निकाय चुनाव: समोसा, चाय 7-7 रुपए और साइकिल की सवारी 11 रुपए

Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: November 15, 2017, 2:48 PM IST
निकाय चुनाव: समोसा, चाय 7-7 रुपए और साइकिल की सवारी 11 रुपए
Demo Pic
Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: November 15, 2017, 2:48 PM IST
नगर निकाय चुनाव को लेकर प्रत्याशियों के खर्च पर चुनाव आयेाग ने सख्ती बरतने का फैसला किया है. आयेाग ने इस बार प्रत्याशियों द्वारा चुनाव प्रचार में खर्च को लेकर जो सीमा तय कर रखी है उसमें उनकी प्रचार अभियान में साइकिल की सवारी से लेकर मेहमाननवाजी की कीमत भी तय कर दी है.

जानकारी के अनुसार आयोग ने इस बार प्रत्याशी के चुनाव प्रचार में इस्तेमाल होने वाली साइकिल का खर्च 11 रुपए रोजाना तय किया है. यही नहीं प्रचार में लोगों के नाश्ते आदि के खर्च में भी समोसे और चाय की कीमत 7-7 रुपए रखी गई है. नामांकन करने के साथ ही प्रत्याशियों का चुनावी खर्च का मीटर चालू हो गया है.

पिछले दिनों लखनऊ के डीएम और जिला निर्वाचन अधिकारी कौशल राज शर्मा ने प्रत्याशियों के साथ बैठक कर उन्हें आचार संहिता का पाठ पढ़ाया. हिदायत दी कि चुनाव में किसी प्रत्याशी ने अगर बिना अनुमति प्रचार वाहन का इस्तेमाल किया या फिर सभा या रैली की तो प्रशासन सख्त कार्रवाई करेगा.

डीएम ने कहा कि कोई राजनैतिक दल या प्रत्याशी जनसभा या रैली करने से पूर्व संबंधित रिटर्निंग अफसर से अनुमति प्राप्त करेंगें. इसमें जुलूस निकालने, रूट, जुलूस शामिल वाहनों और व्यक्तियों की संख्या आदि की डिटेल देनी जरूरी होगी. साथ ही वाहनों पर झंडे पोस्टर की संख्या भी बतानी होगी. चुनाव प्रचार सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक ही किया जायेगा. कोई भी प्रत्याशी सार्वजनिक स्थल पर किसी प्रकार की होर्डिंग, वाल राइटिंग, बैनर, पोस्टर नहीं लगा सकेगा.

उम्मीदवारों के खर्च को ऐसे जोड़ेंगे

प्रचार में शामिल साइकिल - 11 रुपये रोजाना
लग्जरी गाड़ियां- 1600 रुपये प्रति गाड़ी रोजाना
जीप आदि- 1400 रुपए रोजाना
चाय - 7 रुपये
समोसा - 7 रुपए
कुर्सी - 5 रुपए प्रति पीस
सोफा - 50 रुपए प्रति पीस
गेट- 200 रुपए
कटआउट- 22 रुपये प्रति वर्ग फुट
लाउडस्पीकर - 450 रुपये

उम्मीदवारों के खर्च की सीमा

महापौर- (80 या उससे ज्यादा वार्ड वाले नगर निगम)- 25 लाख

महापौर- (80 से कम वार्ड वाले नगर निगम)- 20 लाख

पार्षद, नगर निगम-  2 लाख

अध्यक्ष, नगर पालिका परिषद - (41-55 वार्ड वाली परिषद)- 8 लाख

अध्यक्ष, नगर पालिका परिषद - (25-40 वार्ड वाली परिषद)-  6 लाख

सदस्य, नगर पालिका परिषद-  1.50 लाख

अध्यक्ष, मगर पंचायत-  1.50 लाख

सदस्य, नगर पंचायत- 30 हजार
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर