपुर में एमएलसी की ग्लोकल यूनिवर्सिटी को अटैच करने की तैयारी कर रहा है. बताया जाता है कि ग्लोकल यूनिवर्सिटी 700 एकड़ में बनी है. इसके अलावा ईडी के निशाने पर मसूरी में एक आलीशान होटल भी है, इसे हाजी इकबाल की बेनामी संपत्ति बताया जा रहा है. सूत्रों ने बताया कि इस पूर्व एमएलसी की एमएलसी की 2500 करोड़ की संपत्तियां ईडी के निशाने पर हैं. इन संपत्तियों में कई तो बेनामी भी हैं.



कई एजेंसियां जुटी हैं जांच में
हाजी इकबाल के मामलों की जांच में आईबी, सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स, सीवीसी, सेबी, डीआरआई, सीबीडीटी, एनजीटी जैसी एजेंसियां शामिल हैं. आपको बता दें कि अवैध खनन के मामले में आरोपी है पूर्व एमएलसी मोहम्मद इकबाल. लकड़ी की टाल और फलों का कारोबार करने वाला मोहम्मद इकबाल बीते 15 सालों में सैकड़ों करोड़ का मालिक बन चुका है. अभी हाल ही में इसके खिलाफ धोखाधड़ी करने के आरोप में जनकपुरी थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है. बेहट तहसील के मीरपुर गंदेवड़ के प्रधान विश्वास कुमार ने थाना जनकपुरी में तहरीर देकर बताया कि उसने वैभव मुकुंद के साथ पार्टनरशिप में दो फर्म यमुना एग्रो सॉल्यूशन और यमुना एग्रो टेक फार्म साउथ सिटी दिल्ली रोड बनाई थी. प्रधान का आरोप है कि उनके फर्जी हस्ताक्षर और डाक्यूमेंट लगाकर पंजाब नेशनल बैंक में फर्जी खाता खोला गया. जिससे पूर्व एमएलसी की तीन कंपनियों में लाखों रुपये हस्तांतरित किए गए हैं. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज