यूपी में बिजली की कीमतें बढ़ाने की तैयारी, गरीबों पर सबसे ज्यादा 53 फीसदी की गाज!

उत्तर प्रदेश में सौभाग्य योजना के जरिए गरीबों तक मुफ्त कनेक्शन की सुविधा तो पहुंचाई गई है लेकिन अब एक झटके वाली खबर भी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2019, 10:43 PM IST
यूपी में बिजली की कीमतें बढ़ाने की तैयारी, गरीबों पर सबसे ज्यादा 53 फीसदी की गाज!
इस प्रस्ताव में बिजली के दामों में सर्वाधिक बढ़ोतरी का प्रावधान गरीबों के लिए किया गया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2019, 10:43 PM IST
उत्तर प्रदेश में सौभाग्य योजना के जरिए गरीबों तक मुफ्त कनेक्शन की सुविधा तो पहुंचाई गई है लेकिन अब एक झटके वाली खबर भी है. यूपी पॉवर कॉरपोरेशन ने विद्युत नियामक आयोग को वर्ष 2019-20 में बिजली की कीमतों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव दिया है. इस प्रस्ताव में बिजली के दामों में सर्वाधिक बढ़ोतरी का प्रावधान गरीबों के लिए किया गया है.

गरीबों (बीपीएल) के लिए 53 फीसदी तक बिजली के दामों में वृद्धि का प्रस्ताव दिया गया है. वहीं घरेलू उपभोक्ताओं के लिए यह वृद्धि 23 फीसदी प्रस्तावित है तो किसानों के लिए 25 फीसदी है. उधर पावर कॉरपोरेशन के इस प्रस्ताव को उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद ने अनुचित बताया है. कॉरपोरेशन का आरोप है कि बिजली कंपनियां किसानों और गरीबों से राजस्व वसूलना चाहती हैं.

उपभोक्ता परिषद का विरोध

उपभोक्ता परिषद द्वारा यह मुद्दा उठाया गया कि प्रदेश की बिजली कम्पनियों द्वारा वर्तमान में जो राजस्व प्राप्त किया जा रहा है, वह 58403 करोड़ है. टैरिफ बढ़ोत्तरी के बाद जो राजस्व प्राप्त दिखाया जा रहा है, वह 65923 करोड़ है यानी टैरिफ हाइक से कुल 7520 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व प्राप्त होगा. इसमें से केवल घरेलू विद्युत उपभोक्ता से अतिरिक्त राजस्व 4117 करोड़ व किसानों से अतिरिक्त राजस्व 787 करोड़ मांगा गया है यानि कि कुल बढ़ोत्तरी का केवल 61 प्रतिशत भार बिजली कम्पनियां घरेलू उपभोक्ताओं और किसानों पर डाल रही हैं.

उपभोक्ता परिषद के प्रतिनिधियों की बैठक ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के साथ भी होनी थी लेकिन यह मुलाकात संभव नहीं हो पाई है. उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश वर्मा ने विद्युत नियामक आयोग के अध्यक्ष आरपी सिंह से मुलाकात कर पॉवर कॉरपोरेशन के प्रस्ताव को रद्द करने की मांग की है. प्रस्ताव पर उपभोक्ता परिषद ने लोकमहत्व जनहित प्रत्यावेदन भी दिया है.

आयुष्मान कार्ड होने के बावजूद नहीं हुआ इलाज, मरीज की मौत

मरीज बोले- काली पट्टी बांधकर इलाज करें धरती के 'भगवान'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 17, 2019, 9:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...