UP सरकार की सोशल मीडिया देखने वाली प्राइवेट कंपनी के कर्मचारी ने किया सुसाइड, लिखा- यह हत्‍या है

यूपी सरकार की सोशल मीडिया देखने वाली निजी कंपनी के कर्मचारी पार्थ श्रीवास्तव ने आत्महत्या की (File Photo)

यूपी सरकार की सोशल मीडिया देखने वाली निजी कंपनी के कर्मचारी पार्थ श्रीवास्तव ने आत्महत्या की (File Photo)

Lucknow News: सुसाइड करने वाले पार्थ ने आत्‍महत्‍या से पहले ट्वीट किया था कि यह एक हत्‍या है. हालांकि, बाद में इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया. अभी यह पता नहीं चल सका है कि पार्थ की मौत के बाद उनके ट्वीट को किसने और क्‍यों डिलीट किया?

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में यूपी सरकार (UP Government) की सोशल मीडिया देखने वाली एक निजी कंपनी के कर्मचारी पार्थ श्रीवास्तव ने बुधवार को पंखे से लटक कर जान (Suicide) दे दी. इंदिरानगर थाने के इंस्पेक्टर अजय प्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि परिजन ख़ुद पार्थ को फंदे से उतार कर लोहिया अस्पताल ले गए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया. इसके बाद परिजनों ने इसकी सूचना थाने को दी. सूचना पर पंचायतनामा भरवाकर शव का पोस्टमार्टम करवाया गया. इंस्पेक्टर के मुताबिक, अभी परिवार की ओर से आत्महत्या को लेकर कोई तहरीर नहीं मिली है.

पार्थ की बहन ने बताया कि उसे पार्थ के एक दोस्त ने बुधवार सुबह उनके आत्महत्या का ट्वीट देखकर फोन किया था. इसके बाद पार्थ का कमरा खोलकर देखा गया तो वह फंदे के सहारे पंखे से लटक रहे थे. सोशल मीडिया में पार्थ का वह ट्वीट भी वायरल हो रहा है, जिसमें उन्‍होंने अपना सुसाइड नोट पोस्ट कर लिखा है कि 'मेरी आत्महत्या एक कत्ल है.'

पार्थ ने अपनी आत्महत्या का जिम्मेदार अपने सीनियर पुष्पेंद्र को ठहराया है. उन्‍होंने एक महिला सहकर्मी शैलजा का पक्ष लेने का आरोप पुष्पेंद्र पर लगाया है. हालांकि, कुछ देर बाद ही यह ट्वीट डिलीट कर दिया गया. पार्थ ने इस ट्वीट में सरकार के एक अधिकारी को टैग भी किया था. यह बात अभी भी रहस्य बनी हुई है कि पार्थ का ट्वीट किसने डिलीट किया? पार्थ की बहन का आरोप है कि पुलिस ने पार्थ का मोबाइल कब्ज़े में लिया था, लिहाज़ा पुलिस ट्वीट डिलीट कर सकती है. मामला सरकार की सोशल मीडिया सेल देखने वाली कंपनी के कर्मचारी की आत्महत्या का था, लिहाज़ा सोशल मीडिया पर सरकार को घेरने का काम शुरू हो गया है. मामले में पूर्व आईएएस एसपी सिंह ने इस आत्महत्या पर सरकार के सूचना विभाग के अधिकारियों पर जमकर निशाना साधा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज